e0a4a8e0a58be0a49fe0a4ace0a482e0a4a6e0a580 e0a495e0a587 e0a496e0a4bfe0a4b2e0a4bee0a4ab e0a4afe0a4bee0a49ae0a4bfe0a495e0a4bee0a493
e0a4a8e0a58be0a49fe0a4ace0a482e0a4a6e0a580 e0a495e0a587 e0a496e0a4bfe0a4b2e0a4bee0a4ab e0a4afe0a4bee0a49ae0a4bfe0a495e0a4bee0a493 1

नई दिल्ली. उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) द्वारा वर्ष 2016 में 1,000 रुपये और 500 रुपये के नोटों को बंद करने (Demonetization) संबंधी सरकार के फैसले को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सोमवार को अपना फैसला सुनाए जाने की संभावना है. न्यायमूर्ति एस. ए. नजीर की अध्यक्षता वाली पांच-न्यायाधीशों की संविधान पीठ दो जनवरी को इस मामले पर अपना फैसला सुना सकती है. उच्चतम न्यायालय की सोमवार की वाद सूची के अनुसार, इस मामले में दो अलग-अलग फैसले होंगे, जो न्यायमूर्ति बी. आर. गवई और न्यायमूर्ति बी. वी. नागरत्ना द्वारा सुनाए जाएंगे.

न्यायमूर्ति नजीर, न्यायमूर्ति गवई और न्यायमूर्ति नागरत्ना के अलावा, पांच न्यायाधीशों की पीठ के अन्य सदस्य न्यायमूर्ति ए. एस. बोपन्ना और न्यायमूर्ति वी. रामासुब्रमण्यन हैं. उच्चतम न्यायालय ने केंद्र और भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को सात दिसंबर को निर्देश दिया था कि वे सरकार के 2016 में 1000 रुपये और 500 रुपये के नोट को बंद करने के फैसले से संबंधित प्रासंगिक रिकॉर्ड पेश करें.

पीठ ने केंद्र के 2016 के फैसले को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर अटॉर्नी जनरल आर वेंकटरमणी, आरबीआई के वकील और वरिष्ठ अधिवक्ता पी चिदम्बरम तथा श्याम दीवान समेत याचिकाकर्ताओं के वकीलों की दलीलें सुनी थीं और अपना फैसला सुरक्षित रखा था.

कांग्रेस नेता चिदंबरम ने दी थी ये दलील
एक हजार और 500 रुपये के नोटों को बंद करने के फैसले को ‘गंभीर रूप से दोषपूर्ण’ बताते हुए चिदंबरम ने दलील दी थी कि केंद्र सरकार कानूनी निविदा से संबंधित किसी भी प्रस्ताव को अपने दम पर शुरू नहीं कर सकती है और यह केवल आरबीआई के केंद्रीय बोर्ड की सिफारिश पर किया जा सकता है.

READ More...  उदयपुर हत्याकांड: रियाज अख्तरी और गौस मोहम्मद ने माना, उनके रडार पर थे BJP नेता, की थी दफ्तरों की रेकी- सूत्र

वर्ष 2016 की नोटबंदी की कवायद पर फिर से विचार करने के सर्वोच्च न्यायालय के प्रयास का विरोध करते हुए सरकार ने कहा था कि अदालत ऐसे मामले का फैसला नहीं कर सकती है, जब ‘बीते वक्त में लौट कर’ कोई ठोस राहत नहीं दी जा सकती है.

Tags: P Chidambaram, Supreme Court

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)