e0a4b8e0a580e0a4b0e0a4bfe0a4afe0a4b2 e0a4aee0a587e0a482 e0a495e0a4bfe0a4b8e0a4bee0a4a8 e0a49ae0a4bee0a49ae0a580 e0a495e0a580
e0a4b8e0a580e0a4b0e0a4bfe0a4afe0a4b2 e0a4aee0a587e0a482 e0a495e0a4bfe0a4b8e0a4bee0a4a8 e0a49ae0a4bee0a49ae0a580 e0a495e0a580 1

(प्रियंक सौरभ)

मुजफ्फरपुर. बिहार के मुजफ्फरपुर की किसान चाची (Kisan Chachi) किसी परिचय की मोहताज नहीं हैं. कभी साइकिल चला कर खेती और महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने वाली पद्मश्री राजकुमारी देवी (Rajkumari Devi) उर्फ किसान चाची मुजफ्फरपुर ही नहीं, बल्कि पूरे बिहार (Bihar) की गौरव हैं. ऐसे में अब सीरियल के माध्यम से उनके जीवन पर आधारित कहानी दिखाई जा रही है. जी हां, मुजफ्फरपुर के सरैया की रहने वाली पद्मश्री किसान चाची के जीवन से जुड़ी कहानियों का प्रसारण सीरियल के माध्यम से किया जा रहा है. ओटीटी प्लेटफॉर्म (OTT Platform) MX Player पर कस्तूरी नाम से शो की शुरुआत छह जून को हुई है.

अपने ऊपर बनने वाले सीरियल को लेकर किसान चाची काफी खुश हैं. उनके जीवन के उतार-चढ़ाव के बारे अब दुनिया देखेगी, किसान चाची इस बात से काफी उत्साहित हैं.

पद्मश्री राजकुमारी देवी के जीवन से प्रेरित धारावाहिक कस्तूरी छह जून से सोमवार से शनिवार की रात को 8:30 बजे आजाद और एमएक्स प्लेयर पर प्रसारित किया जाएगा. पिछले दिनों पटना में इसको लेकर विशेष प्रेस कॉन्फ्रेंस की गई थी. इसमें धारावाहिक के निर्माता राजीव सिंह और चैनल हेड अनुज कपूर ने बताया था कि यह एक ऐसी महिला की सच्ची कहानी से प्रेरित है, जो जीवन जीने के लिए अपने तरीके से लड़ती है. जिस तरह से वो हमेशा चाहती थी. यह शो उसके संघर्ष, उसकी विफलता, उसकी सफलता, उसकी कभी न खत्म होने वाली भावना और सबसे महत्वपूर्ण बात, जीने के उसके दृढ़ संकल्प को दर्शाता है.

वहीं, किसान चाची कहती हैं कि मेरे जीवन से प्रेरित कस्तूरी सीरियल में मेरे जीवन के उतार-चढ़ाव को भी दिखाया जाएगा. इसका प्रसारण छह जून से हो रही है. एक आशावादी खट्टी-मीठी कहानी दर्शकों को बेहद पसंद आएगी. यह शो दर्शकों को ‘जीवन जीतने के लिए, हमें इसे पहले जीना होगा’ का संदेश देगा.

READ More...  क्रिकेट जगत के महान खिलाड़ी कहे जाने वाले, मोहम्मद शमी के समर्थन में सामने आए।

बता दें कि किसान चाची मुजफ्फरपुर जिले के सरैया की रहने वाली है. जिस दौर में महिलाएं घर से बाहर कदम रखने में कतराती थी, उस दौर में राजकुमारी देवी साइकिल से आती-जाती थीं और खेती-बाड़ी करती थीं. वैज्ञानिक विधि से खेती कर के कृषि के क्षेत्र में अलग नाम बनाने वाली किसान चाची राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों पद्मश्री सम्मान से सम्मानित हो चुकी हैं. वहीं, राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न मंचों पर उन्हें दर्जनों सम्मान मिला है. किसान चाची महिला उद्यमी के रूप में अपनी अलग पहचान बना चुकी हैं, इनके द्वारा तैयार किये गए विभिन्न प्रकार के अचारों की मांग देश भर में है.

Tags: Bihar News in hindi, Muzaffarpur news

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)