e0a4a8e0a4bee0a497e0a4aae0a581e0a4b0 e0a4aee0a587e0a482 e0a4a8e0a58b e0a4aae0a4bee0a4b0e0a58de0a495e0a4bfe0a482e0a497 e0a49ce0a58b
e0a4a8e0a4bee0a497e0a4aae0a581e0a4b0 e0a4aee0a587e0a482 e0a4a8e0a58b e0a4aae0a4bee0a4b0e0a58de0a495e0a4bfe0a482e0a497 e0a49ce0a58b 1

मुंबई. नागपुर नगर निगम (NMC) और ट्रैफिक पुलिस मंगलवार से नो-पार्किंग जोन से दोपहिया वाहनों की लिफ्टिंग और चार पहिया वाहनों की टोइंग फिर से शुरू कर दी है. साथ ही मोटरसाइकिल सवारों से 760 रुपये और चौपहिया वाहनों से 1,020 रुपये का फाइन वसूल किया जा रहा है.

नगर आयुक्त राधाकृष्णन बी ने टाइम्स ऑफ इंडिया से कहा कि NMC ने इस संबंध में टेंडर जारी कर दिया है और यातायात पुलिस विभाग के अनुरोध के अनुसार निजी ऑपरेटर को भी नियुक्त किया गया है. सड़कों पर भीड़भाड़ को कम करना और वाहनों की बिना परेशानी के आवाजाही को सक्षम बनाना समय की मांग थी.

उन्होंने कहा कि नो-पार्किंग जोन में पार्किंग करने से सड़क के एक बड़े हिस्से पर अतिक्रमण हो जाता है, जिससे यातायात के लिए कम जगह बचती है. उन्होंने कहा कि यह अच्छी बात है कि शहर में चौड़ी सड़कें हैं, लेकिन पार्किंग की अनुचित व्यवस्था के कारण वे यातायात के लिए संकरी हो गई हैं. इसलिए, एक निजी ऑपरेटर को शामिल करने की पहल की गई है.

हाइड्रोलिक सिस्टम की सुविधा मिली
ट्रैफिक पुलिस विभाग सुबह 8 बजे से रात 9 बजे के बीच प्राइवेट ऑपरेटर विप्लडेकोफर्न कंसोर्टियम से काम करवाएगा. मंगलवार से दस में से तीन ट्रैफिक डिविजन सीताबुलडी, सदर और सोनेगांव में काम शुरू हो गया है. इसके लिए सोमवार को ट्रैफिक पुलिस और ऑपरेटर ने ट्रायल भी किया गया. विप्लेडेकोफर्न कंसोर्टियम की उपाध्यक्ष प्रीति लांजेकर ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि वाहनों को कोई नुकसान से बचाने के लिए हमने दोपहिया वाहनों को लिफ्टिंग और चार पहिया वाहनों को टोइंग करने के लिए वाहनों में हाइड्रोलिक सिस्टम की सुविधा प्रदान की है.

READ More...  इनकम टैक्स रिटर्न की संख्या में बढ़ोतरी का रुझान, FY22 में भरे गए 7.14 करोड़ आईटीआर

यह भी पढ़ें- सबसे सस्ती बुलेट Hunter 350cc को लॉन्च करेगी रॉयल एनफील्ड, जानिए क्या है स्पेसिफिकेशन

वाहन को नहीं होगा नुकसान
उन्होंने कहा कि पहले कर्मचारी दोपहिया वाहनों को उठाते और लोड करते थे, जिससे नुकसान होता था, लेकिन अब हमारा वाहन हाइड्रोलिक सिस्टम वाले दोपहिया वाहनों को उठाकर अंदर सुरक्षित स्थान पर रखेगा. वाहन में एक बार में केवल छह दोपहिया वाहन लोड किए जा सकते हैं. इस तरह चार पहिया वाहनों को टोइंग करने से पहले ट्रैफिक पुलिस वाहनों के आगे के पहिये में जैमर लगाती थी और उन्हें कभी टो नहीं करती थी. यह पहली बार होगा जब चार पहिया वाहनों को टो किया जाएगा.

पुलिसकर्मियों दिया डिवाइस
ऑपरेटर ने यातायात पुलिसकर्मियों को एक सॉफ्टवेयर डिवाइस दिया है, जो वाहनों के साथ चलेंगे. पुलिसकर्मी पहले वाहन के नो-पार्किंग जोन में या अनुचित तरीके से पार्क किए जाने के प्रमाण के लिए डिवाइस ले वाहनों की दो तस्वीरें क्लिक करेंगे. इसके बाद दोपहिया वाहन उठाकर और चार पहिया वाहन को उठाकर ले जाएंगे. इसके बाद ट्रैफिक पुलिसकर्मियों द्वारा चालान किया जाएगा.

यह भी पढ़ें- फेरारी ने कार्ला लियूनी को नया चीफ ब्रांड ऑफिसर नियुक्त किया, सितंबर में सभालेंगी पदभार

लगेगा भारी जुर्माना
लांजेकर ने कहा कि उन्होंने पुणे और मुंबई में इस्तेमाल होने वाले समान सॉफ्टवेयर उपलब्ध कराए हैं. उन्होंने कहा कि हम पूरे राज्य में एक समान व्यवस्था बनाए रखना चाहते हैं. ऑपरेटर ने ऑनलाइन सिस्टम, क्यूआर कोड और कार्ड के माध्यम से शुल्क का भुगतान करने के लिए कैशलेस सुविधा भी प्रदान की है, जो पहले उपलब्ध नहीं थी. इसके अलावा लोगों को जुर्माने के तौर पर भारी भरकम फीस चुकानी होगी. उन्होंने कहा कि मोटरसाइकिल सवारों से 760 रुपये और चौपहिया वाहनों से 1,020 रुपये का फाइन वसूल किया जाएगा.

READ More...  LIC के शेयर में गिरावट से सरकार चिंतित, DIPAM सचिव बोले- अस्थायी है गिरावट

Tags: Maharashtra, Nagpur

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)