e0a4ace0a4bfe0a4b9e0a4bee0a4b0 e0a495e0a587 e0a4aee0a482e0a4a4e0a58de0a4b0e0a580 e0a495e0a587 e0a4ace0a4bfe0a49ce0a4a8e0a587e0a4b8
e0a4ace0a4bfe0a4b9e0a4bee0a4b0 e0a495e0a587 e0a4aee0a482e0a4a4e0a58de0a4b0e0a580 e0a495e0a587 e0a4ace0a4bfe0a49ce0a4a8e0a587e0a4b8 1

पटना. पटना. बिहार से इस वक्‍त की सबसे बड़ी खबर सामने आ रही है. आयकर विभाग की टीम ने प्रदेश के कई हिस्‍सों में एक साथ छापेमारी की है. बताया जा रहा है कि बिहार सरकार में एक मंत्री के बिजनेस पार्टनर के ठिकानों पर रेड मारी गई है. यह मामला कर चोरी से जुड़ा है. बताया जा रहा है कि जिनके ठिकानों पर छापे मारे गए हैं, वह मंत्री के रिश्‍तेदार ही हैं. जानकारी यह भी सामने आ रही है वह मंत्री के साले हैं. उनके बोरिंग रोड स्थित ठिकाने पर भी आयकर विभाग की टीम ने रेड डाली है. इसके अलावा अन्‍य लोगों के ठिकानों पर भी छापे मारे गए हैं.

जानकारी के अनुसार, IT की टीम ने साकार कंस्‍ट्रक्‍शन नाम की कंपनी के ठिकानों पर छापे मारे हैं. इस कंपनी के मालिक समीर महासेठ बताए जा रहे हैं. इनकी कंपनी में 7 डायरेक्‍टर और 1 एमडी हैं. कर चोरी के मामले में यह कार्रवाई की गई है. साकार कंस्‍ट्रक्‍शन कंपनी में रवि भूषण, उषा अग्रवाल,
विष्णु कुमार चौधरी, रवि तलवार, जितेंद्र नाथ गुप्ता, स्मिता चौधरी और सुप्रिया कुमार बतौर डायरेक्टर हैं. वहीं, सुदीप कुमार साकार कंस्‍ट्रक्‍शन कंपनी में एमडी हैं. आयकर विभाग के छापे से बिहार में खलबली मची हुई है.

इससे पहले अक्‍टूबर महीने में भी बिल्‍डर और ठेकेदार के ठिकानों पर आयकर विभाग की टीम ने छापे मारे थे. इसको लेकर प्रदेश में काफी राजनीतिक बयानबाजी भी हुई थी. पटना के बड़े ठेकेदार और होटल व्यवसायी गब्बू सिंह और उनसे संबंधित लोगों के 26 ठिकानों पर आयकर विभाग की टीम ने छापा मारा था. उस वक्‍त पटना के अलावा उनके छपरा, दिल्ली, नोएडा और गाजियाबाद स्थित ठिकानों पर भी छापे मारे गए थे. टीम ने महत्वपूर्ण कागजातों के साथ बड़ी मात्रा में नकदी बरामद की थी.

READ More...  रात में पकड़ाया प्रेमी सुबह में मिली प्रेमिका की लाश; ऑनर किल‍िंग की आशंका

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

FIRST PUBLISHED : November 17, 2022, 12:31 IST

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)