e0a4b9e0a4a8e0a581e0a4aee0a4bee0a4a8 e0a49ce0a4a8e0a58de0a4aee0a4b8e0a58de0a4a5e0a4b2 e0a4b5e0a4bfe0a4b5e0a4bee0a4a6 e0a4aae0a4b0
e0a4b9e0a4a8e0a581e0a4aee0a4bee0a4a8 e0a49ce0a4a8e0a58de0a4aee0a4b8e0a58de0a4a5e0a4b2 e0a4b5e0a4bfe0a4b5e0a4bee0a4a6 e0a4aae0a4b0 1

मुंबई. महाराष्ट्र में इन दिनों हनुमान चालीसा से लेकर हनुमान के जन्म स्थल तक का विवाद गहराया हुआ है. दरअसल, एक तरफ हिंदू धर्म गुरु द्वारा दावा किया जा रहा है कि कर्नाटक के किष्किंधा में हनुमान जी का जन्म स्थल है तो वहीं दूसरी तरफ दावा किया जा रहा है कि महाराष्ट्र के अंजनेरी में हनुमान जी का जन्म स्थल है. इसी कड़ी में महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल ने बयान दिया है. उन्होंने कहा कि इस पूरे देश मे इस तरह का एक वातावरण निर्माण करने का काम चल रहा है और महाराष्ट्र में भी हो रहा है. जो मुद्दा नहीं है उसे मुद्दा बनाकर पेश किया जा रहा. साथ ही और लोगों मे एक डर व मतभेद पैदा किया जा रहा है. हालांकि ये ठीक नही है इसे ज्यादा महत्व नही देना चाहिए. जो भक्ति करने वाले लोग हैं उनके लिए कोई फर्क नहीं पड़ता कि हनुमान जी का जन्म कहा हुआ, वो हनुमान जी के भक्त है तो हनुमान जी की भक्ति करते है.

मैंने कहा है कि कुछ लोगो का ये एजेंडा है मन्दिर मस्जिद और इसी के लिए ये सब किया जाता है. इसमें कोई लॉ एंड ऑर्डर कस प्रश्न निर्माण होने वाला नहीं है. एनसीपी की तरफ से कोई नाराजगी नही है. लेकिन कोई स्थानीय मुद्दे होते है और उसको लेकर कोई नाराजगी व्यक्त करता है तो कोई बात नही है लेकिन इन बातों का हल इकट्ठा बैठकर कर सकते है पब्लिकली ऐसे बयान देने चाहिए इसमे हम साथ मे बैठकर रास्ता निकालने की कोशिश करेंगे. मनसे द्वारा इसी मुद्दे पर एनसीपी को घेरने के सवाल पर उन्होंने मनसे पर ही तंज कसा की इसमे मनसे का क्या है कि उनका स्टैंड है.

READ More...  कश्मीरी पंडित की हत्या करने वाला आतंकी वानी का मकान होगा कुर्क, पिता और तीन भाई गिरफ्तार

बता दें कि मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हनुमानजी के जन्मस्थल होने का दावा केवल महाराष्ट्र और कर्नाटक में ही नहीं हो रहा. भारत में कुल 9 ऐसे स्थान हैं, जहां दावा किया जा रहा है कि हनुमानजी का जन्म वहां हुआ. जिसमें महाराष्ट्र के अंजनेरी, कर्नाटक के किष्किंधा, कर्नाटक के गोकर्ण, आंध्र प्रदेश के तिरूपति पर्वत, झारखंड के गुमला, हरियाणा के कैथल, गुजरात के डांग, राजस्थान के सुजानगढ़ व उत्तराखंड के देहरादून में हनुमानजी के जन्म स्थल होने का दावा किया जाता रहा है. बता दें कि इसी विवाद को सुलझाने के लिए महंत श्री मंडलाचार्य पीठाधीश्वर स्वामी अनिकेत शास्त्री देशपांडे महाराज ने 31 मई को नासिक में धर्म संसद बुलाया है. इस धर्म संसद में देश भर के सभी साधु-संत हिस्सा ले रहे हैं.

Tags: Dilip Walse Patil, Maharashtra

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)