e0a495e0a587e0a495e0a587 e0a495e0a587 e0a495e0a4bee0a4b0e0a58de0a4afe0a495e0a58de0a4b0e0a4ae e0a4aee0a587e0a482 e0a4ace0a4a6e0a487
e0a495e0a587e0a495e0a587 e0a495e0a587 e0a495e0a4bee0a4b0e0a58de0a4afe0a495e0a58de0a4b0e0a4ae e0a4aee0a587e0a482 e0a4ace0a4a6e0a487 1

कोलकाता: गायक कृष्णकुमार कुन्नथ (KK) की मौत को लेकर पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ द्वारा राज्य सरकार पर निशाना साधने के एक दिन बाद, तृणमूल कांग्रेस (TMC) के सांसद दीपक अधिकारी (देव) ने पुलिस और प्रशासन का बचाव किया है. द इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक देव ने कहा कि इस तरह के आयोजनों के दौरान भीड़भाड़ काफी स्वाभाविक बात होती है. अभिनेता से नेता बने टीएमसी सांसद ने केके के लाइव कॉन्सर्ट की तुलना राजनीतिक रैलियों से की.

उन्होंने कहा, ‘लोग अपने पसंदीदा कलाकारों के प्यार में बड़ी संख्या में इकट्ठा होते हैं. यदि पुलिस से अपेक्षा की जाती है कि वह भीड़भाड़ के कारण किसी संगीत कार्यक्रम को रोकेगी, तो उन्हें राजनीतिक रैलियों को भी रोकना होगा, जहां अपेक्षा से अधिक भीड़ होती हैं.’ केके की मौत के विवाद पर दीपक अधिकारी ने कहा, ‘हमने कोविड -19 महामारी के दौरान विभिन्न राजनीतिक दलों की रैलियों में भारी भीड़ देखी है. लाखों लोगों को रैलियों में भाग लेते देखा है, तब भी जब कोविड अपने चरम पर था. अगर वह सही था, तो ऐसे कार्यक्रमों पर सवाल उठाना भी अनावश्यक है.’

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल ने बताया था प्रशासन की विफलता

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने शनिवार को राज्य सरकार को फटकार लगाते हुए कहा था कि ‘प्रशासन की इससे अधिक विफलता नहीं हो सकती थी.’ उन्होंने कहा, ‘केके की मृत्यु बहुत दर्दनाक थी. कई लोगों ने मुझे वीडियो भेजे हैं. मेरे दिल से खून बह रहा है. इससे अधिक कुप्रबंधन नहीं हो सकता था. प्रशासन की इससे अधिक विफलता नहीं हो सकती थी.’ गौरतलब है कि केके के नाम से मशहूर कृष्णकुमार कुन्नाथ का 31 मई को कोलकाता के नज़रूल मंच सभागार में एक लाइव कॉन्सर्ट के बाद निधन हो गया था.

READ More...  थप्पड़ कांड: पहलवान सतेंद्र मलिक ने कोच जगबीर पर लगाए गंभीर आरोप, फेडरेशन से लगाई न्याय की गुहार

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक हार्ट अटैक से हुई केके की मौत

पोस्टमार्टम रिपोर्ट और केमिकल एनालिसिस रिपोर्ट ने अप्राकृतिक मौत की संभावना से इनकार किया. शव परीक्षण से निष्कर्ष निकाला कि उनकी मृत्यु हृदय गति रुकने से हुई. गायक की मौत ने राज्य में एक राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप का खेल शुरू कर दिया, जिसमें भाजपा ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से केके की मौत की जांच केंद्रीय एजेंसी से कराने का आग्रह किया है. भाजपा सांसद सौमित्र खान ने आरोप लगाया था कि सभागार की क्षमता 3,000 थी लेकिन 7,000 लोगों को कार्यक्रम स्थल में प्रवेश करने की अनुमति दी गई थी.

Tags: BJP VS TMC, TMC, West bengal

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)