e0a495e0a588e0a4b6 e0a4abe0a589e0a4b0 e0a49fe0a4bfe0a495e0a49fe0a483 aap e0a4b5e0a4bfe0a4a7e0a4bee0a4afe0a495 e0a495e0a587 e0a4b0e0a4bf
e0a495e0a588e0a4b6 e0a4abe0a589e0a4b0 e0a49fe0a4bfe0a495e0a49fe0a483 aap e0a4b5e0a4bfe0a4a7e0a4bee0a4afe0a495 e0a495e0a587 e0a4b0e0a4bf 1

हाइलाइट्स

आम आदमी पार्टी के विधायक के रिश्तेदार और पीए को कोर्ट ने 2 दिन के रिमांड पर भेजा है.
टिकट बेचने के मामले में तीसरे अभियुक्त को कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा है.
एसीबी ने विधायक अखिलेश त्रिपाठी को पूछताछ के लिए समन भेजा है.

नई दिल्ली. भ्रष्टाचार निरोधक शाखा (एसीबी) द्वारा दिल्ली में ‘टिकट के बदले नोट’ मामले में गिरफ्तार आप विधायक अखिलेश त्रिपाठी के रिश्तेदार सहित दो लोगों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. मामले की सुनवाई बुधवार को दिल्ली के एवेन्यू कोर्ट में की गई. कोर्ट ने दो अभियुक्तों ओम सिंह और शिव शंकर पांडे को दो दिनों की पुलिस हिरासत में भेजा. वहीं तीसरे अभियुक्त प्रिंस रघुवंशी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. ड्यूटी मजिस्ट्रेट नवीन गुप्ता ने अपने आदेश में कहा कि अब इन दोनो को 18 नवंबर को पेश किया जाएगा.

आप विधायक अखिलेश त्रिपाठी को समन
वहीं एसीबी ने आम आदमी पार्टी के विधायक अखिलेश त्रिपाठी को पूछताछ के लिए समन भेजा है. समन में एसीबी ने विधायक को पूछताछ के लिए गुरुवार को 11 बजे बुलाया है. कैश फॉर टिकट मामले में पूछताछ के लिए बुलाया गया है. वहीं इस मामले के शिकायतकर्ता गोपाल खारी का बयान गुरुवार को मजिस्ट्रेट के सामने दर्ज कराया जाएगा. एसीबी ने बताया कि ओम सिंह विधायक अखिलेश त्रिपाठी का साला है, जबकि शिव शंकर पांडे विधायक का पीए है.

आम आदमी पार्टी के दो विधायकों का नाम
प्रिंस रघुवंशी सहित इन दोनों को उस वक्त गिरफ्तार किया गया, जब शिकायतकर्ता का पैसा वापस लौटाने आए थे. क्योंकि उम्मीदवारों की लिस्ट में शिकायतकर्ता का नाम नहीं था. जबकि उनसे पैसे लिये गए थे. अधिकारियों के मुताबिक इन तीनों ने शिकायतकर्ता की पत्नी से एमसीडी चुनाव टिकट के लिए 90 लाख रुपये मांगे थे. एसीबी ने हलफनामा में विधायक अखिलेश त्रिपाठी और दूसरे विधायक राजेश गुप्ता की संलिप्ता की बात कही है.

READ More...  Breaking News: दिल्ली में अभी नहीं फोड़ सकेंगे पटाखें, सुप्रीम कोर्ट का बैन हटाने से इनकार

टिकट के बदले देने थे 90 लाख रुपये
एसीबी ने बताया कि उन्होंने 90 लाख रुपये की मांग की थी, पीड़ित की पत्नी ने 55 लाख रुपये दे दिया था. लेकिन टिकट नहीं मिला. इसके बाद शिव शंकर पांडे, ओम सिंह और प्रिंस शिकायतकर्ता के घर पैसे लौटाने आए थे. एसीबी ने जाल बिछाकर तीनों को शिकायतकर्ता के घर से ही गिरफ्तार कर लिया. अभी मामले की शुरुआती जांच चल रही है. शिकायतकर्ता गौरव खापी ने मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि शिकायत वापस लेने के लिए उसपर दबाव बनाया जा रहा है. (इनपुट एएनाई से)

Tags: Aam aadmi party, Delhi MCD Election

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)