e0a4afe0a587 e0a4b2e0a4bee0a4b2e0a49ae0a580 e0a497e0a58de0a4b0e0a4b9 e0a496e0a581e0a4a6 e0a4b9e0a580 e0a495e0a4b0e0a4b5e0a4bee0a4a4
e0a4afe0a587 e0a4b2e0a4bee0a4b2e0a49ae0a580 e0a497e0a58de0a4b0e0a4b9 e0a496e0a581e0a4a6 e0a4b9e0a580 e0a495e0a4b0e0a4b5e0a4bee0a4a4 1

हाइलाइट्स

राहु ग्रह असमंजस, और भ्रम फैलाने वाला माना जाता है.
राहु के कुप्रभाव से बचने के लिए समय पर उपाय करें.

Astrology: मनुष्य के जीवन में आने वाले उतार-चढ़ाव के बीच उसकी कुंडली में मौजूद नौ ग्रह काफी हद तक जिम्मेदार होते हैं. यदि कोई व्यक्ति लगातार परेशानियों से घिरा है और उसकी परेशानी खत्म होने का नाम नहीं ले रही है तो ऐसे उसकी कुंडली में मौजूद ग्रह किसी ऐसे घर में होगा जिससे व्यक्ति के जीवन में परेशानियां आना संभव है.

यह ग्रह पहले मनुष्य से खुद ही गलत काम करवाता है और फिर उसकी सजा भी देता है. आइए जानते हैं उसी तरह के बारे में ज्योतिषी एवं पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा से.

कौन है लालची ग्रह?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार राहु को एक लालची ग्रह के रूप में भी देखा जाता है. यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में राहु खराब स्थिति में होता है तो उस व्यक्ति को अपना अच्छा बुरा कुछ समझ नहीं आता. वह अपने स्वार्थ और लालच का शिकार होकर कई ऐसे काम कर बैठता है जिसकी वजह से उसके जीवन में अनेक परेशानियां खड़ी हो जाती हैं.

यह भी पढ़ें – Nariyal Upay: जानें नारियल को कलश में रखने की वजह और उपाय

भ्रम फैलाता है राहु ग्रह

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार राहु एक ऐसा ग्रह है जो इंसान की समझने की शक्ति को खत्म कर उसके मन में भ्रम पैदा कर देता है. राहु जब किसी व्यक्ति की कुंडली में अशुभ स्थिति में होता है तो वह नकारात्मक प्रभाव डालना शुरू कर देता है. जिसके कारण व्यक्ति बुरी आदतों का शिकार हो जाता है. बुरी संगती करता है, हालांकि उसको इस बात का ज्ञान होता है कि वह गलत कर रहा है लेकिन यह जानते हुए भी भ्रम के कारण वह ये बुरे काम करता है.

READ More...  Saptahik Rashifal 29 May To 04 June 2022: इस हफ्ते बढ़ेगी आय, पढ़ें मेष, वृष और मिथुन का राशिफल

यह भी पढ़ें – जीवन के दोषों से मुक्ति पाने के लिए घर में पाले कुत्ता, होंगे ये अन्य लाभ

छाया ग्रह

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार राहु को छाया ग्रह कहा जाता है. राहु और केतु एक प्रकार से सामान ग्रह कहे जा सकते हैं परंतु जहां केतु का परिणाम निश्चित होता है वहीं राहु ग्रह दुविधा, असमंजस, और भ्रम फैलाने वाला माना जाता है.

समय पर करें राहु के उपाय

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार राहु को छोड़कर अन्य सभी ग्रहों की दशा, महादशा और अंतर्दशा के प्रभाव से बचने के लिए जो उपाय किए जाते हैं वह एक निश्चित समय में शुरू किए जाते हैं, लेकिन राहु के कुप्रभाव से बचने के लिए समय रहते ही उन उपायों को अपना लेना चाहिए.

Tags: Astrology, Dharma Aastha, Religion

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)