e0a497e0a4bfe0a4b0e0a4a4e0a587 e0a4ace0a4bee0a49ce0a4bee0a4b0 e0a4aee0a587e0a482 e0a4ade0a580 e0a49ce0a588e0a4a8 e0a487e0a4b0e0a4bf
e0a497e0a4bfe0a4b0e0a4a4e0a587 e0a4ace0a4bee0a49ce0a4bee0a4b0 e0a4aee0a587e0a482 e0a4ade0a580 e0a49ce0a588e0a4a8 e0a487e0a4b0e0a4bf 1

नई दिल्‍ली. भारतीय शेयर बाजार (Stock Market) में बुधवार को गिरावट दर्ज की गई. भले ही बाजार आज लुढ़का हो लेकिन कृषि सिंचाई उपकरण बनाने वाली देश की प्रमुख कंपनी जैन इरिगेशन के शेयर आज खूब दौड़े. शुरूआती कारोबार में तो जैन इरिगेशन का स्‍टॉक 17 फीसदी तक उछल गया. शाम को यह शेयर करीब दस फीसदी की तेजी के साथ 41.20 रुपये (Jain Irrigation Share Price) पर बंद हुआ. कंपनी के शेयरों का तेजी का कारण जैन इरिगेशन द्वारा अपने अंतरराष्‍ट्रीय कारोबार को Rivulus के साथ मर्ज करना है. मंगलवार शाम को ही कंपनी ने इस बात की जानकारी शेयर बाजारों को दी थी.

मंगलवार को जैन इरिगेशन का स्‍टॉक 37.50 रुपये पर बंद हुआ था. आज यह करीब 10 फीसदी तेजी के साथ 41.20 रुपये पर खुला. कुछ समय बाद ही जैन इरिगेशन के शेयर मे 17 फीसदी की तेजी आई और यह 43.80 रुपये तक पहुंच गया. पिछले एक महीने में इस शेयर में छह फीसदी की तेजी आ चुकी है. वहीं एक साल में यह शेयर अपने निवेशकों को 60 फीसदी मुनाफा दे चुका है.

ये भी पढ़ें- टाटा स्टील का शेयर 2 महीनों में 60 फीसदी गिरा, फिर भी नहीं भा रहा ब्रोकरेज फर्म्स को? क्यों

इस खबर से उछले शेयर  
जैन इरिगेशन ने मंगलवार को स्‍टॉक एक्‍सचेंजज को बताया था कि उसने सिंगापुर स्थित इन्वेस्टमेंट फंड Temasek का हिस्सा कही जाने वाली Rivulus के साथ कंपनी के अंतरराष्ट्रीय सिंचाई कारोबार का विलय करने का निर्णय लिया है. यह सौदा नकद और शेयर के रूप में होगा. इस कदम से कंपनी को अपने एकीकृत ऋण को 2,700 करोड़ रुपये या लगभग 45 प्रतिशत कम करने में मदद मिलेगी. यदि सभी मंजूरियां मिल जाती हैं, तो संयुक्त इकाई का रेवन्यू 75 करोड़ डॉलर होगा. इसके साथ ही ये दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी सिंचाई कारोबार वाली कंपनी बन जाएगी.

READ More...  Petrol Diesel Prices : कंपनियों ने जारी किए पेट्रोल-डीजल के नए रेट, चेक करें आज आपके शहर में कितना पहुंचा भाव

ये भी पढ़ें- बाजार में मंदी की मार! 2022 में निफ्टी 500 के 83 फीसदी शेयरों ने निवेशकों को दिया घाटा

संयुक्‍त इकाई में जैन इरिगेशन की 22 फीसदी हिस्‍सेदारी
कंपनी के प्रबंध निदेशक अनिल जैन ने मंगलवार को कहा कि जैन इरिगेशन का वैश्विक सिंचाई कारोबार 4,200 करोड़ रुपये का है. इसमें से 2,700 करोड़ रुपये का इस्तेमाल पूरा विदेशी कर्ज चुकाने के लिए किया जाएगा और 200 करोड़ रुपये मूल कंपनी को मिलेंगे. उन्होंने कहा कि संयुक्‍त इकाई में जैन इरिगेशन की 22 प्रतिशत इक्विटी हिस्सेदारी होगी जबकि रिवुलिस 78 प्रतिशत हिस्‍सेदार होगा.  इस समझौते के अगले छह महीनों में पूरा होने की संभावना है. वर्तमान में, रिवुलिस की वार्षिक आय रेवेन्यू 40 करोड़ डॉलर है जबकि जैन इरिगेशन का वैश्विक सिंचाई कारोबार 35 करोड़ डॉलर का है.

Tags: Business news in hindi, Share market, Stock market

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)