e0a4b0e0a4bee0a49ce0a4a8e0a580e0a4a4e0a4bfe0a495 e0a4a6e0a4b2e0a58be0a482 e0a495e0a587 e0a4a8e0a495e0a4a6e0a580 e0a49ae0a482e0a4a6
e0a4b0e0a4bee0a49ce0a4a8e0a580e0a4a4e0a4bfe0a495 e0a4a6e0a4b2e0a58be0a482 e0a495e0a587 e0a4a8e0a495e0a4a6e0a580 e0a49ae0a482e0a4a6 1

हाइलाइट्स

निर्वाचन आयोग ने बेनामी चंदे को 20 हजार से घटकर 2 हजार करने की भी बात कही है.
निर्वाचन आयोग ने कानून मंत्रालय को पत्र लिखकर कई सारे प्रस्ताव दिए हैं.
निर्वाचन आयोग के प्रस्ताव को लागू करने के लिए RP Act में बदलाव करना होगा

नई दिल्ली. राजनीतिक अनुदान में कालेधन पर रोक के लिए मुख्य चुनाव आयुक्त का कानून मंत्रालय को पत्र लिखा है. पत्र में नकदी चंदे को 20 प्रतिशत या अधिकतम 20 करोड़ ( जो भी कम हो) की सीमा तक करने का प्रस्ताव दिया गया है. इसके अलावा निर्वाचन आयोग ने बेनामी चंदे को 20 हजार से घटकर 2 हजार करने की भी बात कही है. चुनाव आयोग के प्रस्ताव को लागू करने के लिए RP Act में बदलाव करना होगा. निर्वाचन आयोग ने प्रस्ताव दिया है कि राजनीतिक दलों के लिए एक बार में मिलने वाले नकद चंदे की अधिकतम सीमा 20 हजार रुपये से घटाकर दो हजार रुपये की जाए तथा कुल चंदे में नकद की सीमा अधिकतम 20 प्रतिशत या 20 करोड़ रुपये तक सीमित की जाए ताकि चुनावी चंदे को कालेधन से मुक्त किया जा सके. सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी.

सरकार से जुड़े सूत्रों ने बताया कि मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने केंद्रीय विधि मंत्री किरेन रीजीजू को पत्र लिखकर जन प्रतिनिधित्व कानून में कुछ संशोधन की अनुशंसा की है. उन्होंने कहा कि आयोग की सिफारिशों का मकसद राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदे की व्यवस्था में सुधार एवं पारदर्शिता लाना है. आयोग की ओर से यह कदम उस वक्त उठाया गया है जब हाल ही में उसने 284 ऐसे दलों को पंजीकृत सूची से हटा दिया था जो नियमों की अनुपालना नहीं कर रहे थे. आयकर विभाग ने हाल ही में कर चोरी के आरोप में ऐसी कई राजनीतिक इकाइयों के ठिकानों पर छापे भी मारे थे.

READ More...  राकेश टिकैत का ऐलान-इन तीन राज्यों को छोड़ कल पूरे देश में चक्‍का जाम

सूत्रों का कहना है कि निर्वाचन आयोग ने इसकी पैरवी की है कि राजनीतिक दलों को एक बार में मिलने वाले नकद चंदे की अधिकतम सीमा को 20 हजार रुपये से घटाकर दो हजार रुपये किया जाए. मौजूदा नियमों के अनुसार, राजनीतिक दलों को 20 हजार रुपये से ऊपर वाले सभी चंदों का खुलासा करना होता है और आयोग के समक्ष इस बारे में रिपोर्ट देनी होती है.

सूत्रों ने कहा कि अगर आयोग के इस प्रस्ताव को विधि मंत्रालय की स्वीकृति मिल जाती है तो 2000 रुपये से अधिक सभी चंदों के बारे में राजनीतिक दलों को जानकारी देनी होगी जिससे पारदर्शिता बढ़ेगी. आयोग ने यह सिफारिश भी की है कि किसी भी राजनीतिक दल को मिले कुल चंदे में नकद अधिकतम 20 प्रतिशत या 20 करोड़ रुपये होना चाहिए. निर्वाचन आयोग यह भी चाहता है कि चुनावों के दौरान उम्मीदवार चुनाव के लिए अलग से बैंक खात खोलें तथा सारा लेनदेन इसी खाते से हो तथा चुनावी खर्च के ब्यौरे में इसकी जानकारी भी दी जाए.(इनपुट भाषा से)

Tags: Election commission

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)