e0a4ace0a49ce0a49f 2023 e0a495e0a58de0a4afe0a4be e0a4ace0a49ce0a49f e0a4aee0a587e0a482 e0a4b9e0a58be0a497e0a580 e0a486e0a4af
e0a4ace0a49ce0a49f 2023 e0a495e0a58de0a4afe0a4be e0a4ace0a49ce0a49f e0a4aee0a587e0a482 e0a4b9e0a58be0a497e0a580 e0a486e0a4af 1

हाइलाइट्स

देश में 8 करोड लोग इनकम टैक्स का भुगतान करते हैं.
इनकम टैक्‍स स्‍लैब में पिछले बजट में बदलाव नहीं हुआ था.
बजट 2023 में इनकम टैक्‍स पेयर को राहत मिलने की उम्‍मीद है.

नई दिल्‍ली. हर साल भारत में लोगों में इस बात के लिए उत्सुकता रहती है कि केंद्रीय बजट में सरकार उनके लिए क्‍या खास करेगी. बजट 2023 (Budget 202) केंद्र सरकार का अंतिम पूर्ण बजट होगा. इसलिए इस बार उम्‍मीद की जा रही है कि वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) इस बार लोगों को बजट कई तोहफे देंगी. कुछ जानकर इस वर्ष के बजट में वर्तमान आयकर स्लैब (Income Tax Slab) में भी बदलाव होने की संभावना जता रहे हैं. आयकरदाताओं को भी उम्‍मीद है कि बजट में सरकार आयकर सीमा को बढ़ाकर मध्‍यमवर्ग को लुभाने की कोशिश करेगी.

पिछले बजट में भी उम्‍मीद थी कि सरकार मध्‍यम वर्ग को टैक्‍स से राहत देगी. लेकिन, ऐसा नहीं किया गया. बजट 2022 की समीक्षा करते हुए एरिन कैपिटल पार्टनर्स के अध्यक्ष और मशहूर वित्‍तीय जानकार टी.वी.मोहनदास पई ने कहा था कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने मध्‍यम वर्ग को टैक्‍स से राहत न देकर बजट को ‘परिवर्तनकारी बजट’ में परिवर्तित करने का सुअवसर खो दिया. उम्‍मीद कि जा रही है इस बार वित्‍त मंत्री यह मौका नहीं गवाएंगी.

ये भी पढ़ें-   PPF खाताधारकों को मिलेगी ‘गुड न्यूज’! इस हफ्ते बढ़ सकती है ब्‍याज दर, जानिए क्यों लगाए जा रहे हैं कयास

कोविड 19 का सबसे गहरा असर मध्‍यम वर्ग पर
अगर आयकर स्‍लैब में बदलाव करते हुए आयकर सीमा को बढ़ाया जाता है, तो इसका सबसे ज्‍यादा फायदा मध्‍यम वर्ग को होगा. मध्‍यम वर्ग ने कोविड-19 (Covid-19) में सबसे ज्‍यादा मुश्किलें झेली. इसी वर्ग की सबसे ज्‍यादा नौकरियों कोरोना काल में गईं. स्‍वास्‍थ्‍य पर सबसे ज्‍यादा खर्च भी इसी वर्ग ने किया. अब भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था (Indian Economy) कोरोना की मार से काफी उबर चुकी है. सरकार की आय बढ़ रही है. इससे उम्‍मीद जगी है इस बार सरकार टैक्‍स राहत (Tax Relief) जरूर देगी.

READ More...  Small Business Idea- नुकसान की चिंता छोड़ आज ही शुरू करें ये बिजनेस, आराम से हो जाएगी ₹60000 तक की बचत

8 करोड़ आयकरदाता
मार्च, 2022 में वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया था कि 2020-21 एसेसमेंट ईयर यानि 2019-20 वित्तीय वर्ष में कुल 8,13,22,263 लोगों ने इनकम टैक्स का भुगतान किया है. एक आयकरदाता के परिवार में कुल चार सदस्‍य ही मानें तो 32 करोड़ लोग ऐसे हैं, जिन्‍हें हम मध्‍यम वर्ग कह सकते हैं. भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में मध्‍यम वर्ग खपत का इंजन (Driver Of Consumption) है. यही वो आबादी है जो कार खरीदती है और गृहऋण (Home Loan) लेती है. ये भारत के मुख्‍य करदाता हैं और उपभोक्‍ता भी.

जानकारों का कहना है कि अगर सरकार बजट में आयकर स्‍लैब में बदलाव करके आयकर सीमा बढ़ाती है तो देश के मध्‍यम वर्ग के हाथ में ज्‍यादा पैसा आएगा. इससे खपत में भी वृद्धि होगी. इससे देश की अर्थव्‍यवस्‍था को तो फायदा होगा ही, साथ ही साल 2024 में होने वाले आम चुनाव में भाजपा को राजनीतिक लाभ भी मिल सकता है.

Tags: Budget, Business news in hindi, Income tax, Income tax slabs

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)