e0a4b6e0a58de0a4b0e0a4a6e0a58de0a4a7e0a4be e0a4aee0a4b0e0a58de0a4a1e0a4b0 e0a495e0a587e0a4b8 e0a4b8e0a587 e0a489e0a4a0e0a4be e0a4b8
e0a4b6e0a58de0a4b0e0a4a6e0a58de0a4a7e0a4be e0a4aee0a4b0e0a58de0a4a1e0a4b0 e0a495e0a587e0a4b8 e0a4b8e0a587 e0a489e0a4a0e0a4be e0a4b8 1

नई दिल्ली. अपनी लिव-इन पार्टनर की हत्या के बाद शव के 35 टुकड़े करने की नृशंस घटना के सामने आने के बाद विशेषज्ञों का मानना है कि इस तरह के हिंसक अपराधों के पीछे संवाद की कमी और अत्यधिक गुस्सा जैसी वजहें हैं. दिल्ली पुलिस ने अपनी लिव-इन पार्टनर श्रद्धा वालकर की हत्या के आरोपी आफताब अमीन पूनावाला (28) को पिछले दिनों गिरफ्तार किया था. वर्ष 2019 में शुरू हुई इस प्रेम कहानी में जघन्य हत्या के बीच विशेषज्ञ इसे संवाद की कमी, अत्यधिक क्रोध और टेलीविजन व सिनेमा के माध्यम से हिंसा को सामान्य ठहराए जाने को जिम्मेदार बताते हैं.

फॉरेंसिक मनोवैज्ञानिक दीप्ति पुराणिक ने पीटीआई-भाषा से कहा, “ऐसी कोई एक वजह नहीं है जिसे हम सीधे तौर पर ऐसे आचरण के लिए जिम्मेदार ठहरा सकते हैं.” उन्होंने कहा कि गुस्से में किसी व्यक्ति द्वारा अपनी साथी की हत्या के बीच हमें देखना होगा कि लोगों के बीच असहिष्णुता का स्तर बढ़ रहा है. उन्होंने कहा, “इन दिनों, हम अक्सर देखते हैं कि लोग बहुत जल्दी तनावग्रस्त हो जाते हैं, वे अपनी निराशा को बर्दाश्त नहीं कर पाते हैं. और निश्चित रूप से संवाद की कमी है. संवाद करने और मुद्दे को हल करने के बदले वे झगड़ा कर रहे हैं. लोग आमतौर पर संवाद से बचते हैं, कोई भी बैठकर सुनना नहीं चाहता.”

नेशनल फॉरेंसिक साइंसेज यूनिवर्सिटी में एसोसिएट डीन स्मिता पांडे के अनुसार कई मुद्दे, पुरानी रंजिश और असामाजिक जीवनशैली से कुछ लोगों में अचानक गुस्सा पैदा हो सकता है. उन्होंने कहा, ‘मौजूदा दौर में, लोग दैनिक जीवन में होने वाली छोटी-छोटी बातों को भी माफ नहीं कर पाते हैं. वे एकत्र होते रहते हैं और द्वेष बना रहता है. लोग असामाजिक जीवन शैली भी जी रहे हैं. यह सब क्रोध का कारण बन सकता है और वे अपने गुस्से को नियंत्रित नहीं कर सकते.’

READ More...  कांग्रेस में बदलाव के लिए साहस दिखाना जरूरी- शशि थरूर ने अध्यक्ष चुनाव से पहले 'डेलीगेट्स' से की आखिरी अपील

उन्होंने कहा कि क्रोध प्रबंधन का कोई सहारा नहीं है और ऐसे मामलों में संवाद की कमी दिखाई देती है. पूनावाला ने जांच के दौरान पुलिस को बताया कि शादी को लेकर झगड़ा होने के बाद उसने अपनी साथी श्रद्धा को मार डाला तथा उसके शव को टुकड़ों में काटने का विचार उसे एक अमेरिकी टेलीविजन सीरीज ‘डेक्सटर’ से आया.

पुलिस के अनुसार आरोपी ने शव के टुकड़ों को रखने के लिए एक फ्रिज खरीदा तथा वह इन टुकड़ों को फेंकने के लिए आधी रात को निकलता था. पुलिस के अनुसार आरोपी ने इन टुकड़ों को फेंकने की योजना इस आधार पर सावधानीपूर्वक बनाई थी कि शरीर का कौन सा हिस्सा जल्द से जल्द सड़ना शुरू हो जाता है.

Tags: Delhi, Shraddha murder case

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)