e0a489e0a4a4e0a58de0a4a4e0a4b0e0a4bee0a496e0a482e0a4a1 e0a495e0a580 e0a4aee0a4b9e0a4bfe0a4b2e0a4bee0a493e0a482 e0a495e0a58b e0a497
e0a489e0a4a4e0a58de0a4a4e0a4b0e0a4bee0a496e0a482e0a4a1 e0a495e0a580 e0a4aee0a4b9e0a4bfe0a4b2e0a4bee0a493e0a482 e0a495e0a58b e0a497 1

देहरादून. उत्तराखंड में सरकारी और गैर-सरकारी संस्थानों में कार्यरत महिलाओं की सुरक्षा और पंजीकरण के लिए पुलिस विभाग ने गौरा शक्ति ऐप (Gaura Shakti App Uttarakhand) शुरू कर दी है. मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी (Pushkar Singh Dhami) ने ऐप का शुभारंभ किया. सीएम ने उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार को महिला सुरक्षा पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए हैं.

अंकिता भंडारी हत्याकांड के बाद राज्य सरकार ने महिला सुरक्षा के लिए एक पहल की है. महिला सुरक्षा के मद्देनजर प्रदेश की कामकाजी महिलाओं के लिए गौरा शक्ति ऐप पर रजिस्ट्रेशन शुरू किया गया है. इस ऐप में कई तरह के फीचर्स दिए गए हैं. गौरा शक्ति ऐप के माध्यम से कामकाजी महिलाएं स्वतः पंजीकरण कर सकेंगी. इसमें निजी सेक्टर में नौकरी करने वाली महिलाएं अपनी और संस्थान की जानकारी दर्ज कर सकेंगी, जिससे राज्य सरकार के पास महिलाओं और उनसे संबंधित कंपनियों का डेटा मौजूद रहेगा.

इसके अलावा महिलाएं इसके माध्यम से अपने साथ होने वाले अत्याचार और दुर्व्यवहार की शिकायत भी कर सकती हैं. गौरव शक्ति ऐप में कई तरह की सहूलियत महिलाओं को मिलेगी. महिलाएं इसमें उपलब्ध टोल फ्री नंबर पर कॉल करके किसी भी समय मदद ले सकती हैं. वहीं इसमें नजदीकी पुलिस स्टेशन की लोकेशन और नंबर भी उपलब्ध है. ऐप में पुलिस विभाग के अधिकारियों के नंबर भी उपलब्ध हैं, जहां से महिलाएं सीधे वरिष्ठ अधिकारियों से संपर्क कर सकती हैं.

मंत्री रेखा आर्या ने कही ये बात
उत्तराखंड की महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्या ने सरकार की इस पहल को बेटियों के लिए एक अच्छा कदम बताते हुए कहा कि गौरा शक्ति ऐप महिलाओं के पास ऐप के रूप में वह शक्ति होगी, जिसके माध्यम से वे सुरक्षित रहेंगी. उन्होंने जानकारी दी कि सरकार की इस ऐप की मॉनिटरिंग शासन स्तर से की जाएगी. जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन को इसकी जिम्मेदारी दी गई है. ऐप के माध्यम से महिलाओं द्वारा प्राप्त की गई शिकायतों पर जिलाधिकारी एवं पुलिस अधिकारी संज्ञान लेंगे और उन्हें मुख्यमंत्री को भी समय-समय पर इसकी रिपोर्ट देनी होगी.

READ More...  ED ने अब तक छापे में जब्त किए एक लाख करोड़ रुपये, जानें इन रुपयों का क्या करती है एजेंसी

देहरादून निवासी रश्मि ने कहा कि राज्य सरकार ने उत्तराखंड की बेटियों की सुरक्षा के लिए जो कदम उठाया है, वह काबिलेतारीफ है. महिलाओं की सुरक्षा के मद्देनजर यह कारगर साबित हो सकता है. वहीं, प्राइवेट सेक्टर में जॉब करने वाली रचना ने कहा कि यह ऐप उत्तराखंड की उन लड़कियों के लिए फायदेमंद होगा, जो पहाड़ से जॉब करने आती हैं क्योंकि वे परिवार से दूर रहती हैं लेकिन अब उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिस विभाग और सरकार के हाथों में होगी.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

FIRST PUBLISHED : November 16, 2022, 12:05 IST

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)