e0a495e0a58de0a4afe0a4be e0a4a4e0a581e0a4b0e0a58de0a495e0a580 e0a495e0a580 e0a4a8e0a4bee0a497e0a4b0e0a4bfe0a495e0a4a4e0a4be e0a495
e0a495e0a58de0a4afe0a4be e0a4a4e0a581e0a4b0e0a58de0a495e0a580 e0a495e0a580 e0a4a8e0a4bee0a497e0a4b0e0a4bfe0a495e0a4a4e0a4be e0a495 1

अमीर भारतीय मुस्लिम यूरोप के तुर्की जैसे आधुनिक मुस्लिम देश में रहने या नागरिकता हासिल करने की कोशिश में लगे हुए हैं. वॉट्सऐप और टेलीग्राम ग्रुप पर लोग तुर्की में निवेश के मौकों के ज़रिये नागरिकता के बारे में चर्चा कर रहे हैं.

अमीर भारतीय मुस्लिम तुर्की में 4 लाख अमेरिकी डॉलर का निवेश करके नागरिकता हासिल करने की जुगाड़ कर रहे हैं. नई दिल्ली, मेऱठ, लखनऊ, हैदराबाद. मुंबई, बेंगलुरु और तिरुवनंतपुरम के अमीर मुस्लिम रियल एस्टेट के जरिये तुर्की नागरिकता हासिल करने का प्रयास कर रहे हैं.

तुर्की में कोई भी विदेशी जो कम से कम 4 लाख डॉलर यानी करीब ₹31,16,4398. 00 रियल एस्टेट में लगाता है वह तुर्की की नागरिकता पा सकता है. पहले कानूनन यह पात्रता $250,000 (₹19,48,3122.75) की थी जो अब बढ़ा दी गई है. नागरिकता के लिए तुर्की के बैंक में पैसा जमा कराना होगा और तीन साल घर बेचा नहीं जा सकता है. ऐसे विदेशी जो यह शर्तें मान लेते हैं उन्हें अपनी पत्नी और बच्चों (18 साल से कम) के लिए तुर्की का पासपोर्ट मिल जाएगा. विदेशियों का आवास खरीदना, तुर्की के चालू खाते के घाटे को कम करने और रियल एस्टेट क्षेत्र और निर्माण कंपनियों के लिए एक उम्मीद की किरण है.

न्यूज 18 ने पाया कि कुछ निवेशक जिन्होंने तुर्की के विभिन्न शहरों में घर खरीदा था. उनमें मेरठ के निवासी मोहम्मद खाजा ( बदला हुआ नाम) का कहना था कि उन्होंने अपने और अपने परिवार (पत्नी और तीन बच्चे) की नागरिकता के लिए $250,000 (₹19,483,122.75) में एक घर खरीदा है. उन्होंने कहा कि तुर्की में व्यापार की संभावनाएं बढ़ रही हैं इसलिए उन्होंने इंस्तांबुल में निवेश करने का फैसला किया.

मुंबई के एक व्यापारी फिरोज आलम (बदला हुआ नाम) का कहना था कि उनके पिता ने तुर्की के अंकारा शहर में तीन मंजिला मकान खरीदा है जिसकी लागत करीब $800,000 (₹62,345,992.80) है. फिरोज आलम का दावा है कि तुर्की में भारत के मेट्रो शहर के मुकाबले रियल एस्टेट काफी सस्ता है. और उन्हें जल्दी ही तुर्की का पासपोर्ट भी मिल जाएगा. इसी तरह बेंगलुरु के एक होटल मालिक सैयद ओस्मान क़ादरी (बदला हुआ नाम) ने हाल ही में निवेश की प्रक्रिया पूरी की है और $50,000 (₹3,896,624.55) देकर इंस्तांबुल में घर लिया है. आगे सवाल पूछने पर उन्होंने कहा कि उनके भाई की तुर्की के अंकारा शहर में दक्षिण भारतीय टिफिन सेंटर खोलने की योजना है.

READ More...  आम आदमी पार्टी अगले दो साल में 6 राज्यों में लड़ेगी चुनाव, अरविंद केजरीवाल का ऐलान

यह भी पढ़ें: तुर्की ने अपना नाम बदलकर तुर्किये किया, इस वजह से हो रही थी परेशानी

लोगों की तुर्की में क्यों बढ़ रही है दिलचस्पी

तुर्की में निवेश करने से सारे परिवार जिसमें पत्नी, 18 साल से कम उम्र के बच्चे और दिव्यांग बच्चे शामिल हैं, सभी को फायदा मिलेगा. फायदों में 120 स्थलों पर वीजा मुक्त यात्रा, मुफ्त स्वास्थ्य सुविधा, मुफ्त शिक्षा, बेहतर आर्थिक अवसर, उच्च गुणवत्ता भरा जीवन, ई-2 निवेशकों के लिए अमेरिकन वीजा की योग्यता (5 सालों के पुनर्नवीनीकरण के विकल्प के साथ).

नागरिकता

परिवार से जुड़े प्रत्य़क्ष सदस्यों जिसमें पत्नी, 18 साल से कम उम्र के बच्चे और दिव्यांग बच्चे शामिल हैं उनके लिए आजीवन तुर्की की नागरिकता. स्थायी निवासी बनने की कोई बाध्यता नहीं और चार महीनों के भीतर तुर्की का पासपोर्ट.

योग्यता

कोई योग्यता साक्षात्कार की ज़रूरत नहीं, किसी तरह की भाषा दक्षता परीक्षा की ज़रूरत नहीं, पत्नी और 18 साल से कम उम्र के बच्चों को भी वहीं सुविधाएं मिलेंगी यही नहीं दिव्यांग बच्चा (किसी भी उम्र) भी समान सुविधाएं पा पाएगा. अपनी धन संपदा की घोषणा करने की ज़रूरत नहीं है. तुर्की के बाहर से कमाए पैसों पर कोई टैक्स नहीं. तीन साल के बाद 100% धन भेजा जा सकता है (सभी आय सहित) वह भी बिना किसी विनिमय नियंत्रण प्रतिबंध के.

तुर्की में भारतीयों के लिए क्या हैं निवेश के अवसर

(अ ) अगर आप नागरिकता चाह रहे हैं.

  • रियल एस्टेट- करीब 4 लाख डॉलर कीमत की रियल एस्टेट को खरीदना होगा जिसे आप तीन साल तक बेच नहीं सकते हैं.
  • सरकारी बॉन्ड – करीब 5 लाख डॉलर कीमत के सरकारी बॉन्ड खरीदने होंगे जिसे तीन साल तक बेचा नहीं जा सकता है.
  • बैंक जमा – तुर्की के बैंक में 5 लाख डॉलर जमा कराने होंगे जिसे तीन साल तक निकाला नहीं जा सकता है
  • शेयर की खरीद -तुर्की REITs or VCTs के 5 लाख डॉलर कीमत के शेयर खरीदने होंगे जिन्हें तीन साल तक बेचा नहीं जा सकता है.
  • नौकरी पैदा करना – तुर्की में करीब 50 लोगों को फुल टाइम नौकरी देनी होगी.

(ब) अगर आप घर चाह रहे हैं-

  • रियल एस्टेट – तुर्की के किसी इलाके में 50000 डॉलर का घर लेना होगा, या 75000 डॉलर में नगर निगम के विकसित क्षेत्र में घर लेना होगा.
  • व्यापारिक निवेश करीब 50000 डॉलर व्यापार में निवेश

क्या है निवेश की प्रक्रिया?

READ More...  कश्मीर: सभी हिंदू कर्मचारियों का जिला मुख्यालयों में होगा ट्रांसफर, प्रशासन ने लिया बड़ा फैसला

रियल एस्टेट कार्यक्रम में निवेश के जरिये तुर्की की नागरिकता दुनिया में अपनी तरह की सबसे आकर्षक, लुभावनी और सीधी साधी प्रक्रियाओं में से एक है. बस इसके लिए कुछ शर्तें हैं:

नागरिकता का आवेदन तभी स्वीकार किया जाता है जब सारी खरीद प्रक्रियाओं को पूरा कर लिया गया हो.
आवेदक निर्माण परियोजनाओं के तहत भी संपत्ति खरीद सकते हैं, बशर्ते कि वे पूरा भुगतान पूरा करें और डेवलपर से बिक्री का नोटरीकृत समझौता करें. एक निवेशक को बेचने से पहले कम से कम तीन साल के लिए संपत्ति का स्वामित्व बरकरार रखना होगा.

तुर्की की नागरिकता के लिए न्यूनतम और अधिकतम खर्चा क्या है?

(अ) नागरिकता के लिए – अगर कोई कम से कम 4 लाख डॉलर खर्च करता है तो उसे टैक्स, संपत्ति मूल्यांकन और टाइटल डीड स्थानांतरण की लागत को दिमाग में रखना होगा. अगर कोई ईमानदार और सही सलाह देने वाला मिल जाए तो बचत भी की जा सकती है. निवेशकों को संपत्ति ढूंढने और नागरिकता के लिए सरकारी शुल्क वाले परामर्शदाताओं के बारे में भी सोचना चाहिए.

(ब) रहने के लिए – अगर कोई कम से कम 50000 या 75000 डॉलर की संपत्ति तुर्की में रहने के लिए लेता है तो उसे केवल करों, संपत्ति मूल्यांकन और टाइटल डीड ट्रांसफर पर विचार करना होगा.

यह भी पढ़ें: आखिर फिनलैंड और स्वीडन से चाहता क्या है तुर्की

भारतीय निवेशक /नागरिक क्या करें और क्या ना करें

  • तुर्की में अवसरों की तलाश में किसी भी व्यक्ति से बात करने के बजाय सत्यापित लोगों के साथ ही काम करें. रियल एस्टेट एजेंटों के बजाय नागरिकता/निवास सलाहकारों के साथ काम करें जिनका पहला उद्देश्य किसी संपत्ति के बारे में जानकारी देना होता है.
  • जिस क्षेत्र में घर लेने वाले उसके बारे में ठीक से पड़ताल कर लें कि वह निवास या नागरिकता के आवेदनों को स्वीकार करते हैं या नहीं. तुर्की के कुछ क्षेत्रों में इसकी अनुमति नहीं है.
  • निवेश से पहले कानूनी बारीकी और पेचीदगी को समझें और सही लोगों से सलाह लें. रियल एस्टेट एजेंट को सीधे पैसे देने की भूल ना करें बल्कि तुर्की के बैंक में खाता खोलें और यह सुनिश्चित करें कि पैसा सही जगह पहुंचा है या नहीं.
  • संपत्तियों पर उचित सावधानी बरतें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि उनके खिलाफ किसी तरह का कोई कानूनी दावे, मुकदमे या मौजूदा बंधक तो नहीं हैं.
READ More...  भैंस ने गंदगी फैलाई तो दबंगों ने अधेड़ को उतारा मौत के घाट, लोहे की रॉड से पीट-पीट कर हत्‍या

न्यूज 18 ने हाशमी ग्रुप (तुर्की की कंपनी जो निवेश प्रोग्राम के जरिये रहना या नागरिकता पर विशेषज्ञता रखती है) के सीईओ और सह-संस्थापक ताजामुल हुसैन से संपर्क किया, उनका कहना था कि 2022 की दूसरी तिमाही में हाशमी ग्रुप के पास रहने और नागरिकता के लिए करीब 100 से ज्यादा निवेशक और खरीदारों ने बात की है.

ताजामुल का कहना था कि सभी भारतीय समुदाय के लोग तुर्की में निवेश कर रहे हैं. उनका दावा है कि ज्यादा दिलचस्पी उन समुदायों को जो दूसरे देशों में एफडीआई निवेश करवाना चाहते हैं. ऐसे लोग जिनके बच्चे बाहर जाकर पढ़ाई करना चाहते हैं और तुर्की को अपना दूसरा घर बनाना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि कुछ लोग ऐसे भी हैं जो आय का दूसरा स्रोत चाहते हैं वह भी तुर्की के विभिन्न शहरों में निवेश कर रहे हैं.

न्यूज 18 ने हैदराबाद की भारत-तुर्की प्रॉपर्टी कंसल्टेंट सदाक़त हुसैन से बात की उनका कहना था कि लोग तुर्की के विभिन्न शहरों में खेती की ज़मीन में भी पैसा लगा रहे हैं. सदाकत का कहना था कि रूस-युक्रेन युद्ध के चलते रूस ने भी यहां काफी निवेश किया है. उन्होंने बताया कि अब तुर्की सरकार देश की आर्थिक हालत को सुधारने के लिए निवेशकों को देख रही है. इसके बाद 2023 में विदेशी नागरिकता के नियम कड़े कर दिए जाएंगे.

भारतीय नागरिकों के लिए विदेशी निवेश की सीमा क्या है?
हैदराबाद के चार्टर्ड अकाउंटेंट तारिक इमाम का कहना है कि भारतीय निवासी हर वित्तीय वर्ष में महज $ 250,000 (₹ 19,483,122.75) का निवेश कर सकता है. तारिक इमाम ने कहा कि उदारीकृत प्रेषण योजना (एलआरएस) भारत से बाहर निवेश के लिए दिशानिर्देश निर्धारित करती है. यह भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (FEMA) 1999 का ही हिस्सा है. एलआरएस के तहत, हर वित्तीय वर्ष में अधिकतम निवेश की सीमा $ 2,50,000 है. हाल ही में तुर्की ने रियल एस्टेट में निवेश की सीमा को बढ़ाकर $400,000 (₹31,164,398.00) कर दिया है ऐसे में भारतीय नागरिक परिवार के दो सदस्यों के नाम पर संपत्ति खरीद रहे हैं.

Tags: Indian Muslims, Turkey

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)