e0a4b8e0a4b0e0a4bfe0a4b8e0a58de0a495e0a4be e0a49fe0a4bee0a487e0a497e0a4b0 e0a4b0e0a4bfe0a49ce0a4b0e0a58de0a4b5 e0a4aee0a587e0a482
e0a4b8e0a4b0e0a4bfe0a4b8e0a58de0a495e0a4be e0a49fe0a4bee0a487e0a497e0a4b0 e0a4b0e0a4bfe0a49ce0a4b0e0a58de0a4b5 e0a4aee0a587e0a482 1

अलवर. राजस्थान के अलवर जिला स्थित सरिस्का टाइगर रिजर्व ​एरिया में 25 बाघ, 200 से ज्यादा तेंदुए और 200 से ज्यादा संख्या में लकड़बग्घे हैं. लेकिन, ऐसे कम ही मौके आते हैं जब पर्यटकों को चोटी के इन तीनों मांसाहारी जानवरों के ​एक ही दिन में दीदार हो जाये. जंगलों में विचरण करने वाले बाघ की तो सरिस्का में आसानी से साइटिंग हो जाती है. लेकिन, पहाड़ी क्षेत्रों व पहाड़ की तलहटी में विचरण करने वाले तेंदुआ और लकड़बग्घा कभी-कभार ही नजर आते हैं. ऐसे में सफारी में यदि एक की दिन यह तीनों दिख जाएं तो वो पर्यटकों को आनंदित व रोमांचित करने वाला होता है.

सरिस्का के नेचर गाइड लोकेश खंडेलवाल ने बताया कि बीते शनिवार की शाम पार्क में सफारी के दौरान अलग-अलग पॉइन्ट पर बाघ, पैंथर व हाइना की साइ​टिंग हुई. पर्यटकों ने तीनों मांसाहारी जानवारों को अपने कैमरे में कैद किया. उन्होंने बताया कि वो प्रतिदिन पर्यटकों को सफारी कराते हैं. लेकिन, ऐसा बहुत कम बार हुआ है जब इन तीनों जानवरों की एक ही दिन में साइटिंग हो पाती है.

असानी से हो रही बाघों की साइटिंग
लोकेश खंडेलवाल ने बताया कि इस मौसम में बाघों की साइटिंग आसानी से हो रही है. बाघ एसटी-15, बाघ-21, बाघिन एसटी-9, बाघिन एसटी-7 सहित अन्य टाइगर की साइटिंग आसानी से हो रही है. कई बार तो सफारी कराने वाली जिप्सी के सामने बाघ आ जाते हैं.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

READ More...  मथुरा के महमूदपुर गांव का नाम परिवर्तन, अब कहलाएगा परासौली

FIRST PUBLISHED : November 24, 2022, 14:02 IST

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)