e0a495e0a587e0a482e0a4a6e0a58de0a4b0e0a580e0a4af e0a4aae0a4b0e0a58de0a4afe0a4bee0a4b5e0a4b0e0a4a3 e0a4aee0a482e0a4a4e0a58de0a4b0e0a580
e0a495e0a587e0a482e0a4a6e0a58de0a4b0e0a580e0a4af e0a4aae0a4b0e0a58de0a4afe0a4bee0a4b5e0a4b0e0a4a3 e0a4aee0a482e0a4a4e0a58de0a4b0e0a580 1

शर्म अल-शेख: यूएनएफसीसीसी की पार्टियों के सम्मेलन (सीओपी 27) के 27वें सत्र का रविवार को शर्म अल-शेख में समापन हुआ. यह सम्मेलन विश्‍व के सामूहिक जलवायु लक्ष्‍यों को हासिल करने की दिशा में कार्रवाई करने के लिए एक मंच पर आए देशों के साथ पिछली सफलताओं का उल्‍लेख करने और भविष्य की महत्वाकांक्षा का मार्ग प्रशस्त करने के दृष्टिकोण से आयोजित किया गया था. भारतीय शिष्‍ट प्रतिनिधिमंडल के नेता और केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेंद्र यादव ने समापन सत्र में अपना संबोधन दिया. उन्होंने कहा, ‘राष्ट्रपति जी, आप एक ऐतिहासिक सीओपी की अध्यक्षता कर रहे हैं जिसमें हानि और क्षति निधि की व्‍यवस्‍था सहित हानि और क्षति निधि व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए समझौता किया गया है. दुनिया ने इसके लिए बहुत लंबे समय तक प्रतीक्षा की है. इस बारे में आम सहमति बनाने के लिए आपने जो अथक प्रयास किए हैं उसके लिए हम आपको बधाई देते हैं.

भारत के केंद्रीय पर्यावरण मंत्री ने कहा, ‘हम सुरक्षा निर्णय में जलवायु परिवर्तन से निपटने के अपने प्रयासों में सतत जीवन शैलियों और खपत और उत्पादन के टिकाऊ पैटर्न की व्‍यवस्‍था को शामिल करने का भी स्वागत करते हैं. हम इस बारे में ध्यान दें कि हम कृषि और खाद्य सुरक्षा में जलवायु कार्रवाई के बारे में चार वर्ष काम करने का कार्यक्रम स्थापित कर रहे हैं. कृषि लाखों छोटे किसानों की आजीविका का मुख्य आधार है जो जलवायु परिवर्तन से बुरी तरह से प्रभावित होगी। इसलिए हमें उन पर शमन जिम्मेदारियों का बोझ नहीं डालना चाहिए. वास्‍तव में भारत ने अपनी कृषि में बदलाव को अपने राष्‍ट्रीय स्‍तर पर निर्धारित योगदान (एनडीसी) से बाहर रखा है. हम सिर्फ ब‍दलाव पर काम करने का कार्यक्रम भी स्थापित कर रहे हैं. अधिकांश विकासशील देशों के लिए केवल बदलाव की तुलना डीकार्बोनाइजेशन से नहीं, बल्कि निम्न-कार्बन विकास से की जा सकती है. विकासशील देशों को अपनी पसंद के ऊर्जा मिश्रण और एसडीजी को प्राप्त करने में स्वतंत्रता दिए जाने की आवश्यकता है. इसलिए विकसित देशों का जलवायु कार्रवाई में नेतृत्व प्रदान करना वैश्विक न्यायोचित परिवर्तन का एक बहुत ही महत्वपूर्ण पहलू है.’

READ More...  Barmer: शहरी क्षेत्र में रोजगार देने में बाड़मेर का दबदबा, जयपुर को पछाड़ा, जानें CM के जिले का हाल

सस्टेनेबल लाइफस्टाइल को COP27 में शामिल होने भारत के लिए महत्वपूर्ण
केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव ने सस्टेनेबल लाइफस्टाइल को COP27 में शामिल करने पर कहा कि यह हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण है. यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं जिन्होंने अपने मिशन LiFE (पर्यावरण के लिए जीवन शैली) के मंत्र के माध्यम से पर्यावरण के अनुकूल जीवन शैली के लिए पिच बनाई है और दुनिया आज जलवायु परिवर्तन के मुद्दे का समाधान तलाशने के लिए अपने कार्यान्वयन योजना में सस्टेनेबल लाइफस्टाइल को शामिल करके उस दिशा में आगे बढ़ी है. COP27 के प्रमुख निर्णयों में जलवायु परिवर्तन को संबोधित करने के प्रयासों के लिए स्थायी जीवन शैली , खपत और उत्पादन के स्थायी पैटर्न में संक्रमण के महत्व को नोट किया गया. इसने शिक्षा के लिए एक दृष्टिकोण का पालन करने के महत्व पर भी ध्यान दिया जो देखभाल, समुदाय और सहयोग के आधार पर विकास और स्थिरता के पैटर्न को बढ़ावा देते हुए जीवन शैली में बदलाव को बढ़ावा देता है.

जानें क्या है लॉस एंड डैमेज फंड
27वें संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (COP27) में सभी देशों के प्रतिनिधि ‘नुकसान और क्षति’ कोष (Loss and Damage Fund) स्थापित करने पर सहमत हुए। नुकसान और क्षति कोष जलवायु परिवर्तन के प्रति संवेदनशील विकासशील देशों को हुए नुकसान की भरपाई करने में मदद करेगा. वहीं इस मामले में COP27 ने एक ट्वीट में कहा कि शर्म अल-शेख में आज COP27 में इतिहास रचा गया क्योंकि सभी देश सहायता के लिए लंबे समय से प्रतीक्षित ‘नुकसान और क्षति’ कोष की स्थापना पर सहमत हुईं.

READ More...  आर्थिक लाभ के लिए नेताजी के नाम का हो रहा दुरुपयोग, रोकने के लिए पीआईएल दायर करेंगे परिजन

‘लॉस एंड डैमेज’ फंड स्थापित करने के निर्णय का स्वागत: संयुक्त राष्ट्र प्रमुख
संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने भी ‘लॉस एंड डैमेज’ फंड स्थापित करने के निर्णय का स्वागत किया. अपने वीडियो संदेश में, गुटेरेस ने ‘लॉस एंड डैमेज’ निर्माण को न्याय की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम कहा. गुटेरेस ने जोर देकर कहा कि निर्णय पर्याप्त नहीं होगा, लेकिन ध्यान दिया कि यह टूटे हुए भरोसे के पुनर्निर्माण के लिए बहुत जरूरी राजनीतिक संकेत है। अपनी टिप्पणी में, उन्होंने मिस्र सरकार और COP27 के अध्यक्ष सामेह शौकरी को उनके आतिथ्य के लिए आभार व्यक्त किया.

Tags: Climate Change, Global warming, Green House Emission

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)