e0a4b2e0a4b5e0a4b2e0a580e0a4a8e0a4be e0a4ace0a58be0a4b0e0a497e0a58be0a4b9e0a587e0a4a8 e0a4a8e0a587 e0a495e0a4b9e0a4be e0a48fe0a4b6
e0a4b2e0a4b5e0a4b2e0a580e0a4a8e0a4be e0a4ace0a58be0a4b0e0a497e0a58be0a4b9e0a587e0a4a8 e0a4a8e0a587 e0a495e0a4b9e0a4be e0a48fe0a4b6 1

नयी दिल्ली. भारत की स्टार मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन ने सोमवार को एशियाई चैम्पियनशिप में मिले गाेल्ड को ‘काफी महत्वपूर्ण’ बताते हुए कहा कि नये भारवर्ग में अपने पहले टूर्नामेंट से उसे खोया फॉर्म हासिल करने में मदद मिलेगी. लवलीना तोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने के बाद से खराब फॉर्म से जूझ रही थी. उन्होंने पेरिस ओलंपिक को ध्यान में रखकर भारवर्ग 69 से 75 किलो कर लिया है.

जॉर्डन के अम्माम में एशियाई चैम्पियनशिप में गोल्ड मेडल जीतने वाली लवलीना ने स्वदेश लौटने के बाद कहा, “यह गोल्ड मेरे लिये काफी मायने रखता है. यह बहुत महत्वपूर्ण है. इससे मेरा आत्मविश्वास बढेगा.”

नए भारवर्ग में पहली चैम्पियनशिप खेलना और गोल्ड जीतना अच्छा रहा
लवलीना ने कहा, “यह नये भारवर्ग में मेरी पहली चैम्पियनशिप थी और मैने स्वर्ण जीता. मुझे पता है कि मैं सही दिशा में जा रही हूं. मैं फॉर्म हासिल कर रही हूं और सही समय पर सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की कोशिश में हूं. यह जीत काफी मायने रखती है.”

लवलीना ने कहा, ”मैने पिछले साल ओलंपिक में कांस्य पदक जीता था. मैं हर चैम्पियनशिप में अच्छे प्रदर्शन की कोशिश में हूं. मेरा पहला लक्ष्य अगले साल दिल्ली में होने वाली विश्व चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीतना है. इसके बाद पेरिस ओलंपिक में पदक जीतना भी लक्ष्य है.” भारत ने एशियाई चैम्पियनशिप में 4 स्वर्ण, दो रजत और छह कांस्य पदक जीते. चारों स्वर्ण महिला मुक्केबाजों ने जीते.

READ More...  VIDEO: हवा को चीरता हुआ भाला 88.13 मी दूर गिरा, नीरज का वो थ्रो जिसने भारत को दिलाया पहला सिल्वर मेडल

Tags: Asian Boxing Championship, Lovlina Borgohain

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)