e0a495e0a581e0a482e0a4a1e0a4b2e0a580 e0a4aee0a587e0a482 e0a4aee0a58ce0a49ce0a582e0a4a6 e0a4a8e0a4b5e0a497e0a58de0a4b0e0a4b9e0a58b
e0a495e0a581e0a482e0a4a1e0a4b2e0a580 e0a4aee0a587e0a482 e0a4aee0a58ce0a49ce0a582e0a4a6 e0a4a8e0a4b5e0a497e0a58de0a4b0e0a4b9e0a58b 1

हाइलाइट्स

शुक्र ग्रह को मजबूत रखने के लिए सफेद कपड़ों का, चावल, चीनी आदि का दान करना चाहिए.
शनि ग्रह को मजबूत करने के लिए जातक को अपना भोजन सरसों के तेल में बनाना चाहिए.

Astro Tips: ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हमारे जीवन में होने वाली छोटी-बड़ी घटनाओं का संबंध मुख्यत: नौ ग्रहों से जुड़ा हुआ होता है. यह नौ ग्रह यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में मजबूत स्थिति में हो तो उस व्यक्ति का पूरा जीवन सुखमय व्यतीत होता है. वहीं इनकी स्थिति कमजोर होने पर इसके नकारात्मक प्रभाव भी देखने को मिलते हैं. कुंडली में हर ग्रह की स्थिति के अनुसार जातक को उसका फल मिलता है.

कोई व्यक्ति अपनी कुंडली तो नहीं बदल सकता लेकिन कुंडली में बैठे इन नौ ग्रहों को प्रसन्न या मजबूत स्थिति में लाया जा सकता है. वो कैसे उसके बारे में हमें बता रहे हैं ज्योतिष एवं पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा, आइए जानते हैं.

कैसे करें नवग्रहों को मजबूत?

सूर्य ग्रह की स्थिति को मजबूत करने के लिए

यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में सूर्य ग्रह कमजोर स्थिति में हो तो ऐसे में उस व्यक्ति को प्रतिदिन प्रात: काल उठकर सूर्य को अर्घ्य देना चाहिए. इसके अलावा ऐसे व्यक्तियों को सुबह की हल्की धूप में बैठकर सूर्य भगवान का ध्यान भी करना चाहिए. प्रतिदिन सूर्य मंत्र का जप करें इससे आपकी कुंडली में सूर्य की स्थिति मजबूत होगी.

यह भी पढ़ें – इन वजहों से कुंडली में बनता है विदेश जाने का योग

चन्द्रमा की स्थिति को मजबूत करने के लिए

चंद्रमा को शीतलता का प्रतीक भी माना जाता है इसलिए चंद्रमा की स्थिति को कुंडली में मजबूत करने के लिए आपको आहार में बदलाव करने पड़ेंगे. रात्रि के समय खाना खाने के बाद या खाना खाते समय ठंडी चीजों का सेवन करने से बचें. इसके अलावा घर में बने ताजा खाने को ही खाएं. अपनी मां का सदैव आशीर्वाद लें. चंद्रमा की शीतलता पानी से मिलती जुलती है इसलिए जल को व्यर्थ बर्बाद ना होने दें.

READ More...  9 अक्टूबर 2022 का राशिफल: कर्क राशि वाले तीर्थ स्थान जाएंगे, सिंह, कन्या राशि वालों के घर में मनमुटाव होगा

मंगल की स्थिति को मजबूत करने के लिए

कुंडली में मंगल ग्रह की स्थिति को मजबूत करने के लिए व्यक्ति को बिस्तर छोड़ कर जमीन पर सोना चाहिए, कम से कम 1 हफ्ते तक ऐसा करना होगा. दिन में एक समय नमक खाने से बचना चाहिए. खासकर मंगलवार के दिन तो नमक का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए. मंगल को शुभ स्थिति में लाने के लिए गुड़ का सेवन करें. साथ ही मंगलवार का व्रत रखकर हनुमान चालीसा का जप करें.

बुद्ध की स्थिति को मजबूत करने के लिए

कुंडली में बुध ग्रह की स्थिति को मजबूत करने के लिए खाने में हरी सब्जियों का सेवन करें और गाय को हरा चारा खिलाएं. सौंदर्य प्रसाधनों का उपयोग कम करें. संगीत सुनने की आदत डालें. नियमित रूप से नहाएं, घर में और अपने आसपास साफ-सफाई का विशेष ध्यान दें.

बृहस्पति की स्थिति को मजबूत करने के लिए

कुंडली में बृहस्पति ग्रह को मजबूत करने के लिए आपको तामसिक भोजन छोड़ना पड़ेगा, सात्विक भोजन करें. खाने में हमेशा हल्दी का उपयोग करें, पीले रंग के कपड़े ज्यादा पहनें. बालों को छोटा रखें और माथे पर चंदन का तिलक लगाएं.

शुक्र की स्थिति को मजबूत करने के लिए

कुंडली में शुक्र ग्रह की स्थिति को मजबूत करने के लिए स्नान के बाद सुगंधित इत्र अपने ऊपर छिड़कना चाहिए. शुक्र ग्रह को मजबूत रखने के लिए सफेद कपड़ों का, चावल, चीनी आदि का दान करना चाहिए. इसके अलावा शुक्रवार को सफेद वस्त्र पहनना शुभ होता है.

शनि की स्थिति को मजबूत करने के लिए

कुंडली में शनि ग्रह को मजबूत करने के लिए जातक को अपना भोजन सरसों के तेल में बनाना चाहिए. इसके अलावा शनिवार को व्रत रखकर शनि चालीसा और हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए. शनि ग्रह की मजबूती के लिए पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाना अच्छा माना जाता है.

READ More...  Mahashivratri 2023 Muhurat: महाशिवरात्रि पर दिनभर के शुभ मुहूर्त, देख लें शिव पूजा का समय, सर्वार्थ सिद्धि योग, भद्रा काल

यह भी पढ़ें – किन जातकों के लिए लकी होता है मूंगा? जानें धारण करने के नियम और लाभ

राहु और केतु की स्थिति को मजबूत करने के लिए

कुंडली में राहु और केतु ग्रहों की स्थिति को मजबूत करने के लिए स्वच्छ रहना और अपने आसपास स्वच्छता रखना बहुत जरूरी है. राहु के लिए हल्के नीले रंग के कपड़े पहनना और केतु के लिए हल्के गुलाबी रंग के कपड़े पहनना शुभ होता है. इसके अलावा रोज सुबह उठने के बाद खाली पेट तुलसी के पत्ते चबाना अच्छा माना जाता है.

Tags: Astrology, Dharma Aastha, Religion

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)