e0a485e0a497e0a58de0a4a8e0a4bfe0a4aae0a4a5 e0a4b8e0a58de0a495e0a580e0a4ae e0a4b8e0a587 e0a4b8e0a587e0a4a8e0a4be e0a4aee0a587

नई दिल्ली: अग्निपथ योजना (Agnipath Scheme) को लेकर न्यूज 18 से खास बातचीत में नौसेना प्रमुख आर हरि कुमार (Navy Chief R Hari Kumar) ने कहा कि इस स्कीम के चलते सेना में हर साल ज्यादा से ज्याद लोगों को भर्ती होने का मौका मिलेगा. आने वाले समय में हम हर साल 18000-20000 लोगों की भर्ती करेंगे. साथ ही 4 वर्ष की अवधि में सेना में काम करने के बाद वे रक्षा एवं अन्य सुरक्षा संस्थानों में अपना करिअर बना सकते हैं. अग्निवीर को 16 सप्ताह की बेसिक ट्रेनिंग दी जाएगी.

अग्निपथ योजना के विरोध में कुछ आलोचकों का कहना है कि, यह एक सैन्यीकृत समाज की शुरुआत है और जो लोग बाहर आएंगे वे समाज को बदलना शुरू कर देंगे. इस मुद्दे पर नौसेना प्रमुख ने कहा कि, जब अग्निवीर सेवा समाप्ति के बाद समाज में लौटता है तो वह सैनिक नहीं होता है. बल्कि उसके पास सेना में काम करने का अनुभव और कुशल प्राप्त होती है. इस बात का अंदेशा क्यों है कि उसे नौकरी नहीं मिलेगी? उसे 100 प्रतिशत नौकरी मिल जाएगी और वह उस समय केवल 22 से 23 साल का होगा.

e0a485e0a497e0a58de0a4a8e0a4bfe0a4aae0a4a5 e0a4b8e0a58de0a495e0a580e0a4ae e0a4b8e0a587 e0a4b8e0a587e0a4a8e0a4be e0a4aee0a587 1

(Image-News18)

औसत आयु कम हो जाने अच्छे सैनिक नहीं मिलने के सवाल पर नौसेना प्रमुख ने कहा कि, ऐसा नहीं होगा, क्योंकि सेना में भर्ती के लिए प्रशिक्षण प्रथम वर्ष में होता है और अगली बड़ी ट्रेनिंग 5-6 साल बाद ही होती है. इसलिए जहां तक ​​अग्निवीर का संबंध है, वह पहले से ही इसी तरह का काम करने के लिए प्रशिक्षित होगा और जो सेवा में बने हुए हैं, वे विशेषज्ञ होंगे, चाहे वह उपकरण मरम्मत या अन्य विशिष्ट क्षेत्रों में हो इसलिए 3 वर्षों में कोई बदलाव नहीं हो रहा है.

READ More...  मुंबई में मानसून का हुआ आगमन, IMD ने दी जानकारी, लोगों को मिली गर्मी से राहत

‘अग्निवीर को 16 सप्ताहों की बेसिक ट्रेनिंग मिलेगी’

लेकिन अग्निवीर को 20 के बजाय 16 सप्ताह की बेसिक ट्रेनिंग दी जाएगी. वह भर्ती के बाद एक इलेक्ट्रीशियन या मैकेनिक के रूप में अपना बुनियादी कार्यात्मक प्रशिक्षण करेगा और उसे तैनात किया जाएगा. इसके बाद वह अगले चार साल तक काम करेंगे.

अग्निपथ स्कीम से युवाओं को मिलेंगे बेहतर करियर विकल्प, न्यूज18 से बोले नौसेना प्रमुख- करगिल रिपोर्ट में दिए गए थे अहम सुझाव

आर हरि कुमार के मुताबिक, चार साल बाद अग्निवीर के लिए करियर के अवसरों का दायरा बढ़ जाएगा. न केवल एनडीआरएफ या सीआरपीएफ, सभी शिपिंग और संबंधित उद्योग उनके लिए खुले रहेंगे. टेक हैंड्स रेडियो ऑपरेटर, लॉजिस्टिक, एयरक्राफ्ट हैंडलर, मैकेनिक आदि के रूप में वे काम कर सकते हैं.

इस स्कीम को एक गेम चेंजर के रूप में पेश किया जा रहा है लेकिन युवा जॉब सिक्योरिटी की बात कर रहे हैं कि आखिरी 4 साल बाद अग्निवीर का क्या होगा. इस सवाल पर एडमिरल आर हरिकुमार ने कहा कि, पहले सेना में भर्ती होने के बाद 15-20 साल काम सेवाएं देनी होती थी लेकिन अग्निवीर के पास 4 साल या उससे पहले जाने का विकल्प होगा. दूसरी अहम बात है कि नामांकित अग्निवीर की संख्या में लगातार वृद्धि
होगी. फिलहाल हम हर साल 4000-5000 लोगों को नौसेना में भर्ती करते हैं, लेकिन जैसे-जैसे यह योजना आगे बढ़ेगी, हमें 25% को बनाए रखना होगा, इसलिए हम इस संख्या से 4 गुना भर्ती करेंगे. यानि हम हर साल 18000-20000 लोगों की भर्ती करेंगे.

READ More...  KGF Chapter 2 का रॉकी भाई बनने का चढ़ा जुनून, 15 साल के लड़के ने जमकर पी सिगरेट, पहुंचा अस्पताल

Tags: Agniveer, Indian army, PM Modi

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)