e0a49ce0a4aee0a58de0a4aee0a582 e0a495e0a4b6e0a58de0a4aee0a580e0a4b0 e0a49fe0a587e0a4b0e0a4b0e0a4bfe0a49ce0a58de0a4ae e0a4aae0a4b0
e0a49ce0a4aee0a58de0a4aee0a582 e0a495e0a4b6e0a58de0a4aee0a580e0a4b0 e0a49fe0a587e0a4b0e0a4b0e0a4bfe0a49ce0a58de0a4ae e0a4aae0a4b0 1

हाइलाइट्स

केंद्र ने पीपुल्स एंटी-फासिस्ट-फ्रंट और इससे जुड़े सभी फ्रंट संगठनों को ‘आतंकवादी’ संगठन घोषित किया.
PAFF साल 2019 में जैश-ए-मोहम्मद (JeM) के एक प्रॉक्सी संगठन के तौर पर उभरा.
पीएएफएफ लगातार सुरक्षा बलों, नेताओं और कश्मीर में काम कर रहे दूसरे लोगों को धमकियां देता रहता है.

नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने शुक्रवार को प्रतिबंधित आतंकी समूह जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed-JeM) के छद्म संगठन पीपुल्स एंटी-फासिस्ट-फ्रंट (People’s Anti-Fascist-Front-PAFF) और इससे जुड़े सभी फ्रंट संगठनों को गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम-1967 के तहत एक ‘आतंकवादी’ संगठन घोषित कर दिया है. PAFF साल 2019 में जैश-ए-मोहम्मद (JeM) के एक प्रॉक्सी संगठन के तौर पर उभरा. जो गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम 1967 के तहत पहली अनुसूची की क्रम संख्या 6 में लिस्टेड एक प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन है.

गृह मंत्रालय (एमएचए) ने एक अधिसूचना जारी करके कहा कि ‘पीएएफएफ लगातार भारतीय सुरक्षा बलों, राजनीतिक नेताओं, अन्य राज्यों से जम्मू-कश्मीर में काम करने वाले नागरिकों को धमकियां देता करता है.’ केंद्रीय गृह मंत्रालय के मुताबिक अन्य संगठनों के साथ PAFF जम्मू कश्मीर और भारत के अन्य प्रमुख शहरों में हिंसक आतंकवादी कामों को अंजाम देने के लिए संगठित रूप से और सोशल मीडिया में सक्रिय रूप से साजिश रचने में शामिल है. गृह मंत्रालय ने कहा कि पीएएफएफ अन्य संगठनों के साथ बंदूक, गोला-बारूद और विस्फोटकों के इस्तेमाल के लिए युवाओं की भर्ती और प्रशिक्षण के उद्देश्य से उनको कट्टरपंथी बनाने के काम में शामिल है.

कश्मीर के 3 जिले अब आतंकवाद से मुक्त, घाटी में लश्कर और जैश अपने अंत की ओर: ADGP

READ More...  गुजरात विधानसभा चुनाव: भाजपा ने जारी की 40 स्टार प्रचारकों की सूची, जानें कौन-कौन संभालेगा चुनावी कमान

PAFF के इन सभी कामों को देखते हुए गृह मंत्रालय ने अपनी अधिसूचना में कहा है कि केंद्र सरकार का मानना है कि ‘पीपुल्स एंटी-फासिस्ट-फ्रंट (PAFF)’ आतंकवाद में शामिल है और इसने भारत में आतंकवाद के विभिन्न कामों को अंजाम दिया है. केंद्र सरकार ने शुक्रवार को यूएपीए की चौथी अनुसूची के तहत लश्कर-ए-तैयबा के सरगना अरबाज अहमद मीर को भी व्यक्तिगत आतंकवादी (individual terrorist) घोषित किया, जो वर्तमान में पाकिस्तान में मौजूद है. मीर पिछले साल मई में कुलगाम में एक स्कूल शिक्षक रजनी बाला की टारगेटेड किलिंग के मामले का मुख्य आरोपी था. गौरतलब है कि पाकिस्तान स्थित कई आतंकी संगठन अब कश्मीर घाटी में आतंकवाद फैलाने की साजिश रचने के लिए कई मुखौटा संगठनों के सहारे युवाओं में पैर पसारने की कोशिशों में जुटे हैं.

Tags: Jaish-e-Mohammed, Jammu and kashmir, Ministry of Home Affairs, Pakistan Terrorist

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)