e0a4aee0a497e0a4b9e0a580 e0a4aae0a4bee0a4a8 e0a495e0a58b e0a4ace0a4a8e0a4bee0a4afe0a4be e0a49ce0a4be e0a4b0e0a4b9e0a4be e0a4aae0a580
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Traders Buy Cheap And Sell Expensive, Crisis On The Livelihood Of 20 Thousand Families

नालंदा4 घंटे पहले

नालंदा के इस्लामपुर और राजगीर प्रखंड की 5 पंचायतों में मगही पान की खेती बड़े पैमाने पर की जाती है। यहां के मगही पान की मांग बिहार के अलावा कई राज्यों में है। सबसे खास बता यह है कि यहां का मगही पान ही बनारस और यूपी की मंडियों में पहुंचते ही बनारसी हो जाता है। वहां के कारोबारी मगही पान के पत्ते को प्रोसेसिंग कर बनारसी पान का नाम देते हैं।

2 घंटे तक कोयले की गर्मी में इन मगही पान के पत्तों को रखा जाता है। इसके बाद ये पीले रंग के हो जाते हैं। जिसे यूपी में बनारसी पान कहा जाता है।

इस खेती पर 20,000 परिवार हैं आश्रित

नालंदा के किसानों से व्यापारी सस्ते दाम पर पत्ते खरीदते हैं, लेकिन बाद में इसे ही बनारसी का नाम देकर कारोबारी मोटी कमाई कर लेते हैं। मेहनत किसान करते हैं और मुनाफा कोई और कमा ले जाता है। खेती का रकबा करीब 400 बीघा है। मौसम का साथ मिलता है तो हर साल करीब 16 हजार क्विंटल पान के पत्ते की उपज किसान कर लेते हैं।

हालांकि खेतों में लागत अधिक और मुनाफा कम होने के कारण अब युवा पीढ़ी पान की खेती से मुंह मोड़ रही है। खेती की जगह युवा दूसरे प्रदेशों में जाकर काम-धंधा करने लगे हैं, फिर भी करीब 20,000 चौरसिया परिवार की जीविका का मुख्य साधन अभी भी पान की खेती है।

कृषक संस्थान के अध्यक्ष ने कहा- इससे फायदा कम नुकसान ज्यादा

कृषक संस्थान के अध्यक्ष ने कहा- इससे फायदा कम नुकसान ज्यादा

READ More...  भागलपुर में एक साथ हजार महिलाओं के बीच 'सिंदूर खेला':100 सालों से मां दुर्गा को सिंदूर चढ़ाकर देती है विदाई, फिर एक दूसरे से गला लग उत्सव

एक पेड़ से 2 साल तक मिलते हैं पत्ते

खुदागंज मगही पान कृषक संस्थान के अध्यक्ष लक्ष्मीचंद प्रसाद बताते हैं कि पान मसाला का क्रेज बढ़ने से पान के पत्ते की मांग घटने लगी है। खासकर युवा पीढ़ी पान मसाला को अधिक प्राथमिकता दे रहे हैं। इससे किसानों को फायदा कम और नुकसान ज्यादा हो रहा है। प्रति कट्ठा बांस का बरेजा बनाने और खेतों में 20 से 22 हजार खर्च आता है।

पहले की तरह पत्ते की मांग मंडियों में कम हो रही है। पान की खेती करने वाले किसान बताते हैं कि हर साल अप्रैल-मई और जून में पान की खेती होती है। 1 साल में फसल तैयार होती है 15 जनवरी से सीजन शुरू होकर मार्च तक पत्ते की तुड़ाई की जाती है। एक बार खेती करते हैं तो 2 साल तक पत्ते मिलते हैं।

मगही पान को प्रोसेस कर के ही बनारसी पान बनाया जाता है।

मगही पान को प्रोसेस कर के ही बनारसी पान बनाया जाता है।

पत्ते की होती हैं 3 वैरायटी

पान की पत्तों को तोड़ने के बाद उसकी छटाई की जाती है। 3 वैरायटी के पत्ते निकलते हैं, इनकी कीमतें भी अलग-अलग तय की जाती हैं। सबसे निम्न क्वालिटी के पत्ते को कटपीस की श्रेणी में रखा जाता है। मध्यम क्वालिटी वाले को हेरूआ या बरूसी कहते हैं, जबकि सबसे अच्छी क्वालिटी वाले को गांठ कहा जाता है।

एक ढोली में होते हैं 200 पत्ते

साधारण पान के पत्ते गया कि मंडी में बिक जाते हैं। उच्च गुणवत्ता के पान के पत्ते की मांग बनारस में सबसे ज्यादा है। औसतन एक ढोली (200) पत्ते की कीमत 100 से 150 रुपए है। वहीं 1 बीघा में फसल अच्छी रही तो 130 से 150 ढोली पत्ते की उपज होती है।

इस्लामपुर में मगही पान की दो प्रोसेसिंग यूनिट है।

इस्लामपुर में मगही पान की दो प्रोसेसिंग यूनिट है।

READ More...  फिर राजस्थान जैसा तपेगा बिहार:48 घंटे में 4 डिग्री तक बढ़ेगा तापमान; पारा होगा 42 के पार

इस्लामपुर में भी है प्रोसेसिंग यूनिट

इस्लामपुर के पान अनुसंधान केंद्र में भी पत्ते की प्रोसेसिंग करने की दो यूनिट लगी हुई है, लेकिन कारोबारी पत्ते की प्रोसेसिंग करने में रुचि नहीं लेते हैं। मगही पान कृषक संस्थान के अध्यक्ष लक्ष्मीचंद प्रसाद बताते हैं कि किसानों के समक्ष बड़ी मंडी की समस्या है। इस्लामपुर से प्रोसेसिंग कर बनारस की मंडी तक पत्ते को पहुंचाने में कई समस्याएं आती है। यही कारण है कि नालंदा के किसान पत्ते की प्रोसेसिंग नहीं करते हैं। गया में बड़ी मंडी बन जाए तो किसान जरूर पत्ते की प्रोसेसिंग करेंगे।

यहां पान के पत्तों की 3 वैराइटी मिलती है।

यहां पान के पत्तों की 3 वैराइटी मिलती है।

कैसे होती है प्रोसेसिंग

पान अनुसंधान केंद्र के प्रभारी डॉ एस. एन. दास कहते हैं कि 5 फीट ऊंचे 3 फीट लंबे और 4 फीट चौड़े कमरे में छोटी-छोटी डलियों में पान के पत्ते तख्ता बनाकर रख दिए जाते हैं। कमरे में लोहे के चूल्हे में लकड़ी का कोयला जला दिया जाता है। उसके बाद पूरी तरह से एयरटाइट कमरे को बंद कर डेढ़ से 2 घंटे तक छोड़ दिया जाता है। जलते कोयले की गर्मी से पान के हरे पत्ते हल्के पीले हो जाते हैं इसे ही व्यापारी बनारसी पान का नाम देते हैं। प्रोसेसिंग के बाद पत्ते 3 माह तक खराब नहीं होते हैं। शर्त यह की पत्तों को शीतगृह में रखा जाए हवा नहीं लगनी चाहिए।

खबरें और भी हैं…

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)