e0a495e0a4ac e0a496e0a4a4e0a58de0a4ae e0a4b9e0a58be0a497e0a4be e0a498e0a4a8e0a4be e0a495e0a58be0a4b9e0a4b0e0a4be e0a495e0a4bfe0a4b8
e0a495e0a4ac e0a496e0a4a4e0a58de0a4ae e0a4b9e0a58be0a497e0a4be e0a498e0a4a8e0a4be e0a495e0a58be0a4b9e0a4b0e0a4be e0a495e0a4bfe0a4b8 1

हाइलाइट्स

घने कोहरे ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में दृश्यता के स्तर को घटाकर 50 मीटर कर दिया
कोहरे ने पंजाब, हरियाणा और दिल्ली के अधिकांश हिस्सों में 500 मीटर से भी कम कर दिया है
राजस्थान के फतेहपुर में उत्तर-पश्चिम के मैदानी इलाकों में न्यूनतम तापमान -1.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज

नई दिल्ली. उत्तर-पश्चिम भारत के अधिकांश हिस्सों में घना कोहरा अगले कुछ दिनों में हटना शुरू हो सकता है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) का कहना है कि तेज हो रही हवाएं घने कोहरे को दूर कर सकती हैं और सूरज की रोशनी के लिए आसमान साफ कर सकती हैं. पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश के अधिकांश हिस्सों के साथ-साथ मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में तापमान 3-7 डिग्री सेल्सियस के बीच रहने के साथ उत्तर भारत शीत लहर की चपेट में है.

राष्ट्रीय राजधानी में सोमवार को मौसम का सबसे कम तापमान 4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जबकि अधिकांश हिस्सों में धुंध छाई रही. इस क्षेत्र में घने कोहरे ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में दृश्यता के स्तर को घटाकर 50 मीटर और पंजाब, हरियाणा और दिल्ली के अधिकांश हिस्सों में 500 मीटर से भी कम कर दिया है जिससे उड़ानें और ट्रेनें देरी से चल रही हैं.

क्यों पड़ रही है धुंध
साल के इस समय कोहरा आम है. वायुमंडल का अधिकांश पानी सबसे निचली परत क्षोभमंडल में स्थित है. इसलिए जब सर्दियों के दौरान तापमान गिरता है, तो यह जल वाष्प कम समय में संघनित हो जाता है, जिससे ये छोटी तरल बूंदें बनती हैं जो हवा में तैरती हैं – जिससे दृश्यता कम हो जाती है. ठीक इसी तरह से बादल बनते हैं, लेकिन इस बार, जमीन के बहुत करीब ऐसा हुआ है. लेकिन दोनों ही सूरतों में हवा में नमी का होना जरूरी है.

READ More...  मथुरा-वृंदावन ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे की डीपीआर तैयार, 20 को लगेगी मुहर

हालांकि उत्तर भारत का ज्यादातर हिस्सा इस दिसंबर में सूखा ही रहा है, लेकिन वातावरण की सबसे निचली परत में अभी भी उच्च नमी है. हवाएं धीमी हैं, जो कोहरे के लिए बिल्कुल उपयुक्त है. अब अगर दिन सामान्य से थोड़ा गर्म है या धूप है, तो संभावना है कि शाम तक घना कोहरा छा जाएगा, क्योंकि गर्म हवा अधिक नमी बनाती है. आईएमडी के नवीनतम पूर्वानुमान के अनुसार, घना कोहरा अब छंटना शुरू हो सकता है. इसका बड़ा कारण उत्तर-पश्चिम भारत के अधिकांश हिस्सों में हवाओं की गति का बढ़ना बताया जा रहा है. हालांकि पंजाब में अभी भी राहत मिलने की कम संभावना है.

School Closed News: ठंड के बढ़ते प्रकोप के कारण इन राज्यों में बंद रहेंगे स्कूल, जानिए क्या है आपके राज्य का हाल

शीत लहर की चेतावनी
उत्तर भारत एक सप्ताह से अधिक समय से भीषण शीत लहर की चपेट में है. रात का तापमान सामान्य से लगभग 3-5 डिग्री सेल्सियस नीचे गिर रहा है. हरियाणा में सबसे कम तापमान हिसार में 1.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जबकि पंजाब के बठिंडा में यह 3.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. राजस्थान के फतेहपुर में उत्तर-पश्चिम के मैदानी इलाकों में सबसे कम न्यूनतम तापमान -1.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

आईएमडी ने पहले ही क्षेत्र के कई हिस्सों में भीषण ठंड के दिनों का अलर्ट जारी कर दिया है. हालांकि शून्य से नीचे तापमान के बावजूद, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के पहाड़ी राज्य अभी भी साल के अंत में होने वाली बर्फबारी का इंतजार कर रहे हैं. शिमला में सोमवार को न्यूनतम तापमान 3.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जबकि दिन में यह 11.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

READ More...  कर्नाटक में 25 ‘उग्र’ हिंदूवादी अगला विधानसभा चुनाव लड़ेंगे : श्री राम सेना प्रमुख प्रमोद मुतालिक

Tags: Cold wave, Foggy weather, Winter

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)