Sher Singh Rana, Sher Singh Rana Behmai, Sher Singh Rana Phoolan Devi, Sher Singh Behmai Visit- India TV Hindi
Image Source : FACEBOOK/@RANASHERSINGH17 शेर सिंह राणा ने बेहमई का दौरा किया और उन लोगों को श्रद्धांजलि दी जिनकी हत्या फूलन ने की थी।

बेहमई: उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात के बेहमई गांव में 40 साल पहले 14 फरवरी 1981 को एक युवा लड़की ने एक डकैत गिरोह द्वारा अपने यौन शोषण का बदला लेने के लिए 20 निर्दोष व्यक्तियों की गोली मारकर हत्या कर दी थी। आगे चलकर बैंडिट क्वीन फूलन देवी के नाम से जानी जाने वाली युवा लड़की बाद में सांसद बन गई। बेहमई नरसंहार में मारे गए लोगों में से 17 ठाकुर बिरादरी से थे। जुलाई 2001 में फूलन की दिल्ली में एक ठाकुर युवक शेर सिंह राणा ने गोली मारकर हत्या कर दी, जिसने दावा किया था कि उसने बेहमई में ठाकुरों के नरसंहार का बदला लेने के लिए फूलन की हत्या की थी।

बेहमई में राणा के स्वागत के लिए उमड़े लोग

मंगलवार को, शेर सिंह राणा ने बेहमई का दौरा किया और उन लोगों को श्रद्धांजलि दी जिनकी हत्या फूलन ने की थी। राणा ने उन लोगों की याद में गांव में बने एक स्मारक का दौरा किया, जो 1981 के नरसंहार में मारे गए थे और पुष्पांजलि अर्पित की। राणा नरसंहार मामले में मुख्य गवाह और वादी राजा राम सिंह के घर भी गया। सिंह का 85 साल की उम्र में लंबी बीमारी के बाद दिसंबर 2020 में निधन हो गया। जैसे ही शेर सिंह राणा के आने की खबर फैली, लगभग पूरा गांव उसका अभिवादन करने के लिए उमड़ पड़ा।

लोगों ने राणा को कंधे पर उठाया, माला पहनाई
फूलन देवी को गोली मारने वाले व्यक्ति की एक झलक पाने के लिए आस-पास के गांवों के ठाकुर भी बेहमई पहुंचे। राणा को स्थानीय लोगों द्वारा कंधे पर उठाया गया और माला पहनाई गई। शेर सिंह राणा ने भीड़ को संबोधित करते हुए कहा कि वह ठाकुरों के सम्मान के लिए लड़ता रहेगा। हालांकि बेहमई और आसपास के गांवों में वर्तमान आबादी का अधिकांश हिस्सा नरसंहार का गवाह नहीं रहा है, लेकिन हर कोई इस घटना को जानता है।
‘राणा औरों के लिए अपराधी होगा, हमारे लिए हीरो है’
कानपुर में कंप्यूटर साइंस का कोर्स कर रहे 21 साल के शिरीष सिंह कहते हैं, ‘मेरे दादा और पिता ने मुझे बेहमई नरसंहार के बारे में बताया है। हम इस बारे में कहानियां सुनते हुए बड़े हुए हैं। मेरे लिए, उस आदमी को देखना सपना सच होने जैसा है, जिसने हमारे लिए नरसंहार का बदला लिया। मेरे दो रिश्तेदार मारे गए लोगों में से थे।’ राणा के साथ सेल्फी लेने के लिए शिरीष, और उनके जैसे सैकड़ों अन्य लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। राणा की एक झलक पाने के लिए पड़ोसी के घर की छत पर चढ़ गई 12वीं कक्षा की छात्रा नंदिनी सिंह ने कहा, ‘दूसरों के लिए, वह एक अपराधी हो सकता है, लेकिन हमारे लिए, वह हमारा हीरो है।’ Original Source(india TV, All rights reserve)

READ More...  दिल्ली हिंसा मामले में 20 किसान नेताओं को नोटिस, पुलिस ने तीन दिनों में मांगा जवाब