e0a496e0a581e0a4b6e0a496e0a4ace0a4b0e0a580 e0a495e0a4bee0a4a8e0a4aae0a581e0a4b0 e0a4b8e0a587 e0a495e0a4bee0a4b6e0a580 e0a4b8e0a4ae
e0a496e0a581e0a4b6e0a496e0a4ace0a4b0e0a580 e0a495e0a4bee0a4a8e0a4aae0a581e0a4b0 e0a4b8e0a587 e0a495e0a4bee0a4b6e0a580 e0a4b8e0a4ae 1

कानपुर. यूपी के कानपुर से हवाई यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए एक अच्छी खबर है. अब बाबा विश्वनाथ की धरती वाराणसी और भगवान बुद्ध की नगरी श्रावस्ती की यात्रा हवाई जहाज से कर सकेंगे. अभी सड़क मार्ग से और ट्रेन के जरिए काफी समय लग जाता है, लेकिन अब कानपुर से इन शहरों के लिए हवाई यात्रा का रास्ता पूरी तरीके से साफ हो गया है. जनवरी से यात्राएं शुरू हो जाएंगी. कानपुर से सिर्फ बनारस, श्रावस्ती ही नहीं बल्कि कई जिलों के लिए हवाई सेवा शुरू होने जा रही है,जिसमें गोरखपुर,प्रयागराज, अलीगढ़ शामिल हैं. इन सभी के लिए हवाई रूट के लिए अनुमति मिल चुकी है. अब सिर्फ विमान कंपनियों को विमान उतारने की देर है.

कानपुर में नई टर्मिनल बिल्डिंग का काम तेजी के साथ चल रहा है. बिल्डिंग बनकर पूरी तरीके से तैयार हो गई है. सिर्फ टर्मिनल बिल्डिंग को हाईवे से जोड़ने का काम चल रहा है. इसके साथ ही टैक्सी लिंक की तैयारी भी चल रही है. सभी सुविधाओं से लैस इस नए टर्मिनल से यात्रियों को अत्याधुनिक सुविधाएं मिलेंगी. एयरपोर्ट अथॉरिटी के अधिकारी एम अंसारी का कहना है कि जल्द ही कानपुर से अब देश के सभी प्रमुख शहरों के लिए फ्लाइट उपलब्ध होंगी. कई शहरों के लिए हवाई रूट की अनुमति मिल चुकी है, तो वहीं कई विमान कंपनियों से विमान उतारने को लेकर भी बात चल रही है.

फिर से शुरू होगी कोलकाता-अहमदाबाद की फ्लाइट
कानपुर से कोलकाता और अहमदाबाद के लिए हवाई सफर की शुरुआत हुई थी, लेकिन संसाधन पूरे न होने की वजह से यह ज्यादा दिन नहीं चल पाई. अब जब नया टर्मिनल बनकर तैयार हो गया है, तो एक बार फिर से कोलकाता, अहमदाबाद और बेंगलुरु के लिए फ्लाइट उड़ाने की तैयारी भी एयरपोर्ट अथॉरिटी ने कर ली है.

READ More...  Nainital: सरोवर नगरी नैनीताल के लिए खतरनाक हैं ये पहाड़ियां, हर साल बढ़ रहा 'डर'

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

FIRST PUBLISHED : November 21, 2022, 14:07 IST

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)