e0a4b2e0a482e0a4a6e0a4a8 e0a4b8e0a587 e0a4ade0a4bee0a4b0e0a4a4 e0a495e0a580 e0a4abe0a58de0a4b2e0a4bee0a487e0a49f e0a4aee0a587e0a482 2
e0a4b2e0a482e0a4a6e0a4a8 e0a4b8e0a587 e0a4ade0a4bee0a4b0e0a4a4 e0a495e0a580 e0a4abe0a58de0a4b2e0a4bee0a487e0a49f e0a4aee0a587e0a482 2 1

लंदन. एक डॉक्टर ने अपनी यात्रा के उस पांच घंटे के संघर्ष के बारे में बताया, जहां उन्होंने लंबी दूरी की उड़ान पर एक यात्री की जान बचाई थी. दरअसल, बर्मिंघम के क्वीन एलिजाबेथ अस्पताल में लिवर विशेषज्ञ, 48 वर्षीय डॉ. विश्वराज वेमाला अपनी मां के साथ भारत जा रहे थे, तभी एक साथी यात्री को कार्डियक अरेस्ट आ गया. उस वक्त विमान पर मौजूद मेडिकल सप्लाई और यात्रियों के सामान की सहायता से, डॉ वेमाला ने 43 वर्षीय व्यक्ति में दो बार जान डाली.

उन्होंने कहा कि वह इस अनुभव को जीवन भर याद रखेंगे. उन्होंने कहा, ‘जाहिर है मेरे मेडिकल ट्रेनिंग के दौरान, यह कुछ ऐसा था जिससे निपटने का मुझे अनुभव था, लेकिन हवा में 40,000 फीट पर ऐसा कभी नहीं किया.’ बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, यह घटना नवंबर 2022 की है, जब यात्री को कार्डियक अरेस्ट आने के बाद लंदन से एयर इंडिया की उड़ान पर सवार केबिन क्रू ने डॉक्टर की तलाश शुरू कर दी.

यात्री की नब्ज और सांस भी नहीं चल रही थी. डॉ वेमाला ने कहा, ‘उसकी धड़कनों में फिर से जान वापस लाने में मुझे लगभग एक घंटे का समय लगा.’ उन्होंने आगे कहा, ‘सौभाग्य से, क्रू के पास एक इमरजेंसी किट थी, जिसका मुझे आश्चर्य हुआ क्योंकि उस किट में लाइफ सपोर्ट के लिए कार्डियक अरेस्ट से निपटने वाली दवा शामिल थी.’

दूसरा कार्डियक अरेस्ट
हालांकि, ऑक्सीजन और एक ऑटोमेटिक डीफिब्रिलेटर के अलावा, उन्होंने कहा कि रोगी का शरीर कैसे रिएक्ट कर रहा था, इसकी निगरानी करने के लिए मदद करने में हमारे पास कोई मॉनिटर नहीं था. लंदन से एयर इंडिया की उड़ान में सवार अन्य यात्रियों से बात करने के बाद, डॉ. वेमाला को हार्ट-रेट मॉनिटर, पल्स ऑक्सीमीटर, ग्लूकोज मीटर और ब्लड प्रेशर मशीन सहित विभिन्न मशीन मिल गए.

READ More...  हमास ने इजराइल की मदद करने और हत्या के आरोप में 5 लोगों को दी मौत की सजा

मरीज को थोड़ी बाद एक दूसरे कार्डियक अरेस्ट का सामना करना पड़ा, जिसके लिए और भी लंबे समय तक उसे पुनः होश में लाने की क्रिया करने की जरूरत थी. उन्होंने कहा, ‘हमने उस व्यक्ति को कुल मिलाकर पांच घंटे तक जिंदा रखने की कोशिश की.’

मुंबई एयरपोर्ट पर हुई विमान की लैंडिंग
पायलट ने मुंबई हवाईअड्डे पर लैंडिंग की व्यवस्था की, जहां आपातकालीन कर्मचारियों ने मरीज की जान बचाने के लिए डॉक्टर वेमला का धन्यवाद करने के बाद यात्री को सुरक्षित स्थान पर ले गए. उन्होंने आगे कहा, ‘एक सलाहकार के रूप में मेरे सात वर्षों में यह पहली बार था जब मेरी मां ने मुझे काम करते हुए देखा था, जिससे यह घटना और भी भावुक हो गई.’

Tags: Air india, Britain, Cardiac Arrest, London

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)