e0a4b5e0a588e0a4b6e0a58de0a4b5e0a4bfe0a495 e0a4aae0a58de0a4b0e0a4a4e0a4bfe0a4ace0a482e0a4a7e0a58be0a482 e0a495e0a587 e0a4ace0a4be
e0a4b5e0a588e0a4b6e0a58de0a4b5e0a4bfe0a495 e0a4aae0a58de0a4b0e0a4a4e0a4bfe0a4ace0a482e0a4a7e0a58be0a482 e0a495e0a587 e0a4ace0a4be

नई दिल्ली. वैश्विक प्रतिबंधों के बावजूद भारत द्वारा रूस से आयात किए जाने वाले कोयले में तेज उछाल देखने को मिला है. रॉयटर्स ने रिपोर्ट में यह जानकारी दी है. गौरतलब है कि रूस कोयले पर 30 फीसदी तक की छूट दे रहा है.

कई देशों द्वारा प्रतिबंध लगाने के बावजूद भारत ने रूस से कोई व्यापार नहीं रोका है. भारत ने कहा है कि यूक्रेन में हिंसा खत्म होनी चाहिए लेकिन रूस से अचानक वस्तुओं की खरीद बंद कर देने से वैश्विक दामों में उथल-पुथल मचेगी और उसके ग्राहकों को इसका नुकसान होगा.

ये भी पढ़ें- Petrol Diesel Prices: पेट्रोल-डीजल के नए रेट जारी, चेक करिए आपके शहर में क्या चल रहा लेटेस्ट भाव?

यूरोप ने रोका व्यापार
अमेरिकी अधिकारियों ने भारत से कहा है कि रूस से ईंधन के आयात पर कोई रोक नहीं है लेकिन इसमें बहुत तेजी भी नहीं आनी चाहिए. वहीं, यूरोपीय ट्रेडर्स ने रूस से व्यापार रोक दिया है जिसका फायदा सीधे भारतीय खरीदार उठा रहे हैं. वे ढुलाई लागत के बहुत अधिक होने के बावजूद बड़े स्तर पर कोयला रूस से खरीद रहे हैं. रॉयटर्स के अनुसार, भारत ने बीते बुधवार तक 20 दिन में 33.1 करोड़ डॉलर का कोयला व उससे संबंधित उत्पाद खरीदा है. यह पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 6 गुना अधिक है.

रूसी तेल भी जमकर खरीदा
भारतीय रिफाइनरीज ने रूस से सस्ता मिल रहा तेल भी जमकर खरीदा है. बुधवार तक 20 दिनों में रूस से 2.22 अरब डॉलर का कच्चा तेल खरीदा गया है जो पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 31 गुना अधिक है. गौरतलब है कि इन आंकड़ों पर सरकार का औपचारिक बयान नहीं आया है.

READ More...  अक्टूबर में लॉन्च होगा बीएमडब्ल्यू एम2 का नया मॉडल, देखें कार की डिटेल्स

ये भी पढ़ें- मार्केट में 5 फीसदी गिरावट, लेकिन 200 से अधिक स्मॉल-कैप स्टॉक 10-29 फीसदी पिट गए

खरीदारी बढ़ने का कारण
रिपोर्ट्स के अनुसार, रूस से ईंधन खरीदारी में इस तेज वृद्धि के 2 बड़े कारण हैं. एक यह कि रूस आर्कषक दाम ऑफर कर रहा है और दूसरा यह कि वहां के कारोबारी रुपये व दिरहम में भी भुगतान स्वीकार कर रहे हैं. इसके चलते आगे भी रूस से कोयले की खरीद बढ़ने का अनुमान है.

कोयले की मांग बढ़ी
भारत में आर्थिक गतिविधियां इस बार लगभग पूरी तरह शुरू होने और गर्मियों में मांग बढ़ने से बिजली उत्पादन कंपनियों पर अधिक बिजली पैदा करने का दबाव पड़ा है. इसी मांग को पूरा करने के लिए कोयले का आयात बढ़ा दिया गया है.

ये भी पढ़ें- RBI Data : बैंकों के लिए राहत, कर्ज में बढ़ोतरी 3 साल के उच्च स्तर पर पहुंची

Tags: Coal Shortage, Crude oil, India russia

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)