e0a4a6e0a587e0a4b6 e0a495e0a580 e0a4aae0a4b9e0a4b2e0a580 e0a4ade0a4bee0a4b0e0a4a4 e0a497e0a58ce0a4b0e0a4b5 e0a49fe0a582e0a4b0e0a4bf
e0a4a6e0a587e0a4b6 e0a495e0a580 e0a4aae0a4b9e0a4b2e0a580 e0a4ade0a4bee0a4b0e0a4a4 e0a497e0a58ce0a4b0e0a4b5 e0a49fe0a582e0a4b0e0a4bf 1

नई दिल्‍ली. भारतीय रेल (Indian Railway) द्वारा चलाई जाने वाली देश की पहली भारत गौरव टूरिस्‍ट ट्रेन ‘श्री रामायण यात्रा’ (Shri Ramayana Yatra) आज शाम दिल्‍ली के सफदरजंग रेलवे स्‍टेशन से रवाना हो रही है. इस ट्रेन में सफर करने के लिए 533 यात्रियों ने बुकिंग कराई है. ट्रेन में कुल 600 सीटें हैं, इस तरह करीब 90 फीसदी के आसपास बुकिंग हुई. रेल मंत्री अश्विनी वैष्‍णव और पर्यटन मंत्री जी किशन रेड्डी झंडी दिखाकर टूरिस्‍ट ट्रेन को रवाना करेंगे.

रेलवे मंत्रालय ने ट्रेनों को किराए पर देने के लिए नई योजना भारत गौरव शुरू की है. इसके तहत चलाई जाने वाली पहली ट्रेन भारत और नेपाल को आपस में जोड़ेगी. यह ट्रेन नेपाल के जनकपुर जाएगी. ट्रेन 3 एसी है. ट्रेन पूरी यात्रा में 8000 किमी. का सफर तय करेगी. यह ट्रेन देश के 8 राज्‍यों का सफर करेगी. ट्रेन में 18 दिन और 17 रात का सफर होगा.

किराये में ये सुविधाएं होंगी शामिल
ट्रेन में पेंट्री कार होगी, जिसमें पर्यटकों के लिए ताजा भोजन बनेगा. ट्रेन सीसीटीवी कैमरे से लैस होगी. सुरक्षा के लिए गार्ड भी मौजूद रहेंगे. ट्रेन के अलावा विभिन्‍न शहरों में रुकने के लिए एसी होटल में कमरों की व्‍यवस्‍था होगी. ट्रेन से बाहर खाना होटल, रेस्‍त्रां और बैंक्‍वेट में खाना और लोकल ट्रांसपोर्ट उपलब्‍ध कराया जाएगा.

इन राज्‍यों से गुजरेगी

नेपाल के अलावा ट्रेन उत्‍तर प्रदेश, बिहार, मध्‍य प्रदेश, महाराष्‍ट्र,कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश होकर गुजरेगी.

इन शहरों का सफर कराएगी ट्रेन

ट्रेन 12 प्रमुख शहरों से होकर गुजरेगी, जो भगवान श्रीराम से संबंधित हैं, यहां पर यात्री इन धार्मिक स्‍थानों के दर्शन कर सकेंगे. इनमें अयोध्‍या, बक्‍सर,जनकपुर, सीतामढ़ी, काशी, प्रयाग, चित्रकूट, नासिक,हम्‍पी, रामेश्‍वरम, कांचीपुरम और भद्रांचल शामिल हैं.

READ More...  अब तक 60 लाख से ज्यादा लोगों को लगाई गई कोरोना वैक्सीन, 23 लोगों की मौत पर सरकार ने दी सफाई

शहरों में भगवान राम से जुड़े ये हैं स्‍थान

अयोध्‍या- राम जन्‍मभूमि मंदिर,हनुमान गढ़ी, सरयू घाट, नंदीग्राम,भरत हनुमान मंदिर और भरत कुंड.
जनकपुर (नेपाल)- रामजाननकी मंदिर
सीतामढ़ी- जानकी मंदिर और पुराना धाम
बक्‍सर- राम रेखा घाट, रामेश्‍वरनाथ मंदिर
वाराणसी- तुलसी मानस मंदिर, संकट मोचन मंदिर, विश्‍वनाथ मंदिर और गंगा आरती.
प्रयागराज- सीता समाहित स्‍थल, सीतामढ़ी, भारद्वाज आश्रम, गंगा-यमुना संगम और हनुमान मंदिर .
श्रृंगवेरपुर- श्रिंगी ऋषि आश्रम, शांता देवी मंदिर, रामचौरा.
चित्रकूट-गुप्‍त गोदावरी, रामघाट, सती अनसुनिया मंदिर.
नासिक-ट्रयंबेकेश्‍वर मंदिर , पंचवटी, सीता गुफा, कालाराम मंदिर .
हंपी- अंजानाद्री पहाड़ी, विरुपक्षा मंदिर और विट्टल मंदिर.
रामेश्‍वरम- रामनाथस्‍वामी मंदिर और धनुषकोठी.
कांचीपुरम- विष्‍णु कांची, शिवा कांची और कामाक्षी अम्‍मान मंदिर.
भद्राचलम- श्री सीताराम स्‍वामी मंदिर, अंजनी स्‍वामी मंदिर

Tags: Indian railway, Indian Railway Catering and Tourism Corporation, Indian Railway news, Indian Railways, Irctc

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)