e0a4a6e0a4bee0a482e0a4b5 e0a4aee0a587e0a482 e0a4b0e0a4bee0a49ce0a4a6 e0a49ce0a4a6e0a4afe0a582 e0a4b8e0a4b9e0a4bfe0a4a4 e0a4ade0a4be
e0a4a6e0a4bee0a482e0a4b5 e0a4aee0a587e0a482 e0a4b0e0a4bee0a49ce0a4a6 e0a49ce0a4a6e0a4afe0a582 e0a4b8e0a4b9e0a4bfe0a4a4 e0a4ade0a4be 1

पटनाएक घंटा पहले

वीआईपी सुप्रीमो मुकेश सहनी।

कुढ़नी विधान सभा उपचुनाव में मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी ने जैसे महापेंच फंसा रखा है ! वीआईपी सुप्रीमो मुकेश सहनी को जैसे लग रहा है कि वे महागठबंधन को अपने दबाव में लेने में सफल हो जाएंगे। इससे पहले वे राजद और भाजपा पर दबाव बनाकर इतिहास में देख चुके हैं।

उनको आगे एमएलसी तो नहीं ही बनाया गया। सहनी को मंत्री पद से भी हटाया गया। यूपी में उनकी पार्टी से कोई उम्मीदवार नहीं जीत पाया। ‘पीठ में खंजर’ भी भोंका गया था। अब कुढ़नी उपचुनाव में सहनी का पॉलिटिकल दांव-पेंच है!

भाजपा ने निषाद उम्मीदवार दिया तो अपना उम्मीदवार नहीं उतारेगी वीआईपी !

हालांकि, भाजपा से चोट खाई हुई वीआईपी उसे मजा चखाना चाहती है। कुढ़नी में ऐसा करने में सहनी सफल होंगे कि नहीं यह आगे का समय तय करेगा। वीआईपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव मिश्रा ने कहा है कि ‘कुढ़नी विधान सभा से विकासशीन इंसान पार्टी 16 तारीख को नामांकन भरेगी। लेकिन अगर कुढ़नी विधान सभा से कोई भी गठबंधन निषाद समाज के किसी व्यक्ति को उम्मीदवार घोषित करता है तो हम वहां चुनाव लड़ने पर दुबारा विचार करेंगे।’

भाजपा सहित राजद-जदयू पर दबाव की रणनीति

वीआईपी ने राजद, जदयू और भाजपा जैसी तमाम पार्टियों के लिए एक साथ कुढ़नी में दरवाजा खोल दिया है कि वे यहां निषाद समाज के किसी व्यक्ति को टिकट देती हैं तो समर्थन दे सकती हैं। अपना उम्मीदवार उतारने पर पुनर्विचार कर सकती हैं।

ऐसा दांव खेलकर वीआईपी ने एक तरफ राजद- जदयू को दबाव में लाया है और दूसरी तरफ अपने ताजा दुश्मन भाजपा को भी जाल में फंसाने की कोशिश की है। लेकिन सवाल दूसरा है लोगों को इंतजार है कि यहां जदयू- राजद किसी कुशवाहा को टिकट देती है या निषाद समाज को! सवाल यह भी है कि कुढ़नी में लड़ाई कुशवाहा और निषाद के बीच तो नहीं ठन जाएगी!

READ More...  सीतामढ़ी में देवर ने भाभी पर चाकू से किया हमला:बैंक जा रही थी, रास्ते में छीन लिया पैसा, मारा चाकू

खबरें और भी हैं…

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)