e0a4a8e0a4bee0a4b2e0a482e0a4a6e0a4be e0a495e0a587 e0a4a8e0a580e0a4b0e0a4be e0a4aae0a58de0a4b2e0a4bee0a482e0a49f e0a4aee0a587e0a482
e0a4a8e0a4bee0a4b2e0a482e0a4a6e0a4be e0a495e0a587 e0a4a8e0a580e0a4b0e0a4be e0a4aae0a58de0a4b2e0a4bee0a482e0a49f e0a4aee0a587e0a482 1

नालंदा6 घंटे पहले

नालंदा के नीरा प्लांट में उत्पादन हुआ बंद

बिहार शरीफ के बाजार समिति परिसर में बने नीरा प्रोसेसिंग एवं बॉटलिंग प्लांट में 27 अप्रैल से काफी तामझाम के साथ नीरा का उत्पादन शुरू हुआ था। लेकिन, महज 24 दिन में ही बंद हो गया। न सिर्फ नालंदा बल्कि सूबे के अन्य जिलों में बोतल बंद नीरा बेचने की उम्मीदों पर भी पानी फिर गया है।

कॉम्फेड द्वारा संचालित बॉटलिंग प्लांट में हर दिन कम से कम 1500 लीटर रॉ नीरा की आपूर्ति करने की जवाबदेही जीविका को दी गयी थी। रॉ नीरा को प्रोसेसिंग कर दो सौ एमएल की 7500 बोतल पैकिंग होनी थी। सुधा डेयरी के काउंटरों पर इसकी बिक्री होनी थी।

तो बेरोजगार हो जाएंगे कर्मी:

प्लांट में 23 कर्मी काम करते हैं। प्रोसेसिंग और पैकेजिंग बंद होने के बाद कर्मियों को रोजगार छीनने की चिंता सता रही है। क्वालिटी कन्ट्रोलर जगतशरण सिंह कहते हैं कि साल में तीन माह ही काम मिलता है। प्रोसेसिंग बंद होते ही कर्मियों को कार्य मुक्त करते हुए वेतन भी बंद कर दिया जाता है। अधिकारियों द्वारा कहा गया था कि सीजन में नीरा तो अन्य दिनों में चिल्ली और टोमेटो सॉस बनाया जाएगा। लेकिन, कुछ नहीं हुआ।

क्यों आयी ऐसी नौबत:

कॉम्फेड के सीईओ पीके सिन्हा कहते हैं कि जितना उत्पादन किया जा रहा था, उतनी नीरा की मांग नहीं थी। खराब होने की शिकायतें भी मिल रही थीं। क्वालिटी में सुधार करने की जरूरत है। वरीय अधिकारियों को इस बारे में लिखा गया है। पैकिंग के बाद कोल्डचेन को अच्छी तरह से मेंटेन करने के बाद छह दिन तक ही नीरा ठीकठाक रहती है। उसके बाद खराब हो जाती थी। यही कारण है कि नीरा की प्रोसेसिंग को बंद कर दिया गया है। समस्या भी है कि नीरा में की जा रही मिलावट की जांच का कोई इंतजाम नहीं है।

READ More...  बिहार से मैट्रिक पास राज्यसभा सदस्य!:RJD के उम्मीदवार पर सबसे ज्यादा मुकदमे, ‌BJP के शंभू शरण से ज्यादा उनकी पत्नी अमीर

खबरें और भी हैं…

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)