e0a49ce0a4afe0a4aae0a581e0a4b0 e0a4b6e0a4b9e0a4b0 e0a495e0a587 30 e0a4abe0a580e0a4b8e0a4a6e0a580 e0a4b5e0a4bee0a4b9e0a4a8e0a58be0a482
e0a49ce0a4afe0a4aae0a581e0a4b0 e0a4b6e0a4b9e0a4b0 e0a495e0a587 30 e0a4abe0a580e0a4b8e0a4a6e0a580 e0a4b5e0a4bee0a4b9e0a4a8e0a58be0a482 1

जयपुर. महानगरों में जाम के हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं. महानगरों में वाहनों की संख्या लगातार बढ़ रही है. केन्द्र सरकार के बनाए नियमों के मुताबिक महानगरों में वाहन खरीदने के समय उसके मालिक को क्षत्रीय परिवहन अधिकारी (RTO) को पार्किंग के लिए एक एफिडेविट देना होता है. उसी के बाद नए वाहन का पंजीकरण सर्टिफिकेट (RC) जारी होती है. लेकिन जयपुर में इसकी पालना में महज खानापूर्ति की जा रही है. इसके चलते सड़कों से लेकर गलियों तक में लगातार पार्किंग की समस्या गंभीर होती जा रही है. अगर नियमों की सख्ती से पालना करवाई जाये तो जयपुर में  30 फीसदी वाहनों का पंजीकरण सर्टिफिकेट जब्त हो सकता है.

केन्द्र सरकार के नियमों के मुताबिक सभी राज्यों को साफ तौर पर निर्देश दिए गए हैं कि महानगरों और राजधानी में नए वाहन की खरीद के समय वाहन की आरसी तभी जारी की जाए जब वाहन मालिक पार्किंग को लेकर लिखित में एफिडेविट देगा. उसमें लिखा होगा कि उसके पास गाड़ी खड़ी करने के लिए घर में जगह है और वो सड़कों पर बेतरतीब पार्किंग नहीं करेगा. हालांकि आरटीओ इस नियम की तस्दीक भी कर रहा है और दावा भी कर रहा है वो आरसी जारी करने से पहले ऐसा एफिडेविट हर वाहन मालिक से लेते हैं. लेकिन उसकी जांच कौन करेगा इस बात का जवाब आरटीओ के पास नहीं है.

कागजों की खानापूर्ति पूरी की जा रही है
नियमों की खानापूर्ति में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जा रही है. जयपुर आरटीओ एफिडेविट की औपचारिकता निर्बाध तरीके से पूरी कर रहा है. लेकिन जयपुर आरटीओ दफ्तर एक बार भी ये जहमत नहीं उठाता कि 10 एफिडेविट में से 5 की रेंडम जांच कर ली जाए. नतीजा ये हो रहा है कि ऐसे लोग भी धड़ल्ले से झूठे एफिडेविट जमा करवा रहे है जिनके पास वाहन खड़ा करने की जगह नहीं है. ये वाहन मालिक जानते हैं कि बस कागजों की खानापूर्ति करनी है क्योंकि जांच करने वाला कोई नहीं है. इस सवाल के जवाब में जयपुर आरटीओ राजेश वर्मा कहते हैं कि हमारे पास ऐसी कोई शिकायत कभी आई ही नहीं.

READ More...  राज्यसभा चुनाव: राउत को विधायक शिंदे ने दिया जवाब, कहा-महाभारत के संजय हैं वे

पीक आवर्स में पूरा शहर जाम हो जाता है
दिल्ली के बाद जयपुर में भी जाम से शहर के हालात बिगड़ने लगे हैं. खासतौर पर पीक आवर्स में पूरा शहर जाम हो जाता है. लेकिन इससे आरटीओ को कोई लेना देना नहीं है. वे धड़ल्ले से आरसी बांट रहे हैं क्योंकि विभाग को रेवेन्यू मिल रहा है. जानकारों का दावा है कि जयपुर में अगर इस नियम को कड़ाई से लागू किया जाए तो शहर के 30 प्रतिशत वाहनों की आरसी जब्त हो सकती है.

Tags: Jaipur news, Rajasthan news, Transport department

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)