e0a49ce0a588e0a4b8e0a4bfe0a482e0a4a1e0a4be e0a485e0a4b0e0a58de0a4a1e0a4b0e0a58de0a4a8 e0a495e0a580 e0a4b5e0a4bfe0a4a6e0a4bee0a488
e0a49ce0a588e0a4b8e0a4bfe0a482e0a4a1e0a4be e0a485e0a4b0e0a58de0a4a1e0a4b0e0a58de0a4a8 e0a495e0a580 e0a4b5e0a4bfe0a4a6e0a4bee0a488 1

हाइलाइट्स

क्रिस हिपकिंस ने न्यूजीलैंड के नए प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ले ली है.
जैसिंडा अर्डर्न के इस्तीफे के बाद हिपकिंस ने 41वें पीएम के रूप में शपथ ली.
जैसिंडा अर्डर्न के आश्चर्यजनक इस्तीफे ने पूरे न्यूजीलैंड को चौंका दिया था.

वेलिंगटन. जैसिंडा अर्डर्न (Jacinda Ardern) के अप्रत्याशित इस्तीफे के बाद क्रिस हिपकिंस (Chris Hipkins) ने न्यूजीलैंड के नए प्रधानमंत्री (New Zealand new Prime Minister) के रूप में शपथ ले ली है. 44 साल के हिपकिंस ने बुधवार को न्यूजीलैंड के 41वें प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली. अर्डर्न का इस्तीफा स्वीकार करने के बाद, न्यूजीलैंड के गवर्नर-जनरल सिंडी किरो ने बुधवार को संक्षिप्त शपथ ग्रहण समारोह की अध्यक्षता की.

न्यूज एजेंसी ANI के अनुसार हिपकिंस और होने वाले उप प्रधानमंत्री कार्मेल सेपुलोनी शपथ ग्रहण समारोह के लिए स्थानीय समयानुसार लगभग 11.20 बजे वहां पहुंचे. हिपकिंस ने महंगाई और महामारी से निपटने का संकेत दिया है और बताया कि उनके मंत्रिमंडल के लिए यह सर्वोच्च प्राथमिकता होगी. हिपकिंस पहली बार 2008 में संसद के लिए चुने गए थे और नवंबर 2020 में उन्हें कोविड-19 के लिए मंत्री नियुक्त किया गया था. वह पुलिस, शिक्षा और सार्वजनिक सेवा मंत्री भी थे.

पढ़ें- Ukraine Corruption Scandal: रूसी हमलों ने यूक्रेनी मंत्रियों की भरी जेब! जमकर हुआ भ्रष्टाचार, एक दर्जन बर्खास्त

गौरतलब है कि जैसिंडा अर्डर्न के आश्चर्यजनक इस्तीफे ने लेबर पार्टी के सामने दोबारा प्रधानमंत्री चुनने का संकट खड़ा हो गया था. स्थानीय मीडिया संगठन स्टफ ने एक सर्वे में दिखाया था कि 26 प्रतिशत लोगों के समर्थन के साथ क्रिस हिपकिंस वोटरों के बीच पीएम पद के सबसे लोकप्रिय उम्मीदवार थे. प्रधानमंत्री बनने के बाद हिपकिंस 8 महीने से कम समय तक पद संभालेंगे. इसके बाद यहां आम चुनाव होगा.

READ More...  वैज्ञानिकों को मिला दुनिया का सबसे पुराना दिल, 38 करोड़ साल से ऐसे रखा है सुरक्षित

इससे पहले अपने इस्तीफे का ऐलान करते हुए जैसिंडा अर्डर्न ने कहा था कि वह जानती हैं कि प्रधानमंत्री का पद काफी जिम्मेदारी और समर्पण मांगता है लेकिन अब वह इसके साथ न्याय नहीं कर पा रही हैं, इसलिए पद से हट रही हैं लेकिन कई साथी हैं, जो इस जिम्मेदारी को बखूबी निभा सकते हैं. इसके साथ ही वह अपने साथियों पर पूरा भरोसा करती हैं. उन्होंने भरोसा जताया कि आगामी चुनाव में लेबर पार्टी की सरकार बनेगी. अर्डर्न का चौंकाने वाला फैसला साढ़े पांच साल के कार्यकाल के बाद आया था.

Tags: New Zealand, Prime minister

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)