e0a4b5e0a4bfe0a4a6e0a587e0a4b6e0a580 e0a4a8e0a4bfe0a4b5e0a587e0a4b6e0a495e0a58be0a482 e0a495e0a4be e0a4ade0a4b0e0a58be0a4b8e0a4be
e0a4b5e0a4bfe0a4a6e0a587e0a4b6e0a580 e0a4a8e0a4bfe0a4b5e0a587e0a4b6e0a495e0a58be0a482 e0a495e0a4be e0a4ade0a4b0e0a58be0a4b8e0a4be 1

हाइलाइट्स

हफ्ते भर में एफपीआई ने डेट या बॉन्ड बाजार से 1,240 करोड़ रुपये की निकासी की
दिसंबर के महीने में विदेशी निवेशकों ने किया था 11,119 करोड़ रुपये निवेश
साल 2022 में एफपीआई ने की थी 1.21 लाख करोड़ रुपये की नेट निकासी

नई दिल्ली. विदेशी निवेशकों का भारतीय बाजारों को लेकर भरोसा कम हो रहा है. दुनिया के कई देशों में कोविड संक्रमण के मामले बढ़ने और अमेरिका में मंदी की चिंता के बीच जनवरी के पहले सप्ताह में फॉरन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स (FPIs) ने भारतीय शेयर बाजारों से 5,900 करोड़ रुपये निकाले हैं.

पिछले कुछ सप्ताह से फॉरन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स ने भारतीय बाजारों को लेकर सतर्क रुख अपनाया हुआ है. कोटक सिक्योरिटीज के इक्विटी रिसर्च (रिटेल) प्रमुख श्रीकांत चौहान ने कहा कि आगे चलकर ग्रॉस डोमेस्टिक प्रोडक्ट (GDP) की वृद्धि की चिंता के अलावा वैश्विक स्तर पर ऊंची ब्याज दरों और तीसरी तिमाही के कंपनियों के नतीजे कमजोर रहने की संभावना से एफपीआई के रुख में उतार-चढ़ाव रहेगा.

ये भी पढ़ें- Multibagger Stock: इस शेयर में निवेश कर बदल जाएगी आपकी किस्मत! एक हफ्ते में कमाएं 7 फीसदी मुनाफा

एफपीआई पिछले लगातार 11 सत्रों से बिकवाल बने हुए हैं
डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, 2 से 6 जनवरी के दौरान एफपीआई ने भारतीय शेयर बाजारों से शुद्ध रूप से 5,872 करोड़ रुपये निकाले हैं. वास्तव में एफपीआई पिछले लगातार 11 सत्रों से बिकवाल बने हुए हैं. इस दौरान उन्होंने 14,300 करोड़ रुपये के शेयर बेचे हैं. इससे पहले एफपीआई ने दिसंबर में शेयरों में 11,119 करोड़ रुपये और नवंबर में 36,239 करोड़ रुपये डाले थे.

READ More...  दिल्ली में जारी है सर्दी का सितम, शीत लहर से और गिरेगा पारा, जानें मौसम का हाल

FPI ने बीते साल शुद्ध रूप से 1.21 लाख करोड़ रुपये की निकासी की
कुल मिलाकर बीते साल यानी 2022 में एफपीआई ने भारतीय शेयर बाजारों से शुद्ध रूप से 1.21 लाख करोड़ रुपये की निकासी की है. अमेरिकी फेडरल रिजर्व और अन्य केंद्रीय बैंकों द्वारा आक्रामक तरीके से ब्याज दरों में वृद्धि, कच्चे तेल की कीमतों में उतार-चढ़ाव, जिंसों के ऊंचे दाम और रूस-यूक्रेन युद्ध की वजह से बीते साल एफपीआई बिकवाल रहे.

कोविड संक्रमण और अमेरिका में मंदी की चिंता
मॉर्निंगस्टार इंडिया के मैनेजर रिसर्च और एसोसिएट डायरेक्टर हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘दुनिया के कुछ हिस्सों में कोविड संक्रमण फिर फैलने और अमेरिका में मंदी की चिंता की वजह से एफपीआई भारत जैसे उभरते बाजारों से दूरी बना रहे हैं.’’

ये भी पढ़ें- Multibagger Stock: गजब की तेजी से भागा पेनी स्टॉक, अब गिरने के बाद भी बनाए रखा मुनाफा, 1 साल में निवेशकों ने की जबरदस्त कमाई

ताइवान और इंडोनेशिया के बाजारों में भी एफपीआई का प्रवाह नकारात्मक
जनवरी के पहले सप्ताह में शेयरों के अलावा एफपीआई ने डेट या बॉन्ड बाजार से भी 1,240 करोड़ रुपये की निकासी की है. भारत के अलावा ताइवान और इंडोनेशिया के बाजारों में भी एफपीआई का प्रवाह नकारात्मक रहा है. हालांकि फिलिपीन, दक्षिण कोरिया और थाइलैंड के बाजारों में उनका प्रवाह सकारात्मक रहा है.

Tags: Business news, Business news in hindi, FPI, Investment, Share market

READ More...  आनंद विहार, गोरखपुर और बांद्रा वाया लखनऊ, रेलवे चलाएगा स्पेशल ट्रेनें, ये रही पूरी डिटेल

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)