e0a4abe0a4bfe0a4b2e0a580e0a4aae0a580e0a482e0a4b8 e0a4a4e0a582e0a4abe0a4bee0a4a8 e0a495e0a58b e0a4b8e0a581e0a4a8e0a4bee0a4aee0a580
e0a4abe0a4bfe0a4b2e0a580e0a4aae0a580e0a482e0a4b8 e0a4a4e0a582e0a4abe0a4bee0a4a8 e0a495e0a58b e0a4b8e0a581e0a4a8e0a4bee0a4aee0a580 1

हाइलाइट्स

फिलीपींस के कुसियोंग गांव के निवासी रविवार को आए तूफान को सुनामी समझ बैठे.
इस गलतफहमी से दर्जनों गांववालों की जान चली गई.
गलतफहमी इसलिए हुई, क्योंकि कुसियोंग इससे पहले विनाशकारी सुनामी का सामना कर चुका था.

मनीला. फिलीपींस के कुसियोंग गांव के निवासी रविवार को आए तूफान को सुनामी समझ बैठे, जिसके चलते वे पहाड़ की तरफ ऊंचे स्थान की ओर दौड़ पड़े और फिर वहीं जिंदा दफन हो गए. एक अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि गांववालों को यह गलतफहमी इसलिए हुई, क्योंकि कुसियोंग इससे पहले विनाशकारी सुनामी का सामना कर चुका था. रविवार तड़के फिलीपींस के उत्तर-पश्चिमी तट पर भारी तबाही मचाने वाले ‘नालगे’ नामक उष्णकटिबंधीय तूफान से सबसे अधिक प्रभावित हिस्सों में शामिल दक्षिणी प्रांत मैग्विनडानाओ के कुसियोंग गांव में दूर-दूर तक लगे कीचड़ के अंबार से बचावकर्ता अब तक कम से कम 18 शव निकाल चुके हैं.

पूर्व गुरिल्ला अलगाववादियों द्वारा शासित पांच मुस्लिम प्रांतों के स्वायत्त क्षेत्र के गृह मंत्री नजीब सिनारिंबो ने कहा कि अधिकारियों को गुरुवार रात और शुक्रवार तड़के के बीच कुसियोंग गांव में 80 से 100 लोगों के बाढ़ के पानी में बहने या दफन होने की आशंका है. ‘नालगे’ के दौरान फिलीपींस में भारी बारिश हुई, जिसके कारण कम से कम 50 लोगों की मौत हो गई. जान गंवाने वालों में कुसियोंग गांव के लोग भी शामिल हैं. साथ ही यह तूफान आपदा के लिहाज से सबसे संवेदनशील देशों में शुमार फिलीपींस में भारी तबाही का मंजर छोड़ गया.

‘टेडुरे’ जातीय अल्पसंख्यकों की घनी आबादी वाले कुसियोंग गांव के लिए यह आपदा और भी दुखद है, क्योंकि इसके 2,000 से अधिक ग्रामीण सुनामी से बचने के लिए दशकों से हर साल आपदा प्रबंधन की तैयारियां करते रहे हैं. यह गांव सुनामी के कारण घातक तबाही का भी गवाह रह चुका है. सिनारिंबो ने कहा कि ग्रामीण हालांकि मिनंदर पर्वत से आए इस खतरे क‍ो भांप नहीं पाए.

READ More...  रूस के बमवर्षक विमानों का यूक्रेन पर हमला, दक्षिणपूर्वी शहर में दागे क्रूज मिसाइल

यह भी पढ़ें: सियोल भगदड़: गवाहों ने बताई मौके की भयानक दास्तान, 4 मीटर चौड़ी गली में घुस गए 1 लाख लोग

उन्होंने कुसियोंग में रहने वाले लोगों के हवाले से ‘एसोसिएटेड प्रेस’ को बताया कि जब लोगों ने चेतावनी घंटी की आवाज सुनी तो वे भागने लगे और एक ऊंचे स्थान पर स्थित गिरजाघर में जमा हो गए. लेकिन यह सुनामी नहीं थी, जो उन्हें डुबो देती. बल्कि यह पानी और कीचड़ का बड़ा सैलाब था, जो पहाड़ से उतरा था. सिनारिंबो ने कहा कि इस एक गलतफहमी से दर्जनों गांववालों की जान चली गई.

कुसियोंग गांव मोरो की खाड़ी और मिनंदर पर्वत के बीच में पड़ता है. अगस्त 1976 में मोरो खाड़ी और इसके आसपास 8.1 तीव्रता के भूकंप के बाद आई सुनामी ने भारी तबाही मचाई थी, जिसके चलते हजारों लोगों की मौत हो गई थी.

Tags: Heavy Storms, Philippines, World news

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)