e0a49fe0a58de0a4b0e0a587e0a4a8e0a58be0a482 e0a495e0a580 e0a4aae0a4b2 e0a4aae0a4b2 e0a495e0a580 e0a4aee0a4bfe0a4b2 e0a4b8e0a495e0a587
e0a49fe0a58de0a4b0e0a587e0a4a8e0a58be0a482 e0a495e0a580 e0a4aae0a4b2 e0a4aae0a4b2 e0a495e0a580 e0a4aee0a4bfe0a4b2 e0a4b8e0a495e0a587 1

नई दिल्‍ली. दौड़ती ट्रेन की पल-पल की ताजा अपडेट अब लोगों को मिल सकेगी. रेलवे ने लोगों की सुविधा को ध्‍यान में रखते हुए 2700 इंजनों के लिए रियल टाइम ट्रेन इंफॉर्मेशन सिस्टम (आरटीआईएस) उपकरण लगाए हैं. इससे प्रत्‍येक 30 सेकेंड में ट्रेन संबंधित सूचनाअपडेट होती रहेगी. इसरो के सहयोग से यह तकनीक विकसित की गयी है.

भारतीय रेलवे के अनुसार रीयल टाइम ट्रेन इंफॉर्मेशन सिस्टम (आरटीआईएस) को ट्रेनों के आगमन और प्रस्थान या पूर्वाभ्‍यास सहित स्टेशनों पर ट्रेन की आवाजाही के समय की स्वत: जानकारी प्राप्‍त करने के लिए इंजनों में लगाया जा रहा है. कंट्रोल ऑफिस एप्लीकेशन (सीओए) सिस्टम में ये ट्रेनों के कंट्रोल चार्ट पर स्‍वत: सारणी तैयार कर लेते हैं. आरटीआईएस 30 सेकेंड के अंतराल पर मिड-सेक्शन अपडेट करेगा. ट्रेन नियंत्रण अब बिना किसी मानवीय हस्तक्षेप के आरटीआईएस सक्षम इंजनों/ट्रेन के स्थान और गति पर अधिक बारीकी से नजर रख सकता है.

देशभर के 21 इलेक्ट्रिक लोको शेड में 2700 इंजनों के लिए आरटीआईएस उपकरण स्थापित किए गए हैं. दूसरे चरण के रोल आउट के हिस्से के रूप में, इसरो के सैटकॉम हब का उपयोग करके 50 लोको शेड में 6000 और इंजनों को शामिल किया जाएगा. वर्तमान में, लगभग 6500 लोकोमोटिव (आरटीआईएस और आरईएमएमएलओटी) को सीधे कंट्रोल ऑफिस एप्लिकेशन (सीओए) में डाला जा रहा है. इसने यात्रियों को ट्रेनों की स्वचालित चार्टिंग और तत्‍काल जानकारी मिल सकेगी.

Tags: Indian railway, Indian Railway news, Indian Railways

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)