e0a4abe0a4bfe0a4b0 e0a4b8e0a587 e0a4b6e0a581e0a4b0e0a582 e0a4b9e0a581e0a488 e0a485e0a4aee0a4b0e0a4a8e0a4bee0a4a5 e0a4afe0a4bee0a4a4
e0a4abe0a4bfe0a4b0 e0a4b8e0a587 e0a4b6e0a581e0a4b0e0a582 e0a4b9e0a581e0a488 e0a485e0a4aee0a4b0e0a4a8e0a4bee0a4a5 e0a4afe0a4bee0a4a4 1

श्रीनगर: अचानक आई बाढ़ के चलते तीन दिनों तक निलंबित रहने के बाद अमरनाथ यात्रा (Amarnath Yatra) सोमवार को बहाल हो गयी, जबकि जम्मू कश्मीर प्रशासन (Jammu and Kashmir Administration) ने कहा कि नुकसान के बारे में मंगलवार तक स्पष्ट तस्वीर सामने आएगी.

‘जोखिम वाली’ जगह पर तीर्थयात्री शिविर लगाने के आरोपों पर राजभवन के प्रवक्ता ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा कि पहले आयीं आकस्मिक बाढ़ को योजना बनाते वक्त ध्यान में रखा गया था, लेकिन शुक्रवार का ‘‘सैलाब‘‘ अनुमान से ज्यादा था और पहले ऐसा कभी नहीं देखा गया था.

पवित्र अमरनाथ गुफा दक्षिण कश्मीर में 3880 मीटर की ऊंचाई पर है. जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड (एसएएसबी) के अध्यक्ष हैं, जो वार्षिक अमरनाथ यात्रा का प्रबंधन संभालता है. पिछले दिनों अमरनाथ यात्रा के दौरान बादल फटने की घटना में 15 लोगों की मौत हो गयी.

 नदीतल पर टेंट कभी लगाये नहीं गये
प्रवक्ता ने स्पष्ट किया कि नदीतल पर टेंट कभी लगाये नहीं गये और असल में लोगों की सुरक्षा के लिए उन्हें इस साल तैयार किये गये तटबंध से भी दूर ले जाया गया.

अधिकारी ने कहा, ‘‘ इस साल टेंट लगाने की योजना बनाते समय एसएएसबी ने 2021 और 2015 में आयी आकस्मिक बाढ़ को ध्यान में रखा था. सुरक्षा बांध बनाने की प्रक्रिया अक्टूबर, 2021 में शुरू हुई थी , उससे पहले विशेषज्ञों के साथ चर्चा की गयी और पिछले साल अगस्त में आयी आकस्मिक बाढ़ को ध्यान में रखा गया.’’

प्रवक्ता ने कहा, ‘‘ पिछले साल एवं 2015 की आकस्मिक बाढ पर चर्चा हुई और उसे संज्ञान में लिया गया एवं अनुमानित जलस्तर के आधार पर तटबंध निर्माण जैसे एहतियाती कदमों का फैसला किया गया.’’

READ More...  लापरवाही की हद! पेशी के लिए कोर्ट लाया गया तस्कर, दारोगा को चकमा देकर हुआ फरार

उन्होंने कहा, ‘‘ लेकिन पिछले शुक्रवार को जो पानी की तेज धार आयी, वह अनुमान से अधिक थी और वैसा कभी नहीं देखा गया था.’’

यह स्षष्टीकरण ऐसे समय आया है जब आरोप लग रहे हैं कि बोर्ड ने इस साल गुफा के बाहर नदी के शुष्क तल पर लंगर और टेंट लगाते समय पिछले साल 28 जुलाई को हुई बादल फटने की घटना की अनदेखी की.

वैसे तो पिछले साल कोविड-19 महामारी के चलते अमरनाथ यात्रा नहीं हुई थी, लेकिन यह घटना इतनी गंभीर थी कि सिन्हा ने टेलीफोन पर केंद्रीय गृहमंत्री को सूचना दी थी.

सिन्हा ने पिछले साल 28 जुलाई को ट्वीट किया था, ‘‘ माननीय गृहमंत्री श्री अमित शाह जी से बात की और उनके साथ श्री अमरनाथ श्राइन में ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बादल फटने की घटना की चर्चा की. पवित्र गुफा के समीप पानी की तेज धारा थी. ’’

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने नदी के शुष्क तल पर टेंट लगाने की वजह पर सवाल उठाया था एवं जिम्मेदारी तय करने के लिए जांच की मांग की थी.

Tags: Amarnath Yatra, Jammu kashmir

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)