e0a49de0a49fe0a495e0a4be sbi e0a4b8e0a587 e0a4b2e0a58be0a4a8 e0a4b2e0a587e0a4a8e0a4be e0a4b9e0a581e0a486 e0a4aee0a4b9e0a482e0a497e0a4be
e0a49de0a49fe0a495e0a4be sbi e0a4b8e0a587 e0a4b2e0a58be0a4a8 e0a4b2e0a587e0a4a8e0a4be e0a4b9e0a581e0a486 e0a4aee0a4b9e0a482e0a497e0a4be 1

नई दिल्ली. जहां एक ओर बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) पर इंटरेस्ट रेट बढ़ा रहा है वहीं दूसरी ओर एमसीएलआर (MCLR) में भी बढ़ोतरी कर रहा है जिससे ग्राहकों के लिए सभी तरह के लोन महंगे हो जाएंगे. अब देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई (SBI) ने लोन (Loan) महंगा कर दिया है. भारतीय स्टेट बैंक के ग्राहकों को अब लोन पर बढ़ी हुई ईएमआई (EMI) चुकानी होगी. एसबीआई ने सभी अवधियों के लिए एमसीएलआर (MCLR) को बढ़ा दिया है. बैंक ने एमसीएलआर को 0.15 फीसदी बढ़ा दिया है.

इससे ग्राहकों के लिए सभी तरह के लोन महंगे हो जाएंगे. एमसीएलआर (MCLR) के आधार पर ही होम लोन, कार लोन और पर्सनल लोन की ब्याज दरें तय होती हैं. बढ़ी हुई दरें 15 नवंबर यानी आज से ही प्रभावी हो गई हैं.

ये भी पढ़ें: Axis bank FD rates: एक्सिस बैंक ने महीने में दो बार बढ़ाए एफडी रेट्स, जानिए कितने परसेंट मिल रहा ज्यादा ब्याज

जानिए कितनी बढ़ी दरें
एसबीआई ने एक माह और तीन महीने की एमसीएलआर को 0.15 फीसदी बढ़ाया है. इस बढ़त से दोनों अवधि की एमसीएलआर 7.75 फीसदी हो गई है. इस पहले समान अवधि की एमसीएलआर 7.60 पर थी. वहीं छह माह की एमसीएलआर को बैंक ने 0.15 फीसदी बढ़ाकर 8.05% कर दिया है जो 7.90 फीसदी पर थी. ओवर नाइट यानी एक दिन की एमसीएलआर में बैंक ने कोई बदलाव नहीं किया है. एक साल की अवधि वाली एमसीएलआर अधिकतर कंज्यूमर लोन्स पर दरों की गणना में यूज होती है.

2 साल और 3 साल की एमसीएलआर भी बढ़ी
इसी तरह दो साल और तीन साल की एमसीएलआर, जो पहले क्रमश: 8.15 फीसदी और 8.25 फीसदी थी, अब 0.10 फीसदी बढ़ गई हैं. यह अब 8.25 फीसदी और 8.35 फीसदी हैं. एसबीआई ने एक नोटिफिकेशन में यह जानकारी दी है. एक महीने और तीन महीने की एमसीएलआर 0.15 फीसदी बढ़कर क्रमश: 7.75 फीसदी हो गई है. छह महीने की एमसीएलआर 0.15 फीसदी बढ़कर 8.05 फीसदी पर पहुंच गई है.

READ More...  Volkswagen ने भी अपनी गाड़ियों के दाम 71 हजार रुपये तक बढ़ाए, चेक करिए पूरी लिस्ट

ये भी पढ़ें: PM Kisan Yojna: किसानों को खाद-बीज और कृषि उपकरणों के लिए मिलेंगे 15 लाख, जानें ले सकते हैं फायदा

क्या होती है एमसीएलआर?
एमसीएलआर या मार्जिनल कॉस्ट ऑफ फंड्स बेस्ड लेंडिंग रेट वह न्यूनतम दर है, जिस पर कोई बैंक अपने ग्राहकों को लोन की पेशकश करता है. लेंडिंग रेट में किसी भी बदलाव का लोन की दरों पर सीधा प्रभाव पड़ता है. जब लोन पर ब्याज दर बढ़ती है, तो ईएमआई भी स्वत: ही बढ़ जाती है. इसलिए अब एसबीआई के ग्राहकों को एमसीएलआर से लिंक्ड लोन्स पर बढ़ी हुई ईएमआई देनी होगी.
आपके लिए

Tags: Business news in hindi, Home loan EMI, Sbi, SBI Bank

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)