e0a486e0a4ae e0a4b2e0a58be0a497e0a58be0a482 e0a495e0a587 e0a4b2e0a4bfe0a48f 1 e0a4a6e0a4bfe0a4b8e0a482e0a4ace0a4b0 e0a4b8e0a587 e0a4b8
e0a486e0a4ae e0a4b2e0a58be0a497e0a58be0a482 e0a495e0a587 e0a4b2e0a4bfe0a48f 1 e0a4a6e0a4bfe0a4b8e0a482e0a4ace0a4b0 e0a4b8e0a587 e0a4b8 1

हाइलाइट्स

आम नागरिकों के लिए खुलेगा राष्‍ट्रपति भवन
सप्‍ताह में 5 दिनों के लिए खुलेगा राष्‍ट्रपति भवन
ऑनलाइन स्‍लॉट बुकिंग कराने के बाद जा सकेंगे

नई दिल्‍ली. 1 दिसंबर से राष्ट्रपति भवन (Rashtrapati Bhavan) आम लोगो के लिए सप्ताह में पांच दिन खुला करेगा. आम लोग बुधवार, गुरुवार, शुक्रवार, शनिवार और रविवार को राष्ट्रपति घूमने आ सकते है. लोगों के लिए हर दिन पांच समय तय किए गए हैं, जिन पर लोग राष्ट्रपति भवन का दौरा कर सकते हैं. ये समय 10 बजे से 11 बजे, 11 बजे से 12 बजे, 12 बजे से दोपहर 1 बजे और 2 बजे से 3 बजे का समय रहेगा.

राष्ट्रपति भवन के अलावा लोग राष्ट्रपति भवन संग्रहालय परिसर में जा सकते हैं. प्रत्येक शनिवार को लोग सुबह 8 बजे से 9 बजे तक राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में चेंज ऑफ गार्ड समारोह भी देख सकते हैं.  http://rashtrapatisachivalaya.gov.in/rbtour पर अपने स्लॉट ऑनलाइन बुक कर सकते हैं. हालांकि गज़टेड छुट्टी के दिन लोगो के लिए ये सुबिधा बंद रहेगी.

राष्ट्रपति भवन में क्या देख सकते हैं 

राष्ट्रपति भवन के तीन हिस्से हैं, जहां आम आदमी के जाने की अनुमति है. एक तो राष्ट्रपति भवन का पहला सर्किट है, जिसमें दर्शकों को राष्ट्रपति भवन की मुख्य इमारत, अशोक हॉल, दरबार हॉल, लाइब्रेरी, ड्रॉइंग रूम, नवाचार आदि चीजें दिखाई जाती हैं. दूसरे सर्किट में म्यूजियम का हिस्सा है. इसमें आपको राष्ट्रपति भवन का म्यूजियम दिखाया जाता है.

गार्ड सेरेमनी में आम आदमियों को प्रवेश दिया जाता है 

तीसरा सर्किट गार्डंस का है, जिसमें मुगल गार्डन आदि शामिल है. इसमें राष्ट्रपति भवन के गार्डन दिखाए जाते हैं. इमारत में प्रवेश नहीं होता है. साथ ही ये सेक्शन कुछ वक्त के लिए खुलता है और फरवरी-मार्च में ही इसे खोला जाता है. वहीं गार्ड सेरेमनी के लिए भी राष्ट्रपति भवन में आम आदमियों को प्रवेश दिया जाता है और इसकी बुकिंग उस वक्त ही होती है.

READ More...  वायु प्रदूषण पर लगाम नहीं लगा सकती तो इस्तीफा दे मोदी सरकार: केजरीवाल

Tags: Rashtrapati bhawan

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)