e0a485e0a4b9e0a4aee0a4a6e0a4bee0a4ace0a4bee0a4a6 e0a4aee0a587e0a482 e0a4aee0a4bfe0a4b0e0a58de0a49ce0a4bee0a4aae0a581e0a4b0 e0a495
e0a485e0a4b9e0a4aee0a4a6e0a4bee0a4ace0a4bee0a4a6 e0a4aee0a587e0a482 e0a4aee0a4bfe0a4b0e0a58de0a49ce0a4bee0a4aae0a581e0a4b0 e0a495 1

मंगला तिवारी

मिर्जापुर. बच्चों में रचनात्मकता एवं नवाचार सोच के साथ वैज्ञानिक चेतना विकसित करने के उद्देश्य से राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस का आयोजन किया जाता है. गुजरात की साइंस सिटी अहमदाबाद में आयोजित होने वाली 30वें राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस में शिवम जायसवाल मिर्जापुर का प्रतिनिधित्व करेंगे. पतंजलि ऋषिकुल प्रयागराज में आयोजित राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में शिवम का चयन किया गया है.

बता दें कि, पतंजलि ऋषिकुल प्रयागराज में राष्ट्रीय विज्ञान संचार प्रौद्योगिकी परिषद भारत सरकार के द्वारा 30वें राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस का आयोजन किया गया था. इस कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश के 37 जिलों के 82 बाल वैज्ञानिकों ने स्थानीय स्तर पर समस्या का अध्ययन विज्ञान विधि से कर के अपने शोध पत्र प्रस्तुत किये थे. इनमें से मिर्जापुर के शेमफोर्ड के नौवीं के छात्र शिवम जायसवाल की टीम का राष्ट्रीय स्तर पर चयन किया गया है. शिवम 27 जनवरी से 31 जनवरी, 2023 तक गुजरात के साइंस सिटी में अपने लघु शोध को प्रस्तुत करेंगे.

तुलनात्मक अध्ययन किया गया

शिवम जायसवाल ने प्रदूषण की समस्या का पता लगाने के लिए विंध्याचल स्थित गोसाई पुरवा व सगरा गांव में तुलनात्मक अध्ययन किया. यहां उन्होंने दोनों गावों में पर्यावरण में विभिन्न अवयवों के कारण होने वाले प्रदूषण का पता लगाया. शिवम ने बताया कि इन दोनों गांवों में बढ़ते हुए ठोस कड़ों के सांद्रता का अध्ययन किया है, और उसी पर लघु शोध पत्र प्रस्तुत किया है. शिवम ने कहा कि हमारे गांव में स्वांस रोगियों की संख्या बहुत ज्यादा है. मुझे स्वयं भी समस्या है, इसके कारण को जानने के लिए मैंने यह रिसर्च किया.

READ More...  बालाघाट के जंगल में पुलिस मुठभेड़ में 12 लाख का इनामी नक्सली ढेर, 3 राज्यों में था वॉन्टेड

जिला समन्यवक ने दी शुभकामनाएं

जिला समन्यवक सुशील कुमार पांडेय ने बताया कि शिवम जायसवाल होनहार एवं वैज्ञानिक समझ रखने वाले छात्र हैं. शिवम ने तीसवीं राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस में अपने आस-पास की समस्या को चिन्हित किया, वो बहुत ही ज्वलंत समस्या है. उसने अपने एवं पास के दो गावों में पर्यावरण में घुलने वाले जहरीले कार्बन पार्टिकल का तुलनात्मक अध्ययन किया है, और अपने द्वारा बनाई गई डिवाइस से अलग वजन की लकड़ियों को जलाकर निकलने वाले धुंए से कार्बन पार्टिकल का अध्ययन का पता लगाया. इसका चयन राष्ट्रीय स्तर के बाल विज्ञान कांग्रेस के लिए चयनित किया गया है. यह 27 से 31 जनवरी, 2023 तक अपने लघु शोध पत्र गुजरात के साइंस सिटी अहमदाबाद में प्रस्तुत करेंगे.

Tags: Mirzapur news, Scientist, Up news in hindi

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)