e0a489e0a4a7e0a4bee0a4b0 e0a495e0a587 e0a49ce0a582e0a4a4e0a58be0a482 e0a4b8e0a587 e0a4a8e0a580e0a4b2e0a582 e0a4a8e0a587 e0a496e0a587
e0a489e0a4a7e0a4bee0a4b0 e0a495e0a587 e0a49ce0a582e0a4a4e0a58be0a482 e0a4b8e0a587 e0a4a8e0a580e0a4b2e0a582 e0a4a8e0a587 e0a496e0a587 1

हाइलाइट्स

आर्थिक तंगी से जूझ रही नेशनल लेवल खेल चुकीं रग्बी खिलाड़ी नीलू.
नीलू ने कई दर्जन अवॉर्ड जीते, 2019 में राष्ट्रीय स्तर पर भी रग्बी खेला.
आगे बढ़ने की नीलू की इच्छा, मदद के लिए सरकार से लगा रही गुहार.

रिपोर्ट- प्रियांक सौरभ
मुजफ्फरपुर. प्रतिभा किसी परिस्थिति का मोहताज नहीं होती. स्थिति चाहे जैसी भी हो प्रतिभा निखर कर सामने आ ही जाती है. मगर कई बार आर्थिक स्थिति के कारण कई प्रतिभाएं मुकाम तक पहुंचने से पहले ही दम तोड़ देती हैं. कुछ ऐसी ही कहानी मुजफ्फरपुर के सरैया इब्राहिमपुर की रहने वाली नीलू की है. नीलू राष्ट्रीय लेवल खेल चुकी एक रग्बी खिलाड़ी हैं, लेकिन हालात के आगे अब नीलू के हौसले पस्त होने लगे हैं.

बीए में पढ़ने वाली नीलू 2015 से रग्बी की खिलाडी है. नीलू ने अब तक कई दर्जन अवॉर्ड जीते. 2019 में पहली बार राष्ट्रीय स्तर पर नीलू ने रग्बी खेला. तब उन्हें खेल सम्मान से नवाजा गया. उस दौरान उन्हें 11 हजार का नकद पुरस्कार भी मिला, दूसरी बार मदुरई में उन्हें तीसरा स्थान मिला.

जिला और राज्य स्तर पर कई दर्जन बार पुरस्कार जीतने वाली नीलू आर्थिक तंगी से परेशान है. नीलू के पिता नहीं हैं. नीलू के पास न तो अच्छे जूते हैं ना ही सही डाइट की व्यवस्था है. कई बार दूध के अभाव में नीलू ने मांड़ (भात का पानी) पीकर खेला है. वहीं शुरुआत के दौर में जूते के लिए पैसे न होने पर नीलू ने अपनी किताबें बेच दीं. फिर भी पैसे पूरे न हुए तो उधार जूते लेकर उसने खेला और अवार्ड जीता.

READ More...  पीवी सिंधु और लक्ष्य सेन का शानदार प्रदर्शन, इंडोनेशिया मास्टर्स के दूसरे दौर में पहुंचे

नीलू आज सरकार से मदद की गुहार लगा रही है. पैसे के अभाव में कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. नीलू की माँ गीता देवी ने बताया कि बेटी बहुत आगे बढ़ना चाहती है, लेकिन आभाव में कुछ नहीं हो पा रहा है.

Tags: Bihar News, Muzaffarpur news, Sports news

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)