e0a4a8e0a4bfe0a49ae0a4b2e0a580 e0a485e0a4a6e0a4bee0a4b2e0a4a4 e0a495e0a587 e0a49ce0a49c e0a4a1e0a4b0 e0a495e0a580 e0a4b5e0a49ce0a4b9
e0a4a8e0a4bfe0a49ae0a4b2e0a580 e0a485e0a4a6e0a4bee0a4b2e0a4a4 e0a495e0a587 e0a49ce0a49c e0a4a1e0a4b0 e0a495e0a580 e0a4b5e0a49ce0a4b9 1

हाइलाइट्स

सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ ने निचली अदालतों के जजों पर कही बड़ी बात
डर की वजह से गंभीर अपराध में जमानत देने से बचते हैं निचली अदालत के जज
कहा- जिला न्यायपालिका देश की न्यायिक प्रणाली के मामलों में महत्वपूर्ण है

नई दिल्ली. देश के मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ ने शनिवार को बड़ी बात कही. उन्होंने कहा कि निचली अदालत के जज गंभीर मामलों में जमानत देने से बचते हैं. इसकी वजह डर है. वे डरते हैं कि कहीं जमानत देने के बाद उन्हें आरोपी निशाना न बना लें. उन्होंने कहा कि निचली अदालतों के जजों में अपराध की तो खूब समझ होती है, लेकिन उनके अंदर का डर हावी हो जाता है. सीजेआई ने यह बात बार काउंसिल ऑफ इंडिया के अभिनंदन समारोह में कही.

उन्होंने कहा कि “निचली अदालतों के कारण शीर्ष अदालतें जमानत याचिकाओं से भर गई हैं.” इस मौके पर कानून मंत्री किरेन रिजिजू भी मौजूद थे. सीजेआई चंद्रचूड़ ने जिला न्यायपालिका पर भरोसा करना सीखने की जरूरत पर बल दिया. उन्होंने कहा कि यह वास्तव में न्याय की तलाश करने वाले आम नागरिकों की जरूरतों को पूरा करेगी. जिला न्यायपालिका देश की न्यायिक प्रणाली के मामलों में उतनी ही महत्वपूर्ण है जितना कि उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालय हैं.

न्यायप्रणाली में महिलाओं की हिस्सेदारी पर भी बात
न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने न्यायपालिका, जिला न्यायपालिका, न्यायिक बुनियादी ढांचे, कानूनी शिक्षा और न्यायिक प्रणाली में महिलाओं की हिस्सेदारी और प्रौद्योगिकी के उपयोग के बारे में भी बात की. सीजेआई ने कहा कि एक स्वतंत्र बार न्यायपालिका की स्वतंत्रता के साथ अटूट रूप से जुड़ा हुआ है और इसका कारण यह है कि न्यायाधीशों के रूप में ‘हमारे पास कोई व्यक्तिगत बचाव या खुद का बचाव करने का कोई मंच नहीं है’.

READ More...  मंकीपॉक्स के दूसरे मामले से बढ़ी चिंता, एयरपोर्ट और बंदरगाहों पर की जाएगी सख्त जांच

(इनपुट भाषा से भी)

Tags: Delhi news, Justice DY Chandrachud

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)