e0a4b5e0a587e0a4a6e0a4bee0a482e0a4a4e0a4be e0a495e0a587 e0a4b6e0a587e0a4afe0a4b0e0a58be0a482 e0a4a8e0a587 e0a4b2e0a497e0a4bee0a4af
e0a4b5e0a587e0a4a6e0a4bee0a482e0a4a4e0a4be e0a495e0a587 e0a4b6e0a587e0a4afe0a4b0e0a58be0a482 e0a4a8e0a587 e0a4b2e0a497e0a4bee0a4af 1

नई दिल्‍ली. मल्टीनेशनल माइनिंग कंपनी वेदांता लिमिटेड (Vedanta Limited)  द्वारा तुतिकोरिन स्थित स्‍टरलाइट कॉपर प्लांट (Tuticorin Plant) को बेचने के लिए संभावित खरीदारों से बिड मांगने की खबर आते ही सोमवार को कंपनी के शेयरों में भारी गिरावट आई. इंट्राडे में तो यह इस शेयर में 15 फीसदी तक की गिरावट आ गई. बाद में इसमें कुछ सुधार हुआ और यह 12.02 फीसदी की गिरावट के बाद 232.25 रुपये (Vedanta Share price Today) पर बंद हुआ. अरबपति अनिल अग्रवाल के स्‍वामित्‍व वाली वेदांता देश की बड़ी मेटल कंपनियों में से एक है.

वेदांता (Vedanta Share Price) के शेयरों में आज सुबह से ही लगातार गिरावट देखने को मिली. कंपनी के शेयर एक बार तो 52 सप्ताह के न्यूनतम स्तर 224 रुपये तक पहुंच गए. वेदांता के शेयरों में पिछले पांच कारोबारी सत्रों में ही 19 फीसदी की गिरावट आ चुकी है. एक महीने में यह शेयर 24 फीसदी गिर चुका है और छह महीने में इस शेयर ने 31 फीसदी गोता लगाया है.

ये भी पढ़ें- Rakesh Jhunjhunwala  का फेवरेट शेयर 52 वीक हाई से 30 फीसदी गिरा, आगे क्‍या होगा?

विवादों में रहा है तुतिकोरिन प्‍लांट
वेदांता का तुतिकोरिन प्‍लांट शुरूआत से ही विवादों में रहा है. यह विवादित प्लांट मई 2018 से बंद है. प्‍लांट को बंद कराने के लिए स्‍थानीय लोगों बड़े पैमाने पर प्रदर्शन किया था. इस प्लांट पर पर्यावरण के नियमों का पालन न करने सहित कई आरोप लगे थे. हालांकि, कंपनी अपने ऊपर लगने वाले सभी आरोपों को खारिज करती रही है. विवाद बढ़ने पर तमिलनाडु राज्य सरकार ने बंद करवा दिया. वेदांता ने सुप्रीम कोर्ट में राज्‍य सरकार के फैसले के खिलाफ अपील की है. लेकिन, अभी सुनवाई नहीं हुई है. बंद होने से पहले देश में कॉपर के कुल उत्पादन में Sterlite Copper की 40 फीसदी हिस्सेदारी थी. वेदांता के इस प्लांट की बिक्री में ऑक्सीजन जेनरेशन फैसिलिटी और रेजिडेंशियल होम शामिल हैं.

READ More...  Kia Sonet ने लॉन्चिंग के 2 साल के अंदर ही 1.5 लाख बिक्री का माइलस्टोन पार किया, डिटेल रिपोर्ट

ये भी पढ़ें- Multibagger Stocks : बिकवाली से दबे बाजार में 100% से ज्यादा रिटर्न देने वाले 5 स्मॉल कैप शेयर, देखें डिटेल्स

पांच हजार कर्मचारी करते थे काम
जब यह प्लांट बंद हुआ तब इसमें 5 हजार से अधिक कर्मचारी काम कर रहे थे. वहीं,  कंपनी का दावा था कि 25,000 से अधिक लोगों को इस प्‍लांट के जरिए अप्रत्‍यक्ष रूप से कामकाज मिला हुआ था. कंपनी की तरफ इस प्लांट के लिए बोली 4 जुलाई शाम 6 बजे तक मंगाई गई है. 2021 में खबरें आई थी कि वेदांता के अनिल अग्रवाल तमिलनाडू में 100 अरब रुपये निवेश कर एक और प्‍लांट लगाना चाहते हैं. इसके लिए कंपनी बंदरगाह के नजदीक एक हजार एकड़ जमीन की तलाश में है.

Tags: BSE Sensex, NSE, Share market, Stock market

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)