e0a4b9e0a4bee0a482 e0a4a8e0a4be e0a49ae0a4b2e0a4a4e0a4be e0a4b0e0a4b9e0a4be e0a4b5e0a4bfe0a4b6e0a58de0a4b5e0a4bee0a4b8 e0a495
e0a4b9e0a4bee0a482 e0a4a8e0a4be e0a49ae0a4b2e0a4a4e0a4be e0a4b0e0a4b9e0a4be e0a4b5e0a4bfe0a4b6e0a58de0a4b5e0a4bee0a4b8 e0a495 1

हाइलाइट्स

कॉमनवेल्थ गेम्स फेडरेशन ने हाई जंपर तेजस्विन शंकर को बर्मिंघम में खेलने की अनुमति दी
तेजस्विन ने भारतीय टीम में जगह नहीं मिलने के बाद दिल्ली हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था
तेजस्विन के अलावा धाविका एमवी जिलना को भी भारतीय दल में शामिल करने की मंजूरी मिली

नई दिल्ली. भारतीय ओलंपिक सघ (आईओए) के अनुरोध पर कॉमनवेल्थ गेम्स फेडरेशन (सीजीएफ) ने शुक्रवार को हाई जंपर तेजस्विन शंकर को आगामी बर्मिंघम खेलों में भाग लेने की अनुमति दे दी. पिछले एक महीने से उनकी भागीदारी को लेकर संशय बना हुआ था. आयोजकों ने शुरू में तेजस्विन के देर से हिस्सा लेने की अर्जी खारिज कर दी थी. आईओए को अब सीजीएफ और बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्सों के आयोजकों से उनके प्रवेश की स्वीकृति मिल गई है. इसकी पुष्टि प्रतिनिधि पंजीकरण बैठक (डीआरएम) के बाद हुई.

23 साल के तेजस्विन ने भारतीय टीम में जगह नहीं मिलने के बाद दिल्ली हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. आईओए से जारी बयान के मुताबिक, ‘तेजस्विन शंकर की प्रविष्टि को सीजीएफ द्वारा अनुमोदित किया गया है और इसे डीआरएम के दौरान कॉमनवेल्थ गेम्स बर्मिंघम 2022 के खेल प्रवेश विभाग द्वारा स्वीकार किया गया है.’ तेजस्विन ने कहा, ‘मेरे पास बयां करने के लिए शब्द नहीं हैं, मैं खुश हूं या दुखी, मैं कुछ नहीं कह सकता. यह भावनाओं से भरा समय रहा है. मुझे अब तक विश्वास नहीं हो रहा है कि मुझे कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लेने के लिए हरी झंडी मिल गई है.’

इसे भी देखें, हमारे मेडलवीर: हिमाचल का शूटर जिसने कॉमनवेल्थ गेम्स में जीते 15 मेडल, अब कोच बनकर तराश रहा टैलेंट

READ More...  ENG vs NZ: विल यंग और डेवोन कॉनवे की शतकीय साझेदारी, न्यूजीलैंड के पास 238 रन की बढ़त

उन्होंने कहा, ‘मैं नहीं बता सकता कि मैं हैरान हूं या स्तब्ध. मेरे मामले को लेकर ‘हां और ना’ चलता रहा और ऐसा 5-6 बार हुआ. इसलिए इस पर विश्वास करना मुश्किल है.’ तेजस्विन के अलावा धाविका एमवी जिलना को भी भारतीय दल में शामिल करने की मंजूरी मिल गई है. चार गुणा 100 मीटर रिले टीम की इस सदस्य को भारतीय एथलेटिक्स संघ ने पहले 37वें सदस्य के तौर पर टीम में शामिल किया था लेकिन आईओए ने 36 खिलाड़ियों से अधिक की मंजूरी नहीं दी थी.

एएफआई के अधिकारियों ने इससे पहले ‘पीटीआई’ को बताया था कि जिलना को सेकर धनलक्ष्मी की जगह टीम में शामिल किया जाएगा. धनलक्ष्मी को 100 मीटर दौड़ के अलावा चार गुणा 100 मीटर रिले टीम में स्पर्धा करनी थी लेकिन वह डोप जांच में विफल रही है. इससे पहले कॉमनवेल्थ गेम्सों के आयोजकों ने आईओए को सूचित किया कि अंतिम समय में खिलाड़ी के प्रतिस्थापन (एलएआर) को उसी स्पर्धा में भाग लेने की अनुमति दी जाती है जिस स्पर्धा से खिलाड़ी हटा हो (इस मामले में चार गुणा 400 मीटर रिले में).

कॉमनवेल्थ गेम्स के आयोजकों ने आईओए के अनुरोध पत्र के जवाब में कहा कि एलएआर को टीम चयन के आधार पर खिलाड़ी बदलने के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता. कॉमनवेल्थ गेम्सों के आयोजकों के पत्र के अनुसार, ‘सीजीएफ संबंधित अंतरराष्ट्रीय महासंघ और सीजीएफ मेडिकल आयोग (जब सीजीएफ इसे उचित मानता है) से मशविरा करने के बाद एक ही खेल, स्पर्धा में किसी अन्य योग्य एथलीट को मंजूरी दे सकता है, जब असाधारण परिस्थितियां उत्पन्न हुई हों (जैसे चिकित्सीय परिस्थितियां, डोपिंग रोधी नियमों का उल्लंघन और अपील) जिससे खिलाड़ी बर्मिंघम 2022 में हिस्सा नहीं ले सकता हो.’

READ More...  Wimbledon 2022: युकी भांबरी और रामकुमार रामनाथन क्वालिफाइंग के पहले ही दौर में हारे

इसमें कहा गया, ‘…लेकिन दुर्भाग्य से यह मुद्दा चिकित्सा परिस्थितियों के बजाय ‘डिस्क्वालीफिकेशन’ का है जिससे इस अनुरोध को मंजूर नहीं किया जाएगा.’

Tags: Commonwealth Games, Cwg, Indian Olympic Association, Sports news

Article Credite: Original Source(, All rights reserve)