e0a4ade0a4bee0a4b0e0a4a4 e0a4ace0a4a8e0a4be e0a4b0e0a4b9e0a4be e0a4b9e0a588 e0a4aae0a4b9e0a4b2e0a580 e0a4b9e0a4bee0a487e0a4aae0a4b0
e0a4ade0a4bee0a4b0e0a4a4 e0a4ace0a4a8e0a4be e0a4b0e0a4b9e0a4be e0a4b9e0a588 e0a4aae0a4b9e0a4b2e0a580 e0a4b9e0a4bee0a487e0a4aae0a4b0 1

नई दिल्ली: बह्मोस एयरोस्पेस के सीईओ (Brahmos Aerospace Ceo) और एमडी अतुल राणे (Atul Rane) ने सोमवार को एक बड़ी जानकारी दी. उन्होंने बताया कि भारत-रूस डिफेंस ज्वाइंट वेंचर ब्रह्मोस एयरोस्पेस हाइपरसोनिक मिसाइल (Hypersonic Missile) बनाने में पूरी तरह से सक्षम है और अगले पांच छह साल में भारत अपनी पहली हाइपरसोनिक मिसाइल बना लेगा.

बता दें कि आजादी के 75 साल पूरे होने के अवसर पर ब्रह्मोस एयरोस्पेस ने सोमवार को सिल्वर जुबली ईयर समारोह की शुरुआत की. सीईओ अतुल राणे ने कहा कि हम हाइपरसोनिक मिसाइल बनाने में सक्षम हैं और अगले पांच से छह साल में भारत के पास हाइपरसोनिक ब्रह्मोस मिसाइल होगी. अतुल ब्रह्मोस मिसाइल के सिल्वर जुबली सेलिब्रेशन कार्यक्रम में बोल रहे थे.

गौरतलब है कि ब्रह्मोस मिसाइल इस समय दुनिया की सबसे ताकतवर और रफ्तार के साथ अपने निशाने पर अचूक वार करने वाली क्रूज मिसाइल है. इस मिसाइल को दुनिया के सबसे सटीक और घातक हथियारों में गिना जाता है.

बता दे कि 12 जून 2022 को ब्रह्मोस मिसाइल की पहली सुपरसोनिक उड़ान को भरे हुए 21 साल हो गए हैं. अगले साल 12 फरवरी 2013 में ब्रह्मोस रेजिंग डे के दिन सिल्वर जुबली ईयर मनाया जाएगा और इसी दिन रजत जयंती समारोह खत्म होगा.

सिल्वर जुबली सेलिब्रेशन में होंगे कई आयोजन
एएनआई की खबर के अनुसार ब्रह्मोस एयरोस्पेस ने सिल्वर जुबली सेलिब्रेशन के दौरान कई अलग अलग समारोह आयोजित करने का निर्णय लिया है. इकाई राष्ट्रीय स्तर पर कई तरह के कंपटीशन भी आयोजित करेगी. मिसाइल टेक्नोलॉजी में युवाओं का योगदान बढ़ाने के लिए एक एप्लीकेशन बेस्ड राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता भी आयोजित की जाएगी.

READ More...  ममता ने दिल्ली शासन एक्ट को संघीय ढांचे पर 'सर्जिकल स्ट्राइक' बताया, केजरीवाल को भेजी समर्थन वाली चिट्ठी

यूपी में बनेगा ब्रह्मोस मैन्युफैक्चरिंग सेंटर
बता दें कि ब्रह्मोस एयरोस्पेस यूपी में भी एक मैन्युफैक्टरिंग सेंटर बनाने की तैयारी कर रही है. इसके लिए कंपनी को 80 हेक्टेयर की भूमि भी मिल चुकी है. इस मैन्युफैक्चरिंग सेंटर में शुरुआती निवेश 300 करोड़ रुपये का होगा. कंपनी प्लान कर रही है कि इस सेंटर में मैन्युफैक्चरिंग से जुडे सभी कामों को 2024 तक पूरा कर लिया जाए. सूत्रों की मानें तो इस सेंटर के ऑपरेशनल होने के बाद हर साल करीब 100 ब्रह्मोस सिस्टम का उत्पादन हो सकेगा.

Tags: Brahmos, Missile

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)