e0a489e0a4a4e0a58de0a4a4e0a4b0e0a4bee0a496e0a482e0a4a1 e0a4b5e0a4bfe0a4a7e0a4bee0a4a8e0a4b8e0a4ade0a4be e0a4ace0a49ce0a49f e0a4b8
e0a489e0a4a4e0a58de0a4a4e0a4b0e0a4bee0a496e0a482e0a4a1 e0a4b5e0a4bfe0a4a7e0a4bee0a4a8e0a4b8e0a4ade0a4be e0a4ace0a49ce0a49f e0a4b8 1

देहरादून. उत्तराखंड विधानसभा में चल रहे बजट सत्र के दूसरे दिन की कार्यवाही के दौरान मंत्रियों के जवाबों ने सभी को चौंका दिया. दरअसल प्रश्नकाल के दौरान मंत्रियों से जब सवाल पूछे गए तो उनके पास उसके जवाब नहीं थे. हालात ये थे कि जवाबों के बदले मंत्री मीटिंगों का ब्यौरा देते रहे. बाद में अधिकारियों ने ही मोर्चा संभाला और मंत्रियों ने उनसे मिले नोट्स के आधार पर अपने जवाब दिए.

प्रश्नकाल की शुरुआत में कांग्रेस विधायक प्रीतम सिंह ने यूपी और उत्तराखंड के बीच परिसंपत्तियों के बंटवारे की डिटेल मांगी. संसदीय कार्यमंत्री इसका सीधा जवाब नहीं दे पाए. मंत्री बंटवारे को लेकर डिटेल देने के जगह मीटिंगों का ब्यौरा देते नजर आए. बाद में अधिकारियों की ओर से नोट दिए जाने पर संसदीय कार्यमंत्री विपक्ष के सवालों से बाहर निकल पाए. विपक्ष के सीएनजी बसों की खरीद के सवाल पर परिवहन मंत्री चंदन राम दास भी फंस गए. चंदन राम दास यह नहीं बता पाए कि सीएनजी बसों की खरीद पर विभाग का कितना पैसा खर्चा हुआ.

बिना तैयारी सदन आ रहे हैं मंत्री

इस पर नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य ने कहा कि सरकार गंभीर नहीं है. सरकार के मंत्री बिना तैयारी के सदन में आ रहे हैं. दरअसल एक सवाल के जवाब में परिवहन मंत्री ने बताया कि निगम को 2003 के अपने स्थापना काल से आज तक 595 करोड़ का घाटा हुआ है. इसको पाटने के लिए निगम की बसों में विज्ञापन, कोरियर सेवा, सीएनजी लगाने का काम किया जा रहा है. सीएनजी बसों से अभी तक निगम को 3 करोड़ की आय हो चुकी है. लेकिन बसों को सीएनजी में कन्वर्ट करने में निगम का कितना खर्चा हुआ, चंदन राम दास ये नहीं बता सके.

READ More...  UP Politics: शिवपाल सिंह यादव का बड़ा ऐलान, बोले- प्रसपा अकेले लड़ेगी स्थानीय निकाय चुनाव

इस पूरे मसले पर न्यूज 18 से बातचीत में मंत्री चंदन राम दास ने कहा कि विपक्ष के साथी जान बूझकर बेबुनियाद सवालों को पूछकर फसांने की जुगत में रहते हैं. इससे पहले, बजट सत्र के पहले दिन पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज भी विपक्ष के सवालों में फंस गए थे. तब भी खूब हंगामा हुआ था.

बहरहाल, सेशन में विधायक रवि बहादुर ने सफाई कर्मियों की समस्याओं, विधायक वीरेंद्र कुमार ने बेरोजगारी, विधायक भुवन कापड़ी ने अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की सीबीआई से जांच कराने, विधायक हरीश धामी ने पिथौरागढ़ में सेना और ग्रामीणों के बीच बने गतिरोध का मुददा भी उठाया. चारधाम यात्रा व्यवस्थाओं के मुददे पर लंबी बहस चली.

Tags: Budget, Uttarakhand assembly

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)