e0a49ce0a4aee0a58de0a4aee0a582 e0a495e0a4b6e0a58de0a4aee0a580e0a4b0 e0a4aee0a587e0a482 e0a487e0a4b8 e0a4b8e0a4bee0a4b2 93 e0a48fe0a4a8
e0a49ce0a4aee0a58de0a4aee0a582 e0a495e0a4b6e0a58de0a4aee0a580e0a4b0 e0a4aee0a587e0a482 e0a487e0a4b8 e0a4b8e0a4bee0a4b2 93 e0a48fe0a4a8 1

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर में भारतीय सुरक्षाबल आतंकी संगठनों और आतंकियों के लिए काल बने हुए हैं. पाकिस्तान लगातार जम्मू-कश्मीर में अस्थिरता पैदा करने की कोशिशें करता रहता है, सीमा पार से घुसपैठ कराता है. भारतीय फौज अपनी मुस्तैदी से पाकिस्तान के नापाक इरादों को नाकाम कर देती है और आतंकियों को जहन्नुम का रास्ता दिखाती है. राज्य के डीजीपी दिलबाग सिंह और कश्मीर जोन के एडीजीपी विजय कुमार ने आज श्रीनगर में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर साल 2022 का लेखा-जोखा पेश किया.

Jammu Kashmir News : जम्मू-कश्मीर में साल 2022 में 115 बार हुई मुठभेड़

विजय कुमार ने बताया कि इस साल यानी 2022 में घाटी में 93 सफल ऑपरेशन हुए, जिसमें 42 विदेशी आतंकवादियों सहित कुल 172 आतंकवादी मारे गए. एडीजीपी ने बताया कि इस साल आतंकवादियों की नई भर्तियों में 37 फीसदी की कमी आई है. सबसे ज्यादा (74) आतंकी लश्कर में शामिल हुए. इस साल हुई कुल 65 आतंकवादियों की भर्ती हुई, इनमें से 58 (89%) को सुरक्षाबलों ने ढेर कर दिया. आतंकवादी मुठभेड़ में मारे गए, 17 आतंकवादी गिरफ्तार हुए और 18 आतंकवादी अब भी सक्रिय हैं. एडीजीपी ने बताया कि नए भर्ती हुए आतंकवादियों के घाटी में सक्रिय होने से पहले ही उन्हें न्यूट्रलाइज कर दिया गया.

जम्मू-कश्मीर में हुए अलग-अलग एनकाउंटर में इस साल भारी मात्रा में हथियार जब्त किए गए हैं. विजय कुमार ने बताया कि 360 मुठभेड़ों और मॉड्यूल के भंडाफोड़ के दौरान AK सीरीज की 121 रायफलें, 08 एम-4 कार्बाइन और 231 पिस्तौलें बरामद की गईं. इसके अलावा आईईडी, स्टिकी बम और ग्रेनेड की समय पर जब्ती से बड़ी आतंकी घटनाएं टल गईं. डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा कि बीते 4 साल में 2022 बहुत अच्छा रहा है. सबसे कम ​सक्रिय आतंकवादियों की संख्या इस साल है. जैश और लश्कर के साथ टीआरएफ के आतंकी घाटी में वारदातों को अंजाम देने की कोशिश करते हैं. इन्हें पाकिस्तान सपोर्ट करता है.

READ More...  डॉक्टरों और दवा कंपनियों के गठजोड़ को भी अब भ्रष्टाचार की जांच के दायरे में लाने की है तैयारी?

जम्मू-कश्मीर: बडगाम में बर्फबारी से फंसे 52 टूरिस्टों के लिए पुलिस बनी देवदूत

डीजीपी ने कहा कि सुरक्षाबलों के साथ अब जम्मू शहर भी आतंकवादियों के निशाने पर है. इस साल बहुत जादा सीआरपीएफ और पुलिस के जवान घायल हुए. पुलिस की कार्रवाई आतंकवादियों और उनका साथ देने वाले ओवर ग्राउंड वर्कर्स पर जारी है. आतंकियों का साथ देने और उनको लॉजिस्टिक मुहैया कराने वाली 50 गाड़ियों को जब्त किया गया है. कुल 649 ओवर ग्राउंड वर्कर्स के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई की है. जम्मू-कश्मीर पुलिस के महानिदेशक ने कहा कि अब 2023 में ‘मिशन जीरो टेरर’ चलाएंगे और केंद्र शासित प्रदेश को आतंकवाद से पूरी तरह मुक्त कराकर दम लेंगे.

Tags: Jammu Kashmir Police, Kashmir Terror, Khalistani Terrorists

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)