e0a4b8e0a497e0a4bee0a488 e0a4b8e0a587 e0a4aae0a4b9e0a4b2e0a587 e0a4b9e0a580 e0a4b9e0a58b e0a497e0a488 e0a4b6e0a4bee0a4a6e0a580 e0a4b5

रिपोर्ट-कुंदन कुमार

गया. आईसीयू में जब कोई मरीज जाता है तो माहौल गमगीन रहता है, पर गया में एक ऐसा मौका आया कि जीवन का सबसे बड़ा खुशी का पल आईसीयू में गुजरा. हालांकि, इस दौरान सबकी आंखें नम हो गईं. दरअसल, गया में एक निजी प्राइवेट अस्पताल के आईसीयू में शादी कराई गई है, जिसकी काफी चर्चा है.News18 Hindi

अक्सर आपने इस तरह की कहानी फिल्मों में ही देखी होंगी, लेकिन गया में ये हकीकत में हुआ है. शादी के बाद खुशी मनाई जाती है लेकिन परिवारों के साथ अस्पताल के कर्मी की आंखें नम हो गईं.

आपके शहर से (पटना)

बिहार
पटना

बिहार
पटना

मेरे जिंदा रहते ही हो शादी…

यह शादी गया के मजिस्ट्रेट कॉलोनी के पास स्थित अर्श हॉस्पिटल में हुई है. हॉस्पिटल के आईसीयू में पूनम कुमारी वर्मा नाम की महिला भर्ती थीं. इनकी हालात बेहद गंभीर थी. पूनम वर्मा ने परिजनों के सामने शर्त रख दी कि उनकी बेटी चांदनी कुमारी की शादी उनके जिंदा रहते ही कर दी जाये.News18 Hindi

पूनम कुमारी वर्मा कई दिनों से बीमार थीं. सीरियस होने के बाद उन्हें अर्श हास्पिटल में भर्ती कराया गया था. जहां डॉक्टर ने मरीज की हालत को गंभीर बताते हुए कहा कि उनके बचने की संभावनाएं कम ही नजर आ रही हैं. इसके बाद मां ने अपनी बेटी की इच्छा जताई.

मां की जिद के कारण सगाई से पहले शादी

चांदनी कुमारी की सगाई 26 दिसंबर को गुरुआ प्रखंड के सलेमपुर गांव के सुमित गौरव से होनी थी.  सुमित पेशे से इंजीनियर हैं. लड़की की मां की जिद के कारण दोनों की शादी इंगेजमेंट की निर्धारित तिथि के एक दिन पहले ही कर दी गई. दुखद बात यह रही कि शादी के महज दो घंटे बाद ही लड़की की मां का निधन हो गया. जिसके बाद सभी की आंखें नम हो गईं.

अंतिम इच्छा हुई पूरी

आईसीयू में भर्ती पूनम वर्मा की अंतिम इच्छा थी कि उनकी बेटी की शादी हो जाए. वे अपनी आंखों के सामने शादी देखना चाहती थीं. उन्होंने परिजनों से कहा कि मेरी बेटी की शादी करा दो. मैं उसे शादीशुदा देखकर मरना चाहती हूं. 26 दिसंबर को उनकी बेटी की इंगेजमेंट होने वाली थी लेकिन उससे पहले ही उनकी तबीयत बिगड़ गई. इस कारण रविवार को उनकी बेटी की शादी करना मजबूरी बन गई.

शादी होने के महज दो घंटे बाद ही अपनी मां को खोने वाली चांदनी कुमारी ने बताया कि उनकी मां मगध मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में एएनएम के पद पर कार्यरत थीं और कोरोना काल से ही लगातार बीमार चल रही थीं. वह हृदय रोग से पीड़ित थीं. मां की इच्छा रखने के लिए अस्पताल में शादी की.

Tags: Bihar News in hindi, Gaya news

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)

READ More...  Air India फ्लाइटों में कितनी दारू परोसी जाती है? क्‍यों यात्रियों को नहीं रहता पेशाब का भी होश?