e0a4a6e0a587e0a4b6 e0a4aee0a587e0a482 e0a4abe0a4bfe0a4b0 e0a4b2e0a497e0a587e0a497e0a4be e0a4b2e0a589e0a495e0a4a1e0a4bee0a489e0a4a8
e0a4a6e0a587e0a4b6 e0a4aee0a587e0a482 e0a4abe0a4bfe0a4b0 e0a4b2e0a497e0a587e0a497e0a4be e0a4b2e0a589e0a495e0a4a1e0a4bee0a489e0a4a8 1

नई दिल्ली. भारत में कोविड-19 के मौजूदा हालात को देखते हुए क्या अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध लगाने या लॉकडाउन लागू करने की जरूरत है? इस सवाल पर विशेषज्ञों का साफ कहना है कि देश में ऐसे हालात नहीं है. हालांकि इसके साथ ही उनका कहना है कि कुछ देशों में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने के मद्देनजर निगरानी और सतर्कता मजबूत करना अनिवार्य है. उन्होंने यह भी कहा कि कोविड-19 के गंभीर मामले आने और मरीजों के अस्पताल में भर्ती होने की आशंका नहीं है, क्योंकि भारत में लोगों में ‘हाइब्रिड इम्युनिटी’ विकसित हो चुकी है.

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS), दिल्ली के पूर्व निदेशक रणदीप गुलेरिया ने कहा, ‘कुल मिलाकर कोविड के मामलों में वृद्धि नहीं हुई है और भारत अभी ठीक स्थिति में है. मौजूदा परिस्थितियों में अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध लगाने या लॉकडाउन लागू करने की कोई आवश्यकता है.’

ये भी पढ़ें- आज रात 12 बजे से 7 दिन तक भारत में रहेगा लॉकडाउन? सरकार ने बताई वायरल वीडियो की सच्चाई

डॉ. गुलेरिया ने कहा कि पहले के अनुभव दिखाते हैं कि संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए उड़ानों पर पाबंदी लगाना प्रभावी नहीं है. उन्होंने कहा, ‘आंकड़े दिखाते हैं कि चीन में संक्रमण के तेजी से फैलने के लिए जिम्मेदार ओमिक्रॉन का बीएफ.7 सबवेरिएंट हमारे देश में पहले ही पाया जा चुका है.’

यह पूछने पर कि क्या आने दिनों में लॉकडाउन की जरूरत है, डॉ. गुलेरिया ने कहा, ‘कोविड के गंभीर मामले बढ़ने और मरीजों के अस्पताल में भर्ती होने की संभावना नहीं है, क्योंकि टीकाकरण की अच्छी दर और प्राकृतिक रूप से संक्रमण होने के कारण भारतीयों में हाइब्रिड इम्युनिटी पहले ही विकसित हो चुकी है.’ उन्होंने कहा, ‘मौजूदा स्थिति को ध्यान में रखते हुए और लोगों के बीच हाइब्रिड इम्युनिटी की अच्छी-खासी दर होने के कारण लॉकडाउन की आवश्यकता प्रतीत नहीं होती है.’

READ More...  Assembly Election 2022 Live Updates: हिमाचल में अब 8 दिसंबर का इंतजार, गुजरात में चरम पर चुनावी सरगर्मी

ये भी पढ़ें- क्रिसमस और नए साल पर कहीं घूमने की कर रहे प्लानिंग? तो जान लें राज्यों में कोरोना को लेकर तैयारी

वहीं सफदरजंग हॉस्पिटल में फेफड़े और गहन देखभाल विभाग के प्रोफेसर डॉ. नीरज गुप्ता ने कहा कि भारत को चीन तथा कुछ अन्य देशों में कोविड-19 के मामलों में वृद्धि को देखते हुए अत्यधिक सावधानी बरतने की जरूरत है, लेकिन ‘भारत के मौजूद परिदृश्य को देखते हुए निकट भविष्य में लॉकडाउन जैसी स्थिति की परिकल्पना नहीं की गई है.’ उन्होंने कहा कि ‘हाइब्रिड इम्युनिटी’ किसी व्यक्ति को भविष्य में होने वाले संक्रमण के खिलाफ अधिक सुरक्षित बनाती है.

डॉ. गुप्ता ने यह भी कहा कि चीन अभी ज्यादा कमजोर स्थिति में है, जिसकी वजह कम प्राकृतिक इम्युनिटी, खराब टीकाकरण रणनीति हो सकती है, जिसमें बूढ़े और कमजोर आबादी के मुकाबले युवा और स्वस्थ लोगों को तरजीह दी गई. साथ ही चीनी टीकों को संक्रमण से बचाव में कम प्रभावी भी पाया गया है.

इसके अलावा टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह के अध्यक्ष डॉ. एन के अरोड़ा ने कहा कि भारत में कोविड की मौजूदा स्थिति नियंत्रण में है और घबराने की कोई बात नहीं है. बहरहाल, उन्होंने कहा कि लोगों को कोविड अनुकूल व्यवहार अपनाना चाहिए और टीके की एहतियाती खुराक लेनी चाहिए.

बता दें कि जापान, अमेरिका, दक्षिण कोरिया, ब्राजील, फ्रांस और चीन में मामले बढ़ने के बीच भारत ने निगरानी और कोविड संक्रमित नमूनों के जीनोम अनुक्रमण की प्रक्रिया को तेज कर दिया है. भारत की 97 प्रतिशत पात्र आबादी ने कोविड-19 रोधी टीके की पहली खुराक, जबकि 90 प्रतिशत ने दूसरी खुराक ले ली है. केवल 27 प्रतिशत आबादी ने एहतियाती खुराक हासिल की है.

READ More...  नासा का मिशन मून ‘आर्टेमिस’ लॉन्च के लिए तैयार... क्या है उसका अपोलो के साथ संबंध

Tags: Coronavirus Case in India, Covid 19 Alert, India Lockdown

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)