Barelly
e0a487e0a4b2e0a587e0a495e0a58de0a49fe0a58de0a4b0e0a4bfe0a495 e0a4ace0a4b8e0a58be0a482 e0a4b8e0a587 e0a4b9e0a58be0a497e0a580 930 e0a4b8 2

हाइलाइट्स

नाथनगरी कॉरिडोर में बनेगा टूरिज्म सर्किट.
आध्यात्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने का प्लान.
इलेक्ट्रिक बसों से सातों मंदिरों की परिक्रमा.

बरेली. मुख्यमंत्री के निर्देश पर बरेली की आध्यात्मिक, सांस्कृतिक विरासत को युवा पीढ़ी से रूबरू कराने और आध्यात्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए नाथ नगरी कॉरिडोर बनाया जा रहा है. मिली जानकारी के अनुसार, बरेली के नाथ मंदिरों को जोड़ते हुए 36 किलोमीटर लंबा टूरिज्म सर्किट बनाया जाएगा. टूरिज्म सर्किट में मंदिरों की परिक्रमा के लिए मिनी इलेक्ट्रिक बसें चलाई जाएंगी. जिनके जरिए श्रद्धालु सातों नाथ मंदिरों की परिक्रमा कर सकेंगे.

मंदिर को आने जाने वाले रास्ते पर शानदार फर्राटा भरने वाली चमाचम सड़कें बनाई जाएंगी. मंदिर के आसपास पिंक टॉयलेट्स बनेंगे, पार्किंग बनाई जाएगी. महाभारत कालीन बरेली के नाथ मंदिरों के इतिहास उनकी आध्यात्मिक सांस्कृतिक पहचान को दर्शाते हुए साइन बोर्ड लगाए जाएंगे. बताया जा रहा है कि नाथ शिव मंदिरों की दैवीय आभा से स्थानीय और विदेशी पर्यटक भी आकर्षित होंगे.

इससे एक और आध्यात्मिक पर्यटन बढ़ेगा, वहीं दूसरी ओर रोजगार के अवसर भी तेजी से विकसित होंगे. प्रसाद योजना के तहत इन मंदिरों के आसपास सौंदर्यकरण कर उन्हें विकसित किया जाएगा. आने-जाने वाले रास्तों पर भव्य लाइटें और साइन बोर्ड लगाकर उनकी सुंदरता को निखारा जाएगा. मंदिर आने जाने वाले रास्तों पर बस स्टॉपेज बनाए जाएंगे, जहां से लोगों को बसों में चढ़ाया और उतारा जाएगा.

शुक्रवार को बरेली कमिश्नर संयुक्ता समद्दार, वीसी बीडीए जोगिंदर सिंह ने अधिकारियों के साथ बरेली के सातों नाथ मंदिरों का निरीक्षण कर संभावनाएं तलाश की और भगवान आशुतोष की पूजा अर्चना की. संयुक्ता समद्दार के साथ क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी यशपाल, बरेली विकास प्राधिकरण के सेक्रेटरी योगेंद्र सिंह ने भी सातों मंदिरों की परिक्रमा की. कमिश्नर संयुक्ता समद्दार ने बताया कि प्रसाद योजना के तहत मंदिरों और उसके आसपास जलभराव दूर करने के लिए सड़क, पाथवे, पार्किंग बनाई जाएगी. इससे कि मंदिरों में आने वाले श्रद्धालु मंदिरों में आसानी से पूजा-अर्चना और परिक्रमा कर सकें. सुरक्षा की दृष्टि से मंदिरों में सीसीटीवी लगाए जाएंगे.

READ More...  VIDEO: एंबुलेंस के लिए पीएम मोदी ने रोका अपना काफिला, सड़क मार्ग से गांधी नगर जा रहे थे

महाभारतकालीन मंदिरों को जोड़कर बनाया जाएगा नाथ सर्किट
नाथ नगरी के मुख्य सात प्राचीन शिव मंदिर हैं. नाथ मंदिर में दर्शन करने के लिए बाहर से भक्त आते हैं. अलखनाथ मंदिर किला उत्तर दिशा में है. मढ़ीनाथ दक्षिण, धोपेश्वर नाथ मंदिर कैंट पूरब में बनखंडी नाथ पश्चिम में है. इसके अतिरिक्त प्रेमनगर में त्रिबटी नाथ मंदिर शहर के मध्य में, तपेश्वर नाथ मंदिर सुभाषनगर, गोपाला सिद्ध मंदिर क्यारा ब्लॉक में स्थित है. पीलीभीत बाइपास पर रुहेलखंड विश्वविद्यालय के पास पशुपतिनाथ मंदिर नेपाल की तर्ज पर विकसित किया गया है.

अलखनाथ मंदिर का इतिहास 930 साल से ज्यादा पुराना है. बनखंडी नाथ मंदिर का निर्माण द्वापर युग में माना जाता है. धोपेश्वर नाथ मंदिर त्रेतायुग में और मढ़ीनाथ मंदिर की स्थापना महाभारतकालीन 5000 वर्ष से पुरानी मानी जाती है. इसकी स्थापना पांडवों ने वनवास के दौरान की थी.

इन सभी नाथ सर्किट के मंदिरों को जोड़ते हुए यहां मोटर वाहन, सड़क कनेक्टिविटी, साइकिल, पथ वे एवं हेरिटेज वॉक प्रस्तावित किए गए हैं. इसके अलावा साइन बोर्ड, सिगनेचर गेट, लाइट एंड साउंड के शो भी प्रस्तावित किए जाएंगे. संबंधित विभागों एवं प्रमुख अधिकारियों की बैठक आयोजित कर नाथ नगरी कॉरिडोर योजना को मूर्त रूप दिया जा रहा है.

Tags: Bareilly hindi news, UP news, UP Tourism, UP Tourism Department, Uttar Pradesh tourism

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)

READ More...  राजस्थान: कोटा में हुई अनूठी शादी, बारात बदली नेत्रदान-महादान जागरुकता वाली की झांकी में