e0a4aee0a49be0a4b2e0a580 e0a4aae0a4bee0a4b2e0a4a8 e0a4b8e0a587 e0a4b2e0a4bee0a496e0a58be0a482 e0a495e0a4aee0a4bee0a4a8e0a587 e0a495
e0a4aee0a49be0a4b2e0a580 e0a4aae0a4bee0a4b2e0a4a8 e0a4b8e0a587 e0a4b2e0a4bee0a496e0a58be0a482 e0a495e0a4aee0a4bee0a4a8e0a587 e0a495 1

चंडीगढ़. पंजाब के मछली पालन, पशु पालन और डेयरी विकास मंत्री लालजीत सिंह भुल्लर ने विश्व मछली पालन दिवस पर राज्य के किसानों से अपील की है कि वे मछली पालन को कृषि के सहायक पेशे के तौर पर अपनाकर अपने आमदनी के स्रोत बढ़ाएं. उन्होंने कहा कि सरकार मछली पालन अपनाने के लिए 40 प्रतिशत सब्सिडी मुहैया करवा रही है जिसका किसानों को अधिक से अधिक लाभ लेना चाहिए.

दुनिया भर में 21 नवंबर को मनाए जाने वाले विश्व मछली पालन दिवस के मौके पर राज्य के मछली और झींगा पालकों को बधाई देते हुये कैबिनेट मंत्री ने कहा कि पंजाब सरकार मछली पालन को राज्य में और बढ़ाने के लिए हर संभव सहायता देने के लिए वचनबद्ध है. भुल्लर ने कहा कि मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व में राज्य मछली पालन के क्षेत्र में निरंतर प्रगति कर रहा है और राज्य में मछली पालन के लिए बुनियादी ढांचे के विकास और मछली उत्पादन बढ़ाने के लिए खास जोर दिया जा रहा है. उन्होंने बताया कि पंजाब का कुल 43,691 एकड़ क्षेत्रफल मछली पालन अधीन है जिससे 1,89,647 टन मछली का उत्पादन हो रहा है.

उन्होंने बताया कि पंजाब के सेम और खारे पानी से प्रभावित और जीरो आमदन वाली जमीनों में झींगा पालन करवाया जा रहा है, जो किसानों की आमदन बढ़ाने में सफल सिद्ध हुआ है. उन्होंने बताया कि इस समय कुल 1200 एकड़ क्षेत्रफल में झींगा पालन हो रहा है.

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

राज्य चुनें
दिल्ली-एनसीआर

राज्य चुनें
दिल्ली-एनसीआर

READ More...  बिलिनेयर अनिल अग्रवाल की अगुआई वाली कंपनी दे रही है शेयरधारकों को बोनस शेयर, देखें डिटेल्स

मछली पालन मंत्री लालजीत सिंह भुल्लर ने बताया कि मछली पालकों को बढ़िया मछली बीज मुहैया करवाने के लिए पंजाब में 15 सरकारी मछली बीज फार्म कार्यशील हैं जबकि गांव किल्यांवाली जिला फाजिल्‍का में एक और नया सरकारी मछली बीज फार्म तैयार किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि मछली के साफ-सुथरे मंडीकरण के लिए लुधियाना में एक होलसेल-कम-रिटेल सरकारी मछली मंडी चल रही है और पटियाला में एक और नयी मछली मंडी निर्माणाधीन है, जो जल्दी ही शुरू कर दी जाएगी.

उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा लाभार्थियों को मछली पालन के अलग-अलग प्रोजेक्टों जैसे मच्छी/झींगा पालन के लिए नये तालाब तैयार करना, आरएएस और बाइउफलोक सिस्टम की स्थापना, मछली फीड मिलों की स्थापना और मछली ट्रांसपोर्ट वाहनों की खरीद आदि के लिए प्रोजैक्‍ट की कुल लागत पर 40 प्रतिशत सब्सिडी दी जा रही है. उन्होंने किसानों से अपील की कि वह सरकार की इन स्कीमों का अधिक से अधिक लाभ लेने के लिए अपने-अपने जिलों के सम्बन्धित दफ़्तरों में तुरंत आवेदन दें.

Tags: Fish, Punjab news

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)