e0a4b8e0a4ace0a4b8e0a587 e0a4a8e0a4bfe0a49ae0a4b2e0a587 e0a4b8e0a58de0a4a4e0a4b0 e0a4aae0a4b0 e0a4aae0a4b9e0a581e0a482e0a49ae0a4be
e0a4b8e0a4ace0a4b8e0a587 e0a4a8e0a4bfe0a49ae0a4b2e0a587 e0a4b8e0a58de0a4a4e0a4b0 e0a4aae0a4b0 e0a4aae0a4b9e0a581e0a482e0a49ae0a4be 1

नई दिल्‍ली. डॉलर के मुकाबले रुपये मे रिकॉर्ड गिरावट आई है. सोमवार (13 जून) को भारतीय रुपया रिकॉर्ड लो पर बंद हुआ है. डॉलर के मुकाबले रुपया आज 0.38 फीसदी की कमजोरी के साथ 78.14 के स्तर पर खुला था. खुलने को बाद इसमें और गिरावट आई और यह 0.56 फीसदी की कमजोरी के साथ 78.28 के स्तर तक पहुंच गया. हालांकि बाद में भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के दखल के बाद रुपये की हालत कुछ सुधरी. आज दिन के कारोबार के अंत में डॉलर के मुकाबले रुपया 78.04 (Indian Rupee Price) के स्तर पर बंद हुआ. हालांकि दूसरे विकासशील देशों की करेंसी की तुलना में भारतीय रुपया अभी भी मजबूत है. लेकिन, जानकारों का कहना है कि फिलहाल इसमें गिरावट थमती नजर नहीं आ रही है.

मनीकंट्रोल डॉट कॉम की एक रिपोर्ट के मुताबिक इस साल अभी तक भारत की विनिमय दर दबाव में रही. रुपये के गिरने का मूल कारण जानकार कच्‍चे तेल की ऊंची कीमतों को मान रहे हैं. भारत अपनी ईंधन जरूरतों का लगभग 85 प्रतिशत आयात करता है. देश का क्रूड ऑयल बास्केट प्राइस एक दशक के उच्च स्तर पर पर पहुंच गया है.

ये भी पढ़ें- Cryptocurrency Prices Today: पिछले 5 दिन में बिटकॉइन 15 फीसदी और Ethereum 25 प्रतिशत नीचे आए

विदेशी फंडों की बिकवाली
रुपये में लगातार आ रही गिरावट का सबसे अहम कारण विदेशी फंडों की बिकवाली. भारतीय इक्विटी और बॉन्ड बाजारों से लगातार डॉलर  की निकासी हो रही है. ग्लोबल मार्केट में जोखिम से बचने की रणनीति के तहत विदेशी संस्थागत निवेशक (FII) भारतीय बाजार से लगातार अपने पैसे निकल रहे हैं. जनवरी के बाद से अब वे 24 अरब डॉलर निकाल चुके हैं. फॉरेक्‍स डीलरों का कहना कि अगर देश से डॉलर की निकासी इसी गति से जारी रहती है तो रुपया और गिर सकता है.

READ More...  Crude Import: भारत को और सस्ता मिल सकता है रूसी कच्चा तेल, यूरोपीय यूनियन ने रोका 90 फीसदी आयात

अमेरिकी ब्‍याज दरों में इजाफा
अमेरिका महंगाई से निपटने के लिए मौद्रिक नीति में आक्रामक रूप से बढ़ोतरी कर रहा है. आने वाले महीनों में अमेरिका ब्याज दरों में और इजाफा कर सकता है. बाजार का अनुमान है कि इस हफ्ते के अंत में होने वाली यूएस फेड की मीटिंग में ब्याज दरों में 0.75 फीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है. यूएस फेड की तरफ से बढ़ी ब्याज दरों से डॉलर असेट्स से मिलने वाला रिटर्न भारतीय इक्विटी बाजारों से मिलने वाले रिटर्न की तुलना में ज्यादा हो जाएगा. इस कारण डॉलर का प्रवाह अमेरिका की तरफ बढ़ रहा है. इससे रुपया कमजोर हो रहा है.

महंगाई
दुनिया भर में महंगाई बढ़ रही है. अमेरिका में महंगाई दर पिछले 40 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है. यूक्रेन संकट के कारण दुनिया में कमोडिटी के भाव बढ़ रहे हैं. कमोडिटी में आगे भी तेजी रहने की संभावना है. बढ़ती महंगाई से निपटने के लिए पूरी दुनिया के सेंट्रल बैंक ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर रहे हैं. ब्याज दरों में वृद्धि से  इकोनॉमी की ग्रोथ धीमी होती है. इससे मंदी की संभावना बन रही है. मंदी का यह भूत इक्विटी और करेंसी मार्केट पर भारी दबाव बना रहा है.

ये भी पढ़ें- लगातार कमजोर हो रही भारतीय करेंसी, क्यों गिर रहा रुपया और अब आगे क्या?

चालू खाते का बढ़ता घाटा
कमोडिटी की कीमतों में उछाल से भारत का चालू खाता घाटा बढ़ता जा रहा है. वित्त वर्ष 2022 में ये जीडीपी  का 2.7 फीसदी था.यह वित्त वर्ष 2021 की तुलना में 1.2 फीसदी ज्यादा था. जानकारों का मानना है कि भारत का वित्त वर्ष 2023 में चालू खाता घाटा बढ़कर जीडीपी का 3.5 फीसदी रहेगा. यह घाटा जितना बड़ा होगा, इसे भरने के लिए भारत को उतने ही डॉलर की जरूरत होगी. इससे रुपये पर और दबाव बढ़ेगा.

READ More...  Business Idea: शुरू करें कॉर्न फ्लेक्स का बिजनेस, रोजाना हो सकती है 4 हजार रुपये की कमाई

Tags: Dollar, Rupee weakness

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)